Tuesday, June 18, 2024
Homeदेश-समाजखरगोन हिंसा के दंगाइयों से होगी पाई-पाई की वसूली: हर छोटे-बड़े नुकसान का बाजार...

खरगोन हिंसा के दंगाइयों से होगी पाई-पाई की वसूली: हर छोटे-बड़े नुकसान का बाजार दर से होगा मूल्यांकन, ट्रिब्यून करेगा फैसला, DM की जवाबदेही

ट्रिब्यूनल के फैसले के बाद अगर नुकसान पहुँचाने वाला संपत्ति की भरपाई नहीं करता है तो इसकी जवाबदेही जिला अधिकारी (DM) को तय की गई है। ट्रिब्यून के फैसले को 90 दिन के अंदर हाईकोर्ट में चुनौती दी जा सकती है।

मध्य प्रदेश में रामनवमी (10 अप्रैल 2022) की दिन शोभायात्रा पर हमले और आगजनी की घटना के बाद हिंदुओं के घरों में की गई तोड़फोड़ के मामले में आरोपितों से नुकसान की भरपाई कराई जाएगी। सरकारी और निजी संपत्तियों में की गई तोड़फोड़ और आगजनी को लेकर भरपाई के नियम तय कर दिए गए हैं। नुकसान हुई संपत्तियों का मूल्यांकन वर्तमान बाजार दर पर तय किया जाएगा।

तय किए गए नियमों के तहत, दंगों के दौरान अगर किसी के घर, दुकान, ऑफिस सहित विभिन्न छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी संपत्तियों का मूल्यांकन किया जाएगा। इन संपत्तियों में मेटल्स से लेकर टाइल्स तक के नुकसान की भरपाई की जाएगी। यह अधिकार क्लेम ट्रिब्यूनल को दे दिए गए हैं। सरकार ने खरगोन दंगों के बाद यह निर्णय लिया है।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़ित पक्ष के हुए नुकसान की जानकारी के लिए एक ट्रिब्यूनल उनके आवेदन जमा कर रहा है। मध्य प्रदेश लोक एवं निजी संपत्ति नुकसान निवारण एवं वसूली नियम 2022 में इस अधिकार को स्पष्ट कर दिया गया है। इसमें आवेदन के आधार पर कई ट्रिब्यूनल बनाए जा सकते हैं। हर ट्रिब्यूनल में कई सदस्य होंगे।

ट्रिब्यूनल के फैसले के बाद अगर नुकसान पहुँचाने वाला संपत्ति की भरपाई नहीं करता है तो इसकी जवाबदेही जिला अधिकारी (DM) को तय की गई है। हर्जाने की राशि समय पर दिलवाना उसकी जिम्मेवारी होगी। वहीं, सरकारी संपत्ति की के मामले में राजपत्रित अधिकार नुकसान का मूल्यांकन करेगा। ट्रिब्यून के फैसले को 90 दिन के अंदर हाईकोर्ट में चुनौती दी जा सकती है।

इस नियम के तहत व्यवस्था की गई है कि कोई भी दावेदार चाहे तो ट्रिब्यूनल में अपना दावा खुद पेश कर सकता है अथवा इसके लिए कोई वकील रख सकता है। अगर किसी दावेदार का दावा खारिज किया जाता है तो यह क्लेम कमिश्नर को बताना पड़ेगा कि उसने दावा किस आधार पर खारिज किया है। वहीं, मामले की सुनवाई सार्वजनिक की जाएगी, लेकिन अगर दोनों पक्ष चाहेंगे को यह बंद कमरे में भी होगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस जगन्नाथ मंदिर में फेंका गया था गाय का सिर, वहाँ हजारों की भीड़ ने जुट कर की महा-आरती: पूछा – खुलेआम कैसे घूम...

रतलाम के जिस मंदिर में 4 मुस्लिमों ने गाय का सिर काट कर फेंका था वहाँ हजारों हिन्दुओं ने महाआरती कर के असल साजिशकर्ता को पकड़ने की माँग उठाई।

केरल की वायनाड सीट छोड़ेंगे राहुल गाँधी, पहली बार लोकसभा लड़ेंगी प्रियंका: रायबरेली रख कर यूपी की राजनीति पर कॉन्ग्रेस का सारा जोर

राहुल गाँधी ने फैसला लिया है कि वो वायनाड सीट छोड़ देंगे और रायबरेली अपने पास रखेंगे। वहीं वायनाड की रिक्त सीट पर प्रियंका गाँधी लड़ेंगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -