Thursday, April 15, 2021
Home देश-समाज सदियों पुरानी मूर्तियाँ और कलाकृतियाँ पड़ी हुई हैं सरकारी दफ्तर में कूड़े की तरह,...

सदियों पुरानी मूर्तियाँ और कलाकृतियाँ पड़ी हुई हैं सरकारी दफ्तर में कूड़े की तरह, म्यूजियम ने रखने से कर दिया मना

ये कलाकृतियाँ आइडल विंग पुलिस द्वारा सालों से मारी जा रही छापेमारी में बरामद हुई हैं। इनमें करीब 800 से ऊपर पत्थर की मूर्तियाँ हैं, जिन्हें आइडल विंग पुलिस ने...

एक समय में तमिलनाडु के अलग-अलग मंदिरों से चुराई गई मूर्तियाँ और कलाकृतियाँ इस समय कई सौ की तादाद में चेन्नै के गुइंडी स्थित सीबीआई-सीआईडी की आर्थिक अपराध शाखा (Economic Offence Wing ) के परिसर में खुली पड़ी हुई हैं।

इनमें से कुछ मूर्तियाँ लकड़ी से निर्मित हैं तो कुछ तांबे, पत्थर और अन्य धातुओं से। प्राप्त जानकारी के मुताबिक इन्हें तमिलनाडु सरकार की आइडल विंग द्वारा जगह-जगह से बरामद किया गया है। जिसका दफ्तर (आइडल विंग) सीबीआई-सीआईडी की EOW के भवन में ही स्थित है।

रिपोर्ट के अनुसार इन कलाकृतियों में सदियों पुरानी मूर्तियाँ, पत्थर के खंभे, लकड़ी से बने वाहन, रथ आदि जैसी प्राचीन वस्तुएँ हैं। जिन्हें भवन के परिसर में खुली जगह पर बिन किसी खास देख-रेख के कूड़े की तरह फेंक दिया गया। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इन अमूल्य वस्तुओं को जिस जगह पर एक के ऊपर एक करके रखा गया है, उस जगह में और अद्यार (ADYAR) नदी के बीच केवल एक दीवार का अंतर है।

इसके अलावा रिपोर्ट में इस बात का भी उल्लेख है कि ये कलाकृतियाँ आइडल विंग पुलिस द्वारा सालों से मारी जा रही छापेमारी में बरामद हुई हैं। इनमें करीब 800 से ऊपर पत्थर की मूर्तियाँ हैं, जिन्हें आइडल विंग पुलिस ने साल 2016 में अलवरपेट के जी दीनदयालन नामक एक व्यवसायी के गोदाम से बरामद किया था।

इसके बाद चेन्नैई से थोड़ी दूर कुच्चीकादु में दीनदयालन के साथी के पास से भी लकड़ी की 200 कलाकृतियाँ बरामद हुई थीं। जिसकी छापेमारी एजी पॉन मनीकावेल (AG Pon Manickavel ) के इंस्पेक्टर जनरल रहते हुए हुई थी।

द हिंदू की रिपोर्ट्स के अनुसार, इन कलाकृतियों को उनके स्वामियों या संरक्षकों को सौंपने के लिए कई न्यायिक और ब्यूरोक्रेटिक परेशानियाँ हैं। जिस कारण इन्हें बिना कोर्ट की सुनवाई पूरे हुए नहीं दिया जा सकता। आइडल विंग ने किसी तरह की भी न्यायिक प्रक्रिया पूरी होने तक इन कलाकृतियों को संभाले रखने के लिए अपने दफ्तर के परिसर में रखा हुआ है।

जानकारी के लिए बता दें कि इस अभियान के तहत प्रसिद्ध कल्लिडईकुरुचि (Kallidaikurichi) की नटराज मूर्ति भी ऑस्ट्रेलिया वापस लाकर श्री कुलासेकरनमुद्दैयर मंदिर (Sri Kulasekaramudaiyar) को लौटा दी गई है। और तनजवुर भ्रिहादीशवर मंदिर की मूर्तियाँ भी साराभाई म्यूजियम से मंगवा ली गई हैं। जबकि बाकी सभी कलाकृतियाँ अब भी अपनी न्यायिक प्रक्रिया पूरी होने के इंतजार में हैं, ताकि उनकी कस्टडी उनके संरक्षकों को सौंपी जा सके।

बता दें कि AG Pon Manickavel को उनकी रिटायरमेंट के बाद आइडल विंग का स्पेशल ऑफिसर बनाया गया था। जिसके बाद उनके निर्देशों में ये छापेमारियाँ हुई। लेकिन, चेन्नई के एग्मोर स्थित सरकारी म्यूजियम ने इन कलाकृतियों को रखने के लिए मना कर दिया और अन्य जगहों पर भी कागजी कार्रवाइयों के कारण अटकी हुई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

द प्रिंट की ‘ज्योति’ में केमिकल लोचा ही नहीं, हिसाब-किताब में भी कमजोर: अल्पज्ञान पर पहले भी करा चुकी हैं फजीहत

रेमेडिसविर पर 'ज्ञान' बघार फजीहत कराने वाली ज्योति मल्होत्रा मिलियन के फेर में भी पड़ चुकी हैं। उनके इस 'ज्ञान' के बचाव में द प्रिंट हास्यास्पद सफाई भी दे चुका है।

सुशांत सिंह राजपूत पर फेक न्यूज के लिए AajTak को ऑन एयर माँगनी पड़ेगी माफी, ₹1 लाख जुर्माना भी: NBSA ने खारिज की समीक्षा...

AajTak से 23 अप्रैल को शाम के 8 बजे बड़े-बड़े अक्षरों में लिख कर और बोल कर Live माफी माँगने को कहा गया है।

‘आरोग्य सेतु’ डाउनलोड करने की शर्त पर उमर खालिद को जमानत, पर जेल से बाहर ​नहीं निकल पाएगा दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों का...

दिल्ली दंगों से जुड़े एक मामले में उमर खालिद को जमानत मिल गई है। लेकिन फिलहाल वह जेल से बाहर नहीं निकल पाएगा। जाने क्यों?

कोरोना से जंग में मुकेश अंबानी ने गुजरात की रिफाइनरी का खोला दरवाजा, फ्री में महाराष्ट्र को दे रहे ऑक्सीजन

मुकेश अंबानी ने अपनी रिफाइनरी की ऑक्सीजन की सप्लाई अस्पतालों को मुफ्त में शुरू की है। महाराष्ट्र को 100 टन ऑक्सीजन की सप्लाई की जाएगी।

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,224FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe