Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाजरोशनी अली: हिंदू माँ और मुस्लिम अब्बा की बेटी, जिसकी याचिका पर कलकत्ता HC...

रोशनी अली: हिंदू माँ और मुस्लिम अब्बा की बेटी, जिसकी याचिका पर कलकत्ता HC ने दिवाली से पहले पटाखों पर लगाया प्रतिबंध

पर्यावरण के लिए चिंतित रोशनी अली गौमांस बड़े चाव से खाती हैं। उन्हें यह पता ही नहीं है कि खाद्य उत्पाद से सभी ग्रीनहाउस गैसों का लगभग 60% केवल माँसाहार से होता है।

कलकत्ता हाई कोर्ट ने शुक्रवार (29 अक्टूबर 2021) को दिवाली/काली पूजा के दौरान पूरे पश्चिम बंगाल में सभी प्रकार के पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया। रिपोर्टों के अनुसार, पटाखों पर प्रतिबंध राज्य में आने वाले अन्य सभी उत्सवों पर भी लागू होगा, जिनमें गुरु नानक जयंती, क्रिसमस और नए साल के जश्न शामिल हैं। एक ट्रैवलर सह फिल्म निर्मात्री रोशनी अली द्वारा अदालत में एक जनहित याचिका दायर किए जाने के बाद यह आदेश जारी किया गया।

गुरुवार (28 अक्टूबर 2021) को एक फेसबुक पोस्ट में, रोशनी अली ने पुष्टि की थी कि उन्होंने दिवाली से पहले पटाखों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाने के लिए कलकत्ता हाई कोर्ट के समक्ष एक जनहित याचिका (PIL) दायर की थी। उसने लिखा था, “मेरे वकील-मित्र रचित लखमनी मेरा समर्थन करेंगे और मेरी ओर से इस मामले में बहस करेंगे। शहर की वायु गुणवत्ता बहुत अस्वास्थकर है, पटाखों और सर्दियों की शुरुआत के साथ यह और भी खराब होना तय है। कृपया हमारे फेफड़ों को बचाने में मेरी मदद करें। कल हाई कोर्ट में हमारी सुनवाई है। मुझे शुभकामनाएँ दें और इसे शेयर करें।”

रोशनी अली के फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

हालाँकि यह पहली बार नहीं है जब रोशनी अली ने दिवाली के दौरान पर्यावरण सक्रियता की ओर रुख किया हो। 15 नवंबर, 2018 को एक फेसबुक पोस्ट में, रोशनी अली ने पटाखे जलाकर दिवाली मनाने वालों को ‘सर्टिफाइड इडियट्स’ बताया था। उसने दावा किया था, “इस सारे प्लास्टिक को धापा ले जाया जाएगा और जला दिया जाएगा। फिर, हम जहरीली हवा में साँस लेंगे। प्लीज उठो, जागो।”

रोशनी अली के फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

बीफ के प्रति प्रेम

तेजी से बदलती जलवायु के बारे में अपनी चिंताओं के बावजूद, रोशनी अली अपने फॉलोवर्स को बीफ स्टीक के लिए अपने प्यार के बारे में बताने से नहीं कतराती हैं। 7 साल पहले पोस्ट किए गए एक ट्वीट में उन्होंने लिखा था, “सीसीएफसी में बीफ स्टीक इतना अच्छा कभी नहीं लगा।” दिलचस्प बात यह है कि खाद्य उत्पादन से सभी ग्रीनहाउस गैसों का लगभग 60% केवल माँसाहार से होता है।

रोशनी अली के फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

सिर्फ दिवाली ही नहीं, अली ने अन्य हिंदू त्योहारों से पहले भी पर्यावरण संरक्षण की आड़ का सहारा लिया था। पिछले साल अगस्त में गणेश चतुर्थी के दौरान, उसने सुझाव दिया कि भगवान गणेश का उत्सव व्यर्थ है। इसके पीछे तर्क देते हुए उसका कहना था कि हर दिन हाथियों के साथ ‘दुर्व्यवहार’ किया जाता है।

रोशनी अली के फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

पिछले साल जन्माष्टमी के दौरान, उसने प्रोपेगेंडा फैलाया कि ‘क्रूरता- मुक्त दूध’ का आइडिया एक धोखा है और उसने हिंदुओं से शाकाहारी होने और प्लांट बेस्ड दूध पीने का आग्रह किया। उसने वर्तमान युग में और भगवान कृष्ण के शासनकाल के दौरान गाय के प्रति दृष्टिकोण में अंतर का हवाला देते हुए एक पोस्ट साझा किया था।

रोशनी अली के फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

‘हिंदू अपराधबोध’ को जगाना और ‘धर्मनिरपेक्ष साख’ का प्रदर्शन

अगस्त 2020 में भव्य राम मंदिर के ‘भूमि पूजन’ के दिन, रोशनी अली ने अपने हिंदू फॉलोवर्स के बीच ‘अपराधबोध’ की भावना पैदा करने के लिए फेसबुक का सहारा लिया। उसने बहुप्रतीक्षित हिंदू मंदिर के निर्माण को गलत बताने के लिए रवींद्रनाथ टैगोर की ‘दीनो दान’ नामक एक कविता शेयर की थी। हिंदू भावनाओं का मजाक उड़ाने के लिए भूमि पूजन के संदर्भ में इस कविता का इस्तेमाल करते हुए उसने दावा किया कि टैगोर की कविता एक दूरदर्शी लीडर की भविष्यवाणी थी।

रोशनी अली के फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

पिछले साल 5 अगस्त को, उसने एक ब्लॉग भी लिखा था, जिसका शीर्षक था, ‘#RamMandirAyodhya, सीता का अत्यंत अपमान।’ हालाँकि फिलहाल उसने अपने वेबसाइट से इस ब्लॉग को डिलीट कर दिया है।

रोशनी अली के फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

इसे फेसबुक पर शेयर करते हुए उसने लिखा था, ‘दक्षिण भारतीय उत्तर भारतीय एजेंडे से खतरा महसूस कर रहे हैं, ट्विटर पर #LandOfRavana ट्रेंड कर रहा है। इसी तरह इस्लामिक भावनाओं को ठेस पहुँची है। ट्विटर पर #ReturnBabrilandtoMuslims दोपहर से ट्रेंड कर रहा है। इस समय यह कहना थोड़ा मुश्किल है कि किस ट्विटर कैंपेन को राजनीतिक रूप से फंड दिया गया है।”

अली ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) का भी विरोध किया था, जिसमें 31 दिसंबर, 2014 से पहले भारत में अवैध रूप से रहने वाले तीन पड़ोसी देशों बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से सताए गए धार्मिक अल्पसंख्यकों की नागरिकता को तेजी से ट्रैक करने की माँग की गई थी।

रोशनी अली के फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

अली ने विविधता के प्रति अपनी सहिष्णुता और बहुलवाद की अवधारणा को प्रदर्शित करने के लिए अपने स्वयं के उदाहरण का हवाला दिया। उसने दावा किया था, “मैं कौन हूँ? मेरे पिता एक मुस्लिम थे, मेरी माँ एक हिंदू थीं। मेरी पूरी शिक्षा ईसाई धर्म से काफी प्रभावित रही है। पाकिस्तान और बांग्लादेश में मेरी मौसी हैं और मेरी दादी ब्रिटेन से थीं। मैंने सिल्वर बुद्धा पेंडेंट पहना हुआ है, जबकि मेरा पासपोर्ट कहता है कि मैं मुस्लिम हूँ। मैं हर हफ्ते काली मंदिर जाती हूँ, लेकिन मैं अपने ‘अली’ सरनेम से काफी प्यार करती हूँ, क्योंकि अपने पिता का मेरे पास बस यही बचा है।”

रोशनी अली के राजनीतिक विचार

रोशनी अली के फेसबुक और ट्विटर प्रोफाइल पर एक नज़र डालने से स्पष्ट रूप से उसका भाजपा और मोदी सरकार के खिलाफ रुख दिखता है। पिछले साल अगस्त में सुप्रीम कोर्ट ने वकील प्रशांत भूषण को कोर्ट की अवमानना का दोषी ठहराया था। यह मामला दो ट्वीट्स से संबंधित था, जिसमें प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट और विशेष रूप से सीजेआई बोबडे के खिलाफ आरोप लगाए थे। हालाँकि, अली ने शीर्ष अदालत की कार्रवाई को ‘अत्याचार’ करार दिया था।

रोशनी अली के फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

कश्मीर मुद्दे पर बोलते हुए, अली ने भारत में वामपंथी-इस्लामवादी बैंडवागन के रट्टू तोते जैसा जवाब दिया। एक फेसबुक यूजर को जवाब देते हुए उसने टिप्पणी की थी, “…कई कश्मीरियों ने इतना अन्याय और क्रूरता देखी है कि वे आजादी चाहते हैं। अगर हम अत्याचार के साथ शासन करते हैं तो हम खुद को लोकतंत्र नहीं कह सकते हैं।”

रोशनी अली के फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

रोशनी अली ने एक ‘प्रोपेगेंडा’ तस्वीर भी शेयर की थी, जिसे मूल रूप से ‘पत्रकार’ परंजॉय गुहा ठाकुरता ने पोस्ट किया था। इसके जरिए उसने यह बताने की कोशिश की कि सभी राजनीतिक नेताओं में से केवल ममता बनर्जी, जमीनी सर्वेक्षण में विश्वास करती हैं, जबकि अन्य हवाई सर्वेक्षण पर भरोसा करते हैं।

रोशनी अली के फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

उल्लेखनीय है कि दिवाली ‘रोशनी’ का त्योहार है, जो रावण को हराकर भगवान राम की लंका से अयोध्या वापसी की याद में मनाया जाता है। रोशनी अली ने पहले राम मंदिर के निर्माण का विरोध किया था, हिंदुओं में अपराध की भावना पैदा करने की कोशिश की थी और गणेश चतुर्थी और जन्माष्टमी के दौरान पर्यावरण संरक्षण का आड़ ली थी। ऐसे में यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि दिवाली से पहले अली की सक्रियता एक बार फिर तेज हो गई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Dibakar Dutta
Dibakar Duttahttps://dibakardutta.in/
Centre-Right. Political analyst. Assistant Editor @Opindia. Reach me at [email protected]

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -