Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजपैगंबर मोहम्मद के जन्मदिन पर मुस्लिम भीड़ नए रास्ते से निकाल रहा थी जुलूस,...

पैगंबर मोहम्मद के जन्मदिन पर मुस्लिम भीड़ नए रास्ते से निकाल रहा थी जुलूस, हिंदुओं ने रोका तो की मारपीट, छतों से पथराव भी

जिन लोगों ने इस बवाल को हवा दी, उनके नाम हैं- सलीम, पुत्तान, इश्तियाक, सानू, अइतुल्ला, सैमुल्ला, रहीम, गुफरान, शीबू, मोइन,कादिर। इसके अलावा, पुलिस ने FIR में 25 अज्ञात लोगों के भी नाम दर्ज किए गए हैं। पीड़ित ने इलाके में हेट क्राइम रोकने का भी अनुरोध किया। इसके अलावा 20-25 अज्ञात हैं।

उत्तर प्रदेश के सीतापुर में 28 सितंबर 2023 को मुस्लिमों के बरावफात जुलूस के नए इलाके से जाने पर बवाल हो गया। इस दौरान कट्टरपंथी मुस्लिमों ने हिंदू समुदाय पर जमकर पथराव किया। इसका वीडियो भी वायरल हुआ है। वीडियो में पहचान के आधार अब तक पाँच लोगों को गिरफ्तार किया गया है। वहीं, अन्य आरोपितों की पहचान की कोशिश जारी है।

मामला सीतापुर जिले के सदरपुर गाँव के अंतर्गत आने वाले गाँव बनवीरपुर का है। पीड़ित हिंदुओं ने पुलिस को दी गई अपनी शिकायत में कहा है कि मुस्लिम समुदाय के लोग गाँव के दक्षिणी छोर से उत्तर की ओर जुलूस निकाल रहे थे। इसके पहले इस रास्ते से कभी भी जुलूस नहीं निकाला गया था।

लोगों ने आरोप लगाया कि जब इस बारे में उनसे बात कही गई तो मुस्लिम समाज के जिन लोगों के निर्देश में इस जुलूस का आयोजन हो रहा था, उन्होंने हिंदुओं से गाली-गलौच करने लगे और हाथापाई शुरू कर दी।

हिंदू पक्ष ने कहा कि इसके बाद मुस्लिमों की ओर से उन पर पथराव कर दिया गया। हिंदू पक्ष ने आरोप लगाया कि एक साजिश के तहत पहले से ईंट-पत्थर आदि छतों पर जमाकर लिए गए थे। वही उन पर बरसाए जाने लगे।

पीड़ित का यह भी आरोप है कि मुस्लिम समुदाय के आरोपितों ने उनके घर में घुस गए और महिलाओं की अश्लील हरकतें कीं। इस दौरान उनसे गाली-गलौच भी की गई। शिकायकर्ता का कहना है कि इससे इलाके में रोष व्याप्त है। हिंदुओं को अपनी जान का डर सताने। लगा है।

जिन लोगों ने इस बवाल को हवा दी, उनके नाम हैं- सलीम, पुत्तान, इश्तियाक, सानू, अइतुल्ला, सैमुल्ला, रहीम, गुफरान, शीबू, मोइन,कादिर। इसके अलावा, पुलिस ने FIR में 25 अज्ञात लोगों के भी नाम दर्ज किए गए हैं। पीड़ित ने इलाके में हेट क्राइम रोकने का भी अनुरोध किया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -