Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाज'कमर और नितंब का आकार बताओ': अजमेर के सोफिया स्कूल का फरमान, इसी स्कूल...

‘कमर और नितंब का आकार बताओ’: अजमेर के सोफिया स्कूल का फरमान, इसी स्कूल की छात्राएँ थी देश के सबसे बड़े सेक्स स्कैंडल की पीड़िताएँ

अजमेर के सोफिया सीनियर सेकेंडरी स्कूल में 2500 से ज्यादा बच्चे पढ़ाई करते हैं। इन सभी बच्चों को 7 दिन पहले हेल्फ और एक्टिविटी कार्ड के नाम से एक फॉर्म भरने को दिया गया।

अजमेर का सोफिया स्कूल एक बार फिर से चर्चा में है। जयपुर रोड पर स्थित सोफिया स्कूल ने सभी छात्राओं से उनके हिप्स और वेस्ट (कमर और नितंबों) का आकार पूछा है। ऐसा उसने स्पोर्ट्स एक्टिविटीज के नाम पर किया है। खास बात ये है कि बच्चों से मेडिकल सर्टिफिकेट भी माँगा गया है। दावा किया गया है कि ऐसा इसीलिए किया गया, क्योंकि उनके शरीर के हिसाब से खेलों में शामिल किया जा सके। सोफिया स्कूल की इस हरकत पर परिजनों ने नाराजगी जताई है, वहीं स्कूल का कहना है कि ऐसा पहली बार नहीं है बल्कि वो हर साल ये डाटा इकट्ठा करता रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अजमेर के सोफिया सीनियर सेकेंडरी स्कूल में 2500 से ज्यादा बच्चे पढ़ाई करते हैं। इन सभी बच्चों को 7 दिन पहले हेल्फ और एक्टिविटी कार्ड के नाम से एक फॉर्म भरने को दिया गया। इसमें खेलों के नाम लिखे थे और नीचे की तरफ हेल्थ रिकॉर्ड के कॉलम में बिजन, कान, दाँत के साथ पल्स रेट, हाइट और हिप्स व वेस्ट का नाप भी बताना था। इस फॉर्म की वजह से बच्चे पशोपेश में हैं।

परिजनों का पूछना है कि स्कूल बच्चों की निजी जानकारी क्यों माँग रहा है? अभिभावक कह रहे हैं कि लंबाई, वजन ये सब चीजें सामान्य है, लेकिन हिप्स का साइज क्यों? स्कूल में स्पोर्ट्स एक्टिविटी के नाम पर ये क्या हो रहा है? उनका कहना है कि बच्चों को इस फॉर्म के हिसाब से मेडिकल रिपोर्ट भी जमा करनी है, जिसके लिए उन्हें अस्पतालों के चक्कर काटने पड़ रहे हैं।

सोफिया स्कूल द्वारा जारी फॉर्म का नमूना देखिए:

सोफिया स्कूल द्वारा जारी फॉर्म का नमूना, जिसमें वेस्ट और हिप्स का साइज पूछा गया है। (फोटो साभार-भास्कर)

‘दैनिक भास्कर’ से बातचीत में स्कूल के प्रतिनिधि सुधीर तोमर ने बताया है कि इस फॉर्म का मकसद बॉडी मास्क इंडेक्स निकालना है, ताकि बच्चों को उनके शरीर के हिसाब से खेलों में शामिल जाए। ऐसा करने से उन्हें ही फायदा होगा। ये सभी जानकारियाँ डॉक्टर की रिपोर्ट पर आधारित होंगी। सोफिया स्कूल के बारे में बता दें कि ये अजमेर सेक्स स्कैंडल के समय भी चर्चा में रहा था। 80 के दशक के उत्तरार्ध और 90 के दशक की शुरुआत में ये मामला सामने आया था, जिसमें बलात्कारियों में दरगाह के चिश्ती परिवार के लोग और कॉन्ग्रेस नेताओं के नाम सामने आए।

याद दिला दें कि फारूक चिश्ती ने सोफिया सीनियर सेकंडरी स्कूल की एक लड़की को शिकार बना कर इस काण्ड की शुरुआत की थी, और बाद में वो बाद में अदालतों में खुद को मानसिक रूप से अस्वस्थ साबित कराने में सफल हो गया। इसके बाद उस लड़की की दोस्तों को शिकार बनाया गया और इस तरह चेन जुड़ता चला गया और कई लड़कियाँ बलात्कार-ब्लैकमेलिंग के इस प्रकरण का शिकार हुईं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -