Saturday, May 25, 2024
Homeदेश-समाज'निर्भया के दोषियों को 16 दिसंबर को ही फाँसी दो या फिर मुझे...

‘निर्भया के दोषियों को 16 दिसंबर को ही फाँसी दो या फिर मुझे इच्छामृत्यु दे दो’

“निर्भया कांड के 7 साल बीत जाने के बाद आज भी ये दिल्ली घूरती है, महिलाओं का शोषण करती है। वक़्त आ गया है, साथ मिलकर निर्भया के गुनहगारों को उनके गुनाहों की सजा उसी दिन दिलवाएँ जिस दिन उन्होंने देश की बेटी के आबरू को तार-तार किया था।”

निर्भया गैंगरेप केस के चारों दोषियों को फाँसी पर लटकाने की तैयारी शुरू हो चुकी है। बताया जा रहा है कि 16 दिसंबर को फाँसी दी जा सकती है। तिहाड़ जेल प्रशासन ने तख्त तैयार करके एक डमी का ट्रायल किया है। हालाँकि अभी तक फाँसी देने को लेकर जेल प्रशासन के पास कोई लेटर नहीं आया है।

इस बीच पीपुल्स अगेंस्ट रेप इन इंडिया (PARI) की संस्थापक और निर्भया केस की पैरोकार योगिता भयाना ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर गुहार लगाई है कि इस केस के दोषियों को 16 दिसंबर को ही फाँसी दी जाए, अन्यथा उन्हें इच्छामृत्यु की इजाजत दी जाए। उन्होंने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “मैंने माननीय राष्ट्रपति जी से इच्छामृत्यु की इजाजत माँगी है। निर्भया कांड को लगभग 7 साल हो चुके हैं। अभी तक न्याय नहीं मिला। मुझे शर्म और बेबसी महसूस होती है। 16 दिसंबर को ही निर्भया के दोषियों को फाँसी मिलनी चाहिए, अन्यथा मुझे इच्छामृत्यु की इजाजत दें।”

बता दें कि योगिता इस केस में न्याय दिलाने के लिए शुरू से ही जुड़ी रही हैं। वो निर्भया आंदोलन के जरिए लगातार मृत्युदंड की माँग करती रही हैं। उनका कहना है कि इस तरह के मामलों में न्याय मिलने का वक्त तय किया जाए। अगर फास्ट ट्रैक कोर्ट में सात साल का वक्त लगेगा तो सामान्य केस में क्या होगा। जबकि इस केस को पूरी दुनिया जानती है। पूरा देश पीड़ित परिवार के साथ इंसाफ के लिए खड़ा हुआ था।

उन्होंने एक अन्य ट्ववीट करते हुए लिखा, “निर्भया कांड के 7 साल बीत जाने के बाद आज भी ये दिल्ली घूरती है, महिलाओं का शोषण करती है। वक़्त आ गया है, साथ मिलकर निर्भया के गुनहगारों को उनके गुनाहों की सजा उसी दिन दिलवाएँ जिस दिन उन्होंने देश की बेटी के आबरू को तार-तार किया था।”

भयाना ने इससे पहले तिहाड़ जेल प्रशासन को पत्र लिखा था। इसमें उन्होंने कहा था कि यदि जल्लाद नहीं मिल रहा है तो दोषियों को फाँसी देने के लिए वो जल्लाद बनने को तैयार हैं, लेकिन सिर्फ एक जल्लाद की वजह से निर्भया केस के दोषियों की फाँसी देने में देर नहीं होनी चाहिए। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, “मैं इन दरिंदों को खुद फाँसी देने के लिए बिना किसी भय और बिना किसी शर्त के तैयार हूँ। मुझे मौका दें, उन हैवानों को फाँसी देने के लिए मैं तैयार हूँ। निर्भया के न्याय के लिए लड़ने वाली मेरी लंबी लड़ाई का यह सुखद अंत होगा।”

योगिता का कहना है कि इससे पुराने और जघन्य मामलों में भी अब तक न्याय नहीं मिला है। आखिर बेटियाँ कैसे सुरक्षित रहेंगी। रेपिस्ट लगातार फाँसी पर लटकाए जाएँगे तभी रेप बंद होगा। रेप के मामले में अंतिम फाँसी 2003 में हुई थी। इसीलिए रेप की घटनाएँ रुक नहीं रही हैं। डर खत्म हो गया है। यदि 16 दिसंबर को फाँसी होगी तो निर्भया को हम सबकी सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

निर्भया के हत्यारों को फाँसी देने का तख्त तैयार: 100 किलो की डमी के साथ ‘लटकाने’ का ट्रायल शुरू

गंगा किनारे स्थित इस जेल में तैयार हो रही 10 रस्सियाँ, फाँसी के फंदे पर झूलेंगे निर्भया के गुनहगार?

निर्भया के बलात्कारियों को फाँसी देने के लिए जल्लाद की आवश्यकता: लोगों ने कहा- मुझे बुला लो, फ्री में करेंगे

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

18 साल से ईसाई मजहब का प्रचार कर रहा था पादरी, अब हिन्दू धर्म में की घर-वापसी: सतानंद महाराज ने नक्सल बेल्ट रहे इलाके...

सतानंद महाराज ने साजिश का खुलासा करते हुए बताया, "हनुमान जी की मोम की मूर्ति बनाई जाती है, उन्हें धूप में रख कर पिघला दिया जाता है और बच्चों को कहा जाता है कि जब ये खुद को नहीं बचा सके तो तुम्हें क्या बचाएँगे।""

‘घेरलू खान मार्केट की बिक्री कम हो गई है, इसीलिए अंतरराष्ट्रीय खान मार्केट मदद करने आया है’: विदेश मंत्री S जयशंकर का भारत विरोधी...

केंद्रीय विदेश मंत्री S जयशंकर ने कहा है कि ये 'खान मार्केट' बहुत बड़ा है, इसका एक वैश्विक वर्जन भी है जिसे अब 'इंटरनेशनल खान मार्केट' कह सकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -