Tuesday, November 30, 2021
Homeदेश-समाजआजम खान के समधी का होटल हुआ सील, RDA ने की बड़ी कार्रवाई

आजम खान के समधी का होटल हुआ सील, RDA ने की बड़ी कार्रवाई

रिजवान मोहम्मद का यह प्लाजा होटल 1401 वर्ग मीटर में बना हुआ है, जिसका निर्माण सपा के सत्ता में रहने के दौरान हुआ था। होटल का उद्घाटन भी तत्कालीन नगर विकास मंत्री आजम खान द्वारा ही किया गया था।

समाजवादी पार्टी के रामपुर से सांसद आजम खान के समधी पर जिला प्रशासन ने कार्रवाई की है। यहाँ अनुमति से अधिक निर्माण कराने के मामले में आजम खान के समधी का होटल सील कर दिया गया है और साथ ही कंपाउंडिंग का नक्शा भी खारिज कर दिया है।

डायमंड रोड पर स्थित आजम खान के समधी रिजवान मोहम्मद के प्लाजा होटल पर हुई आरडीए की कार्रवाई से इलाके में खलबली मच गई है। रामपुर विकास प्राधिकरण के सचिव ने बताया कि होटल की इमारत को मानचित्र के विपरीत बनाया गया है, साथ ही यहाँ स्वीकृत नक्शे से भी अधिक निर्माण हुआ है, जिसकी जानकारी प्राधिकरण को भी नहीं दी गई।

खबरों के अनुसार आरडीए ने यह एक्शन तस्लीम खान की शिकायत पर लिया है। इस शिकायत के मद्देनजर ही गुरुवार (गुरुवार 4, 2019) को रामपुर विकास प्राधिकरण के सचिव बैजनाथ पुलिस फोर्स के साथ डॉयमंड रोड पहुँचे और जाँच के बाद पाया कि उन्हें सही जानकारी मिली है।

जाँच के बाद होटल के मालिक रिजवान को नोटिस जारी किया गया और कम्पाउंडिंग अर्थात समझौता करने के प्रार्थना पत्र को निरस्त करके, पूरा होटल सील कर दिया गया।

बता दें रिजवान मोहम्मद का यह प्लाजा होटल 1401 वर्ग मीटर में बना हुआ है, जिसका निर्माण सपा के सत्ता में रहने के दौरान हुआ था। होटल का उद्घाटन भी तत्कालीन नगर विकास मंत्री आजम खान द्वारा ही किया गया था।

प्लाजा होटल के मालिक और आजम खान के समधी का इस सीलिंग पर कहना है कि रामपुर में ऐसे अनगिनत होटल और भवन हैं, जो नक्शे के विपरीत हैं, लेकिन उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। उनका कहना है कि वह कंपाउंड/समझौता कराने के लिए भी तैयार थे, लेकिन ऐसा नहीं किया गया उनके मुताबिक आरडीए की यह कार्रवाई सिर्फ इसलिए की गई, क्योंकि वह आजम खान के समधी हैंं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe