Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाज2 बार एबॉर्शन, धर्मांतरण का दबाव और मारपीट: गुजरात के हुसैन बलूच ने शादीशुदा...

2 बार एबॉर्शन, धर्मांतरण का दबाव और मारपीट: गुजरात के हुसैन बलूच ने शादीशुदा सिख महिला का किया रेप, अब्बा ने भी किया यौन शोषण

गुजरात के मुस्लिम युवक हुसैन बलूच पर सिख महिला को शादी का झाँसा देकर निकाह करने और उसे गर्भवती करके छोड़ देने का आरोप लगा है। खबर है कि मारपीट और धर्मान्तरण का दबाव झेलने वाली महिला का कई बार गर्भपात भी करवाया गया।

गुजरात के जामनगर से ग्रूमिंग जिहाद का मामला सामने आया है। यहाँ एक मुस्लिम युवक पर सिख महिला को शादी का झाँसा देकर निकाह करने और उसे गर्भवती करके छोड़ देने का आरोप लगा है। मारपीट और धर्मांतरण का दबाव झेलने वाली महिला का कई बार गर्भपात भी करवाया गया। आरोपित का नाम हुसैन बलूच है। हुसैन के साथ उसके अन्य परिजन और रिश्तेदार भी इस घटना में शामिल बताए गए हैं। पीड़िता मूलतः पंजाब की रहने वाली है। मामले की शिकायत गुरुवार (9 मई 2024) को की गई है। कुल 6 आरोपितों को नामजद करके पुलिस मामले की जाँच कर रही है।

यह घटना कच्छ के अंजार थानाक्षेत्र की है। यहाँ 9 मई को मूल रूप से पंजाब के होशियारपुर की रहने वाली सिख समुदाय की पीड़िता ने शिकायत दर्ज करवाई है। शिकायत में पीड़िता ने बताया कि वह शादीशुदा और 10 साल के एक बच्चे की माँ है। पति से अनबन की वजह से वह अकेली रहती है। महिला का भाई मकान बनाने और खरीदने-बेचने का काम करता है। पीड़िता इन मकानों से किराया आदि वसूलने का काम करती थी। जून 2021 में समीर नाम का मुस्लिम युवक अपनी बीवी के साथ महिला के भाई के घर में किराए पर रहने के लिए आया।

आरोप है कि परिचित होने के बाद समीर और उसकी बीवी अक्सर पीड़िता से किसी मुस्लिम युवक से निकाह करने के लिए कहने लगे। सितंबर 2021 में समीर का रिश्तेदार हुसैन बलूच उनके घर आया। हुसैन मूलतः गुजरात के ही जामनगर का रहने वाला बताया जा रहा है। समीर ने सिख महिला को हुसैन से मिलने के लिए बुलाया। आरोप है कि मुलाक़ात के बाद हुसैन ने पीड़िता से निकाह का प्रस्ताव रखा। अलग-अलग मजहब होने की वजह से इस प्रपोजल को महिला ने ठुकरा दिया।

कुछ दिनों बाद हुसैन बलूच पीड़िता को फोन करने लगा। इस बातचीत के दौरान उसने महिला को अपने प्यार के जाल में फँसाने के लिए बहुत कोशिश की। हुसैन ने कई बार अपनी तस्वीरें भी पीड़िता को भेजीं। इसके बावजूद महिला ने हुसैन को इस रिश्ते के लिए मना कर दिया। मना करने के बावजूद हुसैन ने पीड़िता को कॉल करना बंद नहीं किया। नवम्बर 2021 में हुसैन के कई बार बुलाने पर पीड़िता उसके घर गई। हुसैन ने पीड़िता को अपने परिवार से मिलाने का बहाना कर के बुलाया था। हालाँकि उसने महिला को 2 दिनों तक अपने घर में रोका और उसके साथ रेप किया।

बेटे को सिखाने लगा नमाज़ पढ़ना

दो दिनों के बाद महिला अपने घर पहुँची। उसने अपने परिवार में हुसैन से शादी की बात चलाई। पीड़िता के परिवार ने हुसैन के मुस्लिम होने की वजह से इंकार कर दिया। घर का विरोध देखते हुए पीड़िता अपने 10 वर्षीय बेटे को लेकर हुसैन के घर जामनगर पहुँच गई। यहाँ हुसैन ने खुद को मुस्लिम और पीड़िता को सिख बताते हुए शादी में अड़चन का बहाना बताया। उसने निकाह के लिए महिला के आगे इस्लाम कबूल करने की शर्त रखी। महिला का दावा है कि उसने धर्मांतरण से इंकार कर दिया तो हुसैन ने उसके साथ झगड़ा शुरू कर दिया।

वह महिला के बेटे को इस्लामी तौर-तरीके सिखाने लगा। उसे नमाज़ पढ़ने के लिए कहने लगा। जब पीड़िता के बेटे इससे इंकार किया तो उसकी पिटाई की गई। कुछ समय बाद हुसैन के अब्बा अकबर भी अपने बेटे के साथ रहने पहुँच गए। अकबर भी पीड़िता से छेड़खानी करने लगा। बाप-बेटे द्वारा मिल रही शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना से परेशान हो कर पीड़िता जामनगर में ही अलग कमरा लेकर रहने लगी। यहाँ भी आकर हुसैन उसे इस्लाम कबूल करने का दबाव देता रहा।

गर्भवती हुई तो करवा दिया एबॉर्शन

शिकायत में महिला ने बताया है कि वो पहली बार गर्भवती हुई तो हुसैन ने उसे गर्भपात की दवा खिला दी। आरोपों के मुताबिक पीड़िता का 2 बार एबॉर्शन करवाया गया। अक्टूबर 2022 में पीड़िता एक बार और प्रेग्नेंट हुई। इस बार हुसैन अपने भाई फ़िरोज़ और भाभी के साथ पीड़िता को अस्पताल ले। गया यहाँ उसने महिला का एबॉर्शन कराना चाहा तो पीड़िता ने मना कर दिया और घर लौट आई। पीड़िता द्वारा गर्भपात न करवाने पर हुसैन ने उसे बेरहमी से पीटा। आखिरकार परेशान होकर महिला मार्च 2023 में अपने भाई के घर लौट गई। पुलिस में शिकायत होने के डर से हुसैन भी पीछे-पीछे आया और पीड़िता को मना कर चुप करवाया।

निकाह से मुकरा हुसैन

जुलाई 2023 में पीड़िता ने एक बच्चे को जन्म दिया। उसने हुसैन को निकाह के लिए कहा। हुसैन ने पीड़िता द्वारा गर्भपात न करवाने से खुद को नाराज बताया और निकाह से इंकार कर दिया। जब हुसैन के अन्य परिजनों से इस करतूत की शिकायत हुई तो उन्होंने भी कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया। आख़िरकार 9 मई 2024 को पीड़िता ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई। पीड़िता ने अपनी प्रताड़ना को बताते हुए एक वीडियो भी जारी किया है। वीडियो में उसने आरोपितों पर खुद को जान से मार डालने की धमकी देने के साथ 9 से 10 लाख रुपए हड़प लेने का भी आरोप लगाया है।

6 आरोपितों पर नामजद FIR

पीड़िता ने वीडियो में यह भी कहा है कि हुसैन बलूच ने उनकी तरह कई अन्य हिन्दू लड़कियों को भी अपने झाँसे में लेकर बहका रखा है। रुपए लिए गए हैं। इसके अलावा उन्होंने यह भी आरोप लगाया है कि हुसैन ने अन्य हिंदू लड़कियों को भी बहका रखा है। पुलिस ने इस शिकायत पर हुसैन के साथ समीर, समीर की बीवी, हुसैन के भाई फ़िरोज़ और भाभी, हुसैन के अब्बा अकबर को नामजद किया है। इन सभी पर IPC की धारा 376(2)(एन), 328, 354, 323 और 114 और किशोर न्याय अधिनियम की धारा 83 के तहत कार्रवाई की गई है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक मामले का संज्ञान गुजरात के गृहराज्य मंत्री हर्ष सांघवी ने भी मामले का संज्ञान लिया है। उन्होंने इस केस को क्राइम ब्रांच (LCB) को ट्रांसफर कर दिया है। फिलहाल पुलिस मामले की जाँच और अन्य कानूनी कार्रवाई कर रही है। ऑपइंडिया के पास FIR कॉपी मौजूद है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लोकसभा में ‘परंपरा’ की बातें, खुद की सत्ता वाले राज्यों में दोनों हाथों में लड्डू: डिप्टी स्पीकर पद पर हल्ला कर रहा I.N.D.I. गठबंधन,...

कर्नाटक, तेलंगाना और हिमाचल प्रदेश में कॉन्ग्रेस ने अपने ही नेता को डिप्टी स्पीकर बना रखा है विधानसभा में। तमिलनाडु में DMK, झारखंड में JMM, केरल में लेफ्ट और पश्चिम बंगाल में TMC ने भी यही किया है। दिल्ली और पंजाब में AAP भी यही कर रही है। लोकसभा में यही I.N.D.I. गठबंधन वाले 'परंपरा' और 'परिपाटी' की बातें करते नहीं थक रहे।

शराब घोटाले में जेल में ही बंद रहेंगे दिल्ली के CM केजरीवाल, हाई कोर्ट ने जमानत पर लगाई रोक: निचली अदालत के फैसले पर...

हाई कोर्ट ने कहा कि निचली अदालत ने मामले के पूरे कागजों पर जोर नहीं दिया जो कि पूरी तरह से अनुचित है और दिखाता है कि अदालत ने मामले के सबूतों पर पूरा दिमाग नहीं लगाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -