RJD विधायक की भतीजी और उसके प्रेमी आसिफ़ की हत्या: रेप नहीं कर पाया तो दोस्त दानिश ने मारी गोली

दानिश ने बताया कि उसने पिस्तौल देने के बहाने दोनों को बुलाया, इसके बाद उसने अपने तीन दोस्तों के साथ रिया का बलात्कार करने की कोशिश की। आसिफ़ ने विरोध किया तो दानिश और उसके साथियों ने गोली मारकर दोनों की हत्या कर दी।

बिहार के मुंगेर में हुए दोहरे हत्याकांड की गुत्थी सुलझ गई है। पुलिस ने बताया है कि राजद विधायक विजय कुमार विजय की भतीजी रिया उर्फ़ ट्विंकल और उसके प्रेमी मोहम्मद आसिफ़ ने आत्महत्या नहीं की थी। दोनों की हत्या आसिफ के दोस्त दानिश ने अपने अन्य साथियों के साथ ​मिलकर की।

शुक्रवार (20 सितंबर) देर रात दोनों का शव मिला था। पुलिस के मुताबिक रिया के साथ बलात्कार करने में नाकाम होने के बाद आसिफ़ के दोस्त दानिश ने अपने अन्य साथियों के साथ मिल कर इस घटना को अंजाम दिया।

मुंगेर के पुलिस उपमहानिरीक्षक (आईजी) मनु महाराज ने कहा, “दानिश और उसके तीन अन्य दोस्तों ने रेप करने में नाकाम रहने के बाद रिया और आसिफ दोनों को गोली मार दी। दानिश ने आसिफ को फोन कर मिलने के लिए बुलया था। आसिफ और रिया साथ-साथ गए थे। वहॉं दानिश और उसके तीन अन्य दोस्तों ने फब्तियाँ कसी और रिया के साथ जबर्दस्ती करने की कोशिश की।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

न्यूज़ 18 की ख़बर के अनुसार,  घटना के बाद डीआईजी मनु महाराज, एसपी गौरव मंगला और एसएफएल की टीम ने घटनास्थल का घंटों मुआयना किया था। गोली मारने के तरीके से शक़ की सूई आत्महत्या से हत्या की ओर घूमने लगी। हत्‍याकांड के आरोपित दानिश से काफ़ी पूछताछ की गई, आख़िरकार उसने डबल मर्डर को अंजाम देने की बात स्वीकार कर ली।

इससे पहले, आसिफ़ का दोस्त दानिश शनिवार को पूरे दिन पुलिस को बरगलाता रहा, लेकिन डीआईजी द्वारा कड़ाई से की गई पूछताछ में उसने हत्या के कारणों का ख़ुलासा कर दिया। शुरुआत में दानिश ने बताया कि आसिफ़, रिया से प्यार करता था। तीन-चार दिन पहले आसिफ़ ने उससे एक पिस्टल लाने की बात कही थी क्योंकि रिया पिस्तौल चलाना सीखना चाहती थी। कड़ाई से पूछताछ के बाद दानिश ने बताया कि उसने पिस्तौल देने के बहाने दोनों को बुलाया, इसके बाद उसने अपने तीन दोस्तों के साथ रिया का बलात्कार करने की कोशिश की।

आसिफ़ ने रिया के साथ हो रही बदसलूकी का विरोध किया तो दानिश और तीन अन्य युवकों ने मिलकर आसिफ़ और रिया की गोली मारकर हत्या कर दी। दानिश के साथियों की तलाश जारी है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

ओवैसी, बाबरी मस्जिद
"रिव्यू पिटिशन पर जो भी फ़ैसला होगा, वो चाहे हमारे हक़ में आए या न आए, हमको वो फ़ैसला भी क़बूल है। लेकिन, यह भी एक हक़ीक़त है कि क़यामत तक बाबरी मस्जिद जहाँ थी, वहीं रहेगी। चाहे वहाँ पर कुछ भी बन जाए। वो मस्जिद थी, मस्जिद है... मस्जिद ही रहेगी।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

117,663फैंसलाइक करें
25,872फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: