Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाज'लाल तिलक भड़काऊ है': टीका लगा कर स्कूल पहुँचे छात्र तो शिक्षक ने धुलवाया...

‘लाल तिलक भड़काऊ है’: टीका लगा कर स्कूल पहुँचे छात्र तो शिक्षक ने धुलवाया माथा, अभिभावकों और हिन्दू कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन

ये सारी बातें घर आकर छात्रों ने अपने परिवार वालों को बता दी। छात्रों के परिवार ने इस घटना की सूचना 'बजरंग दल' के प्रान्त विद्यार्थी प्रमुख अभिषेक चौहान को दी।

उत्तर प्रदेश के मेरठ के एक प्राइवेट स्कूल के शिक्षक पर छात्रों के माथे से तिलक हटवाने का आरोप लगा है। इस पर स्थानीय ‘बजरंग दल’ के कार्यकर्ताओं ने एतराज जताया और विरोध किया। तब कहीं जाकर स्कूल प्रबंधन ने माना कि स्टाफ से गलती हुई है और उसे समझाया जाएगा। स्कूल के माफी माँगने के बाद फिलहाल विवाद शांत हो गया है।

मामला मेरठ के सरूरपुर थाना क्षेत्र में भूनी चौराहे के कदम पब्लिक स्कूल का है। छात्रों के परिवारवालों के मुताबिक, शनिवार (23 दिसंबर, 2023) को छात्र माथे पर तिलक लगाकर स्कूल गए थे। परिवारवालों का आरोप है कि वहाँ स्कूल के पीटी शिक्षक ने छात्रों से माथा में लगे तिलक को धो कर आने को कहा। इस बात का विरोध करने पर शिक्षक ने छात्रों को धमकी दी।

ये सारी बातें घर आकर छात्रों ने अपने परिवार वालों को बता दी। छात्रों के परिवार ने इस घटना की सूचना ‘बजरंग दल’ के प्रान्त विद्यार्थी प्रमुख अभिषेक चौहान को दी। इस घटना के विरोध में वो क्रिसमस के दूसरे दिन मंगलवार (26 दिसंबर, 2023) को ‘बजरंग दल’ कार्यकर्ताओं के साथ कदम पब्लिक स्कूल पहुँच गए।

अभिषेक चौहान की अगुवाई में ‘बजरंग दल’ के कार्यकर्ताओं ने छात्रों के माथे से तिलक हटाने को लेकर विरोध जताते हुए प्रिंसिपल का घेराव किया और नारेबाजी की। स्कूल प्रबंधन के साथ ‘बजरंग दल’ के कार्यकर्ताओं की अच्छी-खासी बहस हो गई। स्कूल की प्रिंसिपल पारुल चौधरी के माफी माँगने के बाद मामला शांत हुआ। उन्होंने माना कि उनके स्टाफ से गलती हुई है और बातचीत कर समस्या सुलझाई जाएगी।

अभिषेक का कहना है कि मामला उनके संज्ञान में आया था कि इस स्कूल के हिंदू छात्रों के तिलक लगाकर जाने पर शिक्षक इसका विरोध किया करते हैं। उन्होंने कहा कि ये गलत है क्योंकि जो हिंदू धर्म को मानता है वो तिलक लगाकर जाएगा। ये हमारी संस्कृति है। उन्होंने आगे कहा कि शिक्षक ने छात्रों के माथे से तिलक धुलवा कर हिंदू धर्म का अपमान किया है।

अभिषेक ने ऑपइंडिया से कहा कि स्कूल वाले लाल तिलक को भड़काऊ बताते हैं। आरोप उस खेल टीचर पर डाला जा रहा है जो घटना के दिन आया ही नहीं था। 9वीं कक्षा में पढ़ने वाले 3 हिन्दू छात्रों के साथ अब तक ऐसा हो चुका है। स्कूल ने इन छात्रों पर मामले को तूल न देने का भी दबाव बनाया था।

उन्होंने आगे कहा कि स्कूल प्रशासन का कहना है कि रोकटोक इसलिए की गई क्योंकि छात्रों के बीच तिलक लगाने का मुकाबला शुरू हो गया था। विरोध बढ़ने पर स्कूल ने माफी माँगी। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि हिन्दू संगठनों का ज्ञापन तैयार है। चेताया गया है कि अब किसी के भी छात्र के साथ ऐसा हुआ तो DM ऑफिस पर सीधे धरना होगा।

वहीं दूसरी तरफ स्कूल के प्रबंधक संजीव चौधरी का कहना है कि तिलक हटाने जैसी कोई बात नहीं है। छात्रों को स्कूल में लिपस्टिक और सिंदूर लेकर आने से रोका गया था। छात्रों के बैग से सिंदूर और लिपस्टिक मिली थी। उनका कहना है कि छात्रों ने अपने अभिभावकों गलत जानकारी दी। इस बारे में उन्हें बता दिया गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

रेड सिग्नल पार करने वाली ट्रेनों को भी रोक देता है कवच, फिर क्यों कंचनजंगा एक्सप्रेस से भिड़ गई मालगाड़ी: जानिए सब कुछ

न्यू जलपाई गुड़ी में हुए रेल हादसे के बाद कवच पर चर्चा चालू हो गई है। जिस रूट पर हादसा हुआ है, वहाँ अभी कवच सिस्टम नहीं लगा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -