Monday, November 29, 2021
Homeदेश-समाजशाहरुख़ ने साथियों संग मिल शिवसेना नेता को चाकू से मार डाला, तनाव के...

शाहरुख़ ने साथियों संग मिल शिवसेना नेता को चाकू से मार डाला, तनाव के बाद इलाक़े में कर्फ्यू

अचलपुर, फरवरा और सरमासपुरा थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगाया गया है। यह निर्णय दोनों समुदायों के बीच पत्थरबाजी के बाद लिया गया। कहा जा रहा है कि उनकी हत्या के बाद उपजे संघर्ष के बाद सैफ अली और अब्दुल अतीक नामक.....

महाराष्ट्र के अमरावती में शिवसेना नेता की हत्या के बाद तनाव उत्पन्न हो गया। जिले के कई ग्रामीण इलाक़ों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। शिवसेना नेता की हत्या के बाद दो समुदायों के बीच तनाव उत्पन्न हो गया, जिसके कारण 2 अन्य लोग भी मारे गए। परतवाड़ा क्षेत्र में शिवसेना नेता की चाकू घोंप कर हत्या कर दी गई। कहा जा रहा है कि शाहरुख़ नामक व्यक्ति से झगड़े के बाद उनकी हत्या की गई। शिवसेना नेताओं व स्थानीय लोगों का दावा है कि हत्यारे मुस्लिम समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। स्थानीय लोगों ने मुस्लिम समुदाय के 3 लोगों को गिरफ़्तार करने की माँग की है।

अचलपुर, फरवरा और सरमासपुरा थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगाया गया है। यह निर्णय दोनों समुदायों के बीच पत्थरबाजी के बाद लिया गया। मारे गए शिवसेना नेता का नाम शमा पहलवान नंदवंशी है। कहा जा रहा है कि उनकी हत्या के बाद उपजे संघर्ष के बाद सैफ अली और अब्दुल अतीक नामक दो मुस्लिम समुदाय के लोग भी मारे गए। रूरल एसपी ने कहा कि अभी स्थिति नियंत्रण में है। पुलिस ने 6 आरोपितों को हिरासत में लिया है लेकिन फ़िलहाल उनका नाम बताए जाने से इनकार किया जा रहा है।

ये घटना सोमवार (सितम्बर 30, 2019) की है, जब नंदवंशी पर परतवाड़ा के टिम्बर मार्केट में दिनदहाड़े चाकुओं से हमला कर दिया गया। कहा जा रहा है कि शाहरुख़ और नंदवंशी की पुरानी दुश्मनी थी। शाहरुख़ ने धोखे से मामले को ठीक करने के लिए उन्हें टिम्बर मार्केट में बुलाया। स्थानीय लोगों के अनुसार, जब शिवसेना नेता वहाँ पहुँचे तो मुगलईपुरा निवासी शाहरुख़ और उसके 5 साथियों ने उन पर हमला कर दिया। इस हमले में उनकी मौत हो गई, जिसके बाद समर्थक भड़क उठे।

आक्रोशित शिवसेना कार्यकर्ताओं ने जम कर विरोध प्रदर्शन किया। पुलिस ने कहा है कि आरोपितों की गिरफ़्तारी के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। इलाक़े में स्कूलों व कॉलेजों को 1 दिन के लिए बंद कर दिया गया है। एसआरपीएफ की टीम को मौके पर तैनात किया जा रहा है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जिनके घर शीशे के होते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते’: केजरीवाल के चुनावी वादों पर बरसे सिद्धू, दागे कई सवाल

''अपने 2015 के घोषणापत्र में 'आप' ने दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का वादा किया था। नौकरियाँ और कॉलेज कहाँ हैं?"

‘शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा, वो पहले ही 14 महीने से जेल में’: इलाहाबाद...

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा कि शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe