Wednesday, November 30, 2022
Homeदेश-समाजकरवा चौथ के विज्ञापन में पति-पत्नी दोनों लड़की, नाराज़ हिन्दुओं ने Dabur से पूछा...

करवा चौथ के विज्ञापन में पति-पत्नी दोनों लड़की, नाराज़ हिन्दुओं ने Dabur से पूछा – ‘समलैंगिक’ ज्ञान देने के लिए हमारे ही त्योहार क्यों?

दोनों महिलाओं को छलनी की जाल की तरफ से चाँद को और फिर एक-दूसरे को देखते हुए दिखाया गया है। लोगों ने पूछा कि हमेशा इस तरह के प्रयोग हिन्दू त्योहारों के साथ ही क्यों किए जाते हैं?

डाबर कंपनी के एक विज्ञापन को लेकर सोशल मीडिया पर लोग नाराज़ हैं। ये विज्ञापन डाबर के प्रोडक्ट ‘फेम’ को लेकर है, जिसमें एक समलैंगिक जोड़े को ‘करवा चौथ’ का त्योहार मनाते हुए देखा गया है। लोगों का कहना है कि क्या त्योहारों को उसी रूप में नहीं रहने देना चाहिए, जिस रूप में हम उन्हें मनाते आ रहे हैं? साथ ही पूछा कि हमेशा हिन्दू त्योहारों से ही क्यों छेड़छाड़ की जाती है, मुस्लिम या ईसाई त्योहारों से क्यों नहीं?

दरअसल, डाबर के इस विज्ञापन में एक महिला दूसरी महिला को क्रीम लगाते हुए दिखाई दे रही है। इसके बाद वो कहती है, “ये लग गया तेरा फेम क्रीम गोल्ड ब्लीच।” इस पर दूसरी महिला जवाब देती है, “धन्यवाद! तुम सबसे अच्छी हो।” इसके बाद वो पूछती है कि करवा चौथ का इतना ‘कठिन व्रत’ क्यों रख रही हो? इस पर महिला जवाब देती है कि उनकी ख़ुशी के लिए। यही सवाल फिर पूछे जाने पर दूसरी महिला जवाब देती है कि उनकी लंबी उम्र के लिए।

इसके बाद एक अन्य महिला आकर कहती हैं कि ये उन दोनों का पहला करवा चौथ है। साथ ही वो दोनों को साड़ियाँ भी देती हैं। वो कहती है, “एकदम चाँद का टुकड़ा लगोगी दोनों।” फिर रात के समय दोनों महिलाओं को छलनी की जाल की तरफ से चाँद को और फिर एक-दूसरे को देखते हुए दिखाया गया है। रोजी नाम की ट्विटर यूजर ने पूछा कि हमेशा इस तरह के प्रयोग हिन्दू त्योहारों के साथ ही क्यों किए जाते हैं?

बता दें कि हाल के दिनों में कई ब्रांड्स ने हिन्दू त्योहारों का मजाक बनाते हुए विज्ञापन जारी किए हैं। फैबइंडिया ने दीपावली पर ‘जश्न-ए-रिवाज’ कैंपेन शुरू कर दीवाली का मजाक बनाया और इसके उर्दूकरण की कोशिश की। कंपनी ने कपड़ों के एक कलेक्शन के विज्ञापन में दीपावली को जश्न-ए-रिवाज बताया था। लेकिन सोशल मीडिया पर इसका लगातार विरोध होने के बाद उन्होंने इस हिंदू विरोधी विज्ञापन को हटा लिया।

इसी तरह CEAT टायर के विज्ञापन में बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान को स्कूली बच्चों को यह कहते हुए दिखाया गया, “सड़क गाड़ी चलाने के लिए है पटाखे जलाने के लिए नहीं है। सोसायटी में बम फोड़े, ताकि सड़क पर किसी को असुविधा ना हो।” भाजपा सांसद अनंत कुमार हेगड़े ने सिएट टायर्स (CEAT Tyres) के एमडी और सीईओ अनंत वर्धन गोयनका को पत्र लिख कर नमाज के लिए सड़कों को अवरुद्ध करने से लोगों को होने वाली परेशानियों को लेकर एक विज्ञापन जारी करने का आग्रह किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोता हुआ आम का पेड़, आरती के समय मंदिर में देवता को प्रणाम करने वाला ताड़ का वृक्ष… वेदों से प्रेरित था जगदीश चंद्र...

छुईमुई का पौधा हमारे छूते ही प्रतिक्रिया देता है। जगदीश चंद्र बोस ने दिखाया कि अन्य पेड़-पौधों में भी ऐसा होता है, लेकिन नंगी आँखों से नहीं दिखता।

‘मौलाना साद को सौंपी जाए निजामुद्दीन मरकज की चाबियाँ’: दिल्ली HC के आदेश पर पुलिस को आपत्ति नहीं, तबलीगी जमात ने फैलाया था कोरोना

दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस को तबलीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज की चाबी मौलाना साद को सौंपने की हिदायत दी। पुलिस ने दावा किया है कि वह फरार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,143FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe