Thursday, May 30, 2024
Homeदेश-समाजउत्तराखंड: देवप्रयाग में बादल फटने से मची तबाही, आईटीआई भवन सहित कई दुकानें ध्वस्त,...

उत्तराखंड: देवप्रयाग में बादल फटने से मची तबाही, आईटीआई भवन सहित कई दुकानें ध्वस्त, लॉकडाउन की वजह से बचे लोग

टिहरी जिले के देवप्रयाग में बादल फटने से कई दुकानें और घरों को नुकसान पहुँचा है। हालाँकि अभी तक किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।

उत्तराखंड के देवप्रयाग में बादल फटने से आज मंगलवार (मई 11, 2021) को भारी तबाही की खबरें हैं। न्यूज एजेंसी एएनआई ने देवप्रयाग एसएचओ एमएस रावत के हवाले से ये जानकारी दी। एसएचओ ने बताया कि आज शाम पाँच बजे बादल फटने की खबर मिली। इसमें 12-13 दुकानें और अन्य संपत्ति को नुकसान पहुँचा है। उन्होंने कहा कि चूँकि लॉकडाउन के चलते अधिकतर दुकानें बंद थीं इसलिए किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। हालाँकि यहाँ जल स्तर बढ़ रहा है और बचाव अभियान जारी है।

वहीं राज्य के डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि टिहरी जिले के देवप्रयाग में बादल फटने से कई दुकानें और घरों को नुकसान पहुँचा है। हालाँकि अभी तक किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। उन्होंने कहा कि एसडीआरएफ टीमें बचाव अभियान में जुटी हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बादल फटने से यहाँ आईटीआई भवन भी ध्वस्त हो गया। दरअसल, शाम पाँच बजे दशरथ आँचल पर्वत पर बादल फटा जिससे शांता गदेरा उफान पर आ गया और मलबा आने से प्रमुख बाजार की कई दुकानें क्षतिग्रस्त हो गईं।

खबर के मुताबिक संगम बाजार का रास्त भी बंद हो गया है। एक अच्छी बात ये है कि यहाँ कोरोना वायरस के चलते लोगों की आवाजाही बंद थी, इसलिए जानमाल की हानि ना होने की संभावना है। हालाँकि बचाव दल भी घटनास्थल पर पहुँच गया है। इस बीच सोशल मीडिया में घटना का वीडियो वायरल हो रहा है।

गौरतलब है कि इससे पहले उत्तराखंड के चमोली में बिनसर इलाके में ग्लेशियर फटने से भारी तबाही मची थी। कई लोगों के साथ, कई दुकानें इस हादसे में तबाह हो गए थे। इलाके में कई दिनों से लगातार बारिश के चलते बरसाती गदेरे भी उफान पर हैं।

बता दें कि विगत सात फरवरी को उत्तराखंड के चमोली जिले में आपदा आ गई थी। आपदा में कुल 206 लोग लापता हुए थे। ऋषिगंगा और धौली गंगा में आई भीषण आपदा से ऋषिगंगा प्रोजेक्ट पूरी तरह से तहस-नहस हो गई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -