Sunday, July 3, 2022
Homeदेश-समाज14 साल का था महेश, नग्न कर पेड़ से बाँध दिया: आठ साल बाद...

14 साल का था महेश, नग्न कर पेड़ से बाँध दिया: आठ साल बाद लोहे की जंजीरों से आजाद होने की जगी आस

महेश के पिता प्रागजी ओलकिया ने बताया कि उनका बेटा मानसिक रूप से बीमार है। इसके चलते वह हिंसक हो जाता है। ऐसे में अगर कोई उसके पास जाता है तो वह पथराव शुरू कर देता है।

गुजरात के राजकोट ज‍िले में पिछले आठ सालों से एक व्यक्ति नग्न अवस्था में एक पेड़ में लोहे की जंजीरों में बँधा हुआ है। रोंगटे खड़े कर देने वाली यह घटना बोटाद तालुका के सर्वा गाँव की है। यहाँ 22 वर्षीय महेश ओलकिया बीते आठ सालों से एक पेड़ से बँधे हुए अपना जीवन जी रहा है। सर्दी हो, गर्मी या फिर बरसात, कोई भी उन पर रहम नहीं दिखाता है। लेकिन एक सामाजिक कार्यकर्ता के प्रयासों की बदौलत महेश को जल्द ही अपना अपना जीवन गौरव के साथ जीने का मौका मिल सकता है।

बताया जाता है कि आठ साल पहले महेश ने लोगों से हिंसक व्यवहार करना शुरू कर दिया था। हर क‍िसी को मारना, उस पर पत्‍थर फेंकना उसकी आदत बन गई थी। ऐसे में गरीबी से त्रस्त झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले परिवार ने अपने बेटे को 14 साल की उम्र में ही नग्न अवस्था में एक पेड़ से बाँध दिया था। महेश के पिता प्रागजी ओलकिया ने बताया कि उनका बेटा मानसिक रूप से बीमार है। इसके चलते वह हिंसक हो जाता है। ऐसे में अगर कोई उसके पास जाता है तो वह पथराव शुरू कर देता है। उन्‍होंने यह भी कहा क‍ि हम बहुत गरीब हैं और उसके इलाज या उसे कहीं भी रखने के लिए हमारे पास कोई संसाधन नहीं है। इसलिए, हमने उसे एक पेड़ से जंजीर से बाँधकर रखा हुआ है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, यूट्यबू पर खजुभाई के नाम से मशहूर सोशल मीडिया कॉमेडियन नितिन जानी को हाल ही में अपने सोशल मीडिया हैंडल पर इस परिवार के बारे में जानकारी मिली थी। इसके बाद वह उस परिवार से मिलने उनके गाँव गए थे। नितिन जानी को लोग सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में भी जानते हैं। इससे पहले भी उन्होंने बेसहारा और गरीब परिवारों की मदद की है।

परिवार और मानसिक रूप से बीमार महेश से मिलने के बाद जानी बताया क‍ि हमने गाँव के बाहरी इलाके में परिवार के लिए एक घर बनाया है। हमने वहाँ ब‍िजली और पंखे की व्यवस्था भी की है। महेश को खाना-पानी भी दिया है। वह मौजूदा समय में हिंसक है। इसलिए हम एक-दो दिन में उसे इलाज के लिए किसी साइकोलॉज‍िस्‍ट के पास ले जाएँगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिर कलम करने में जिस डॉ युसूफ का हाथ, वो 16 साल से था दोस्त: अमरावती हत्याकांड में कश्मीर नरसंहार वाला पैटर्न, उदयपुर में...

अमरावती में उमेश कोल्हे की हत्या में उनका 16 साल पुराना वेटेनरी डॉक्टर दोस्त यूसुफ खान भी शामिल था। उसी ने कोल्हे की पोस्ट को वायरल किया था।

‘1 बार दलित को और 1 बार महिला आदिवासी को चुना राष्ट्रपति’: BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में भारत को पुनः विश्वगुरु बनाने की बात

"सर्जिकल स्ट्राइक, एयर स्ट्राइक, अनुच्छेद 370 खत्म करने, GST, आयुष्मान भारत, कोरोना टीकाकरण, CAA, राम मंदिर - कॉन्ग्रेस ने सबका विरोध किया।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,752FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe