Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाज110 दिन में 200 उड़ान, दिन में 4-4 बार लेता था फ्लाइट… हवाई जहाज...

110 दिन में 200 उड़ान, दिन में 4-4 बार लेता था फ्लाइट… हवाई जहाज से चुराता था गहने-पैसे, दिल्ली में खोल रखा है गेस्ट हाउस: जानिए कैसे पुलिस के चढ़ा हत्थे

पुलिस की पूछताछ में राजेश कपूर ने अपना गुनाह कबूल कर लिया। राजेश ने कुल 5 ऐसे मामले बताए जहाँ उसने उड़ानों में चोरियाँ की थीं। इन चोरियों से मिले पैसे राजेश ने ऑनलाइन और ऑफ़लाइन जुआ खेला। पुलिस ने और खोजबीन की तो राजेश कुल 11 अपराधों में शामिल निकला।

दिल्ली पुलिस ने सोमवार (13 मई, 2024) को हवाई जहाज़ों में चोरी करने वाले एक चोर को गिरफ्तार किया है। चोर का नाम राजेश कपूर है जिसकी उम्र 40 साल है। राजेश पिछले 19 वर्षों से चोरी करता आ रहा था। वह पहले ट्रेनों में चोरी करता था। राजेश के निशाने पर खासतौर पर बुजुर्ग महिलाएँ हुआ करती थीं। वह बोर्डिंग के दौरान उनके हैंडबैग को चुराया करता था। राजेश के निशाने पर खासतौर पर बुजुर्ग महिलाएँ हुआ करती थीं। वह बोर्डिंग के दौरान उनके हैंडबैग को चुराया करता था। आरोपित चोरी के इरादे से लगभग 200 उड़ानों में यात्रा कर चुका है। वो पहाड़गंज में ‘रिक्की डीलक्स’ नाम से गेस्ट हाउस भी चलाता है।

राजेश कपूर की गिरफ्तारी की पुष्टि दिल्ली पुलिस की DCP IGI उषा रंगनानी ने की है। सोमवार को उन्होंने इस बाबत एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने बताया कि पिछले 3 माह के अंदर इंदिरा गाँधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से चोरी के 3 मामले आए। इसमें से पहला केस 2 फरवरी 2024 का था। तब अमृतसर से दिल्ली की यात्रा के दौरान एक यात्री के 20 लाख के आभूषण चोरी हो गए थे। एक अन्य केस में 11 अप्रैल को हैदराबाद से दिल्ली जा रही फ्लाइट में एक यात्री का 7 लाख रुपए मूल्य का आभूषण चोरी हो गया था।

इन केसों का खुलासा करने के लिए दिल्ली पुलिस ने एक विशेष टीम का गठन किया। हवाई अड्डे की CCTV और जिन विमानों में चोरियाँ हुई थीं उनके यात्रियों की जानकारियाँ जुटाई गईं। इनमें एक यात्री को चिह्नित किया गया जो दोनों उड़ानों में मौजूद था। संदिग्ध का नाम राजेश कपूर निकला। जब एयरलाइंस से राजेश का नंबर निकाला गया तो वह फर्जी मिला। पुलिस ने प्रयास कर के राजेश कपूर का असली नंबर खोज निकाला। आरोपित को करोल बाग़ इलाके से हिरासत में ले लिया गया जहाँ वो चोरी के आभूषण किसी शरद जैन नाम के व्यक्ति को बेचने आया था।

पुलिस की पूछताछ में राजेश कपूर ने अपना गुनाह कबूल कर लिया। राजेश ने कुल 5 ऐसे मामले बताए जहाँ उसने उड़ानों में चोरियाँ की थीं। इन चोरियों से मिले पैसे राजेश ने ऑनलाइन और ऑफ़लाइन जुआ खेला। पुलिस ने और खोजबीन की तो राजेश कुल 11 अपराधों में शामिल निकला। ये अपराध चोरियों और जुआ खेलने के थे। चोरी करने के लिए राजेश लगभग 200 विमानों में यात्रा कर चुका था। वह कुल 110 दिनों तक हवाई जहाज में ही रहा था। राजेश के निशाने पर एयर इंडिया और विस्तारा की जहाजें हुआ करती थीं।

अब तक हुई जाँच में यह सामने आया है कि राजेश पहले ट्रेनों में चोरियाँ करता था। साल 2005 से उसने चोरी करना शुरू किया। कुछ दिनों बाद राजेश ने हवाई जहाज़ों में चोरियाँ करना शुरू कर दिया। चोरी करने के लिए वह उन बुजुर्ग महिलाओं को चिह्नित करता था जो विदेश की यात्रा पर निकली होती थीं। यात्रा के दौरान राजेश अपनी सीट बार-बार बदलता रहता था। उड़ान के दौरान राजेश ओवरहेड केबिनों में रखे बैग को टटोलता था और उसमें से कीमती सामान निकाल लिया करता था।

पुलिस की जाँच में यह बात भी निकल कर सामने आई है कि राजेश अपने मृत भाई ऋषि की ID पर कई यात्राएँ कर चुका है। वह दिल्ली के पहाड़गंज इलाके में रहता है। चोरी करने के बाद राजेश अपने फोन को बंद कर दिया करता था। उसका फोन काफी कम समय के लिए ऑन होता था। राजेश की गिरफ्तारी उसके घर से हुई है। उसके पास से चोरी किए गए सोने-चाँदी के आभूषण और कई अन्य कीमती सामन बरामद हुए हैं। पुलिस ने राजेश से चोरी का आभूषण खरीदने वाले 46 वर्षीय शरद जैन को भी गिरफ्तार कर लिया है। मामले में पुलिस की जाँच अभी जारी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -