Friday, June 14, 2024
Homeदेश-समाजयूपी में अब गायों के लिए भी होगी 24x7 एंबुलेंस सेवा, योगी सरकार की...

यूपी में अब गायों के लिए भी होगी 24×7 एंबुलेंस सेवा, योगी सरकार की योजना के बारे में जानें सबकुछ

मंत्री ने बताया कि गाय के नस्ल सुधार कार्यक्रम के अन्तर्गत पशुपालकों को तीन बार मुफ्त गर्भाधान कराने की सुविधा दी जाएगी। गाय के शत प्रतिशत गर्भाधान को सुनिश्चित करने वाली अत्याधुनिक भ्रूण ट्रांसप्लांट तकनीक को भी अमल में लाए जाने की तैयारी है।

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार राज्य में गायों को समय पर चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराने के लिए पुलिस की आपात हेल्पलाइन सेवा ‘डायल 112’ तर्ज पर अभिनव एंबुलेंस सेवा शुरू करने जा रही है। यूपी के डेयरी, मत्स्य पालन एवं पशुपालन मंत्री लक्ष्मीनारायण चौधरी ने रविवार (14 नवंबर 2021) को मथुरा में बताया कि राज्यव्यापी स्तर पर इस सेवा को शुरू करने के लिए 515 एंबुलेंस तैयार कर ली गई है। प्रत्येक एंबुलेंस में एक पशु चिकित्सक और पशु चिकित्सा स्टाफ के दो सदस्य होंगे।

उन्होंने बताया कि यह सेवा 24 घंटे उपलब्ध रहेगी तथा इसके लिए लखनऊ में एक कॉल सेंटर बनाया जाएगा। इस सेवा के लिए जो भी कॉल करेगा उसके पास 15 से 20 मिनट में एंबुलेंस पहुँच जाएगी। इस सेवा को अगले माह दिसंबर तक शुरू कर दिया जाएगा। 

इसके अलावा मंत्री ने बताया कि गाय के नस्ल सुधार कार्यक्रम के अन्तर्गत पशुपालकों को तीन बार मुफ्त गर्भाधान कराने की सुविधा दी जाएगी। गाय के शत प्रतिशत गर्भाधान को सुनिश्चित करने वाली अत्याधुनिक भ्रूण ट्रांसप्लांट तकनीक को भी अमल में लाए जाने की तैयारी है। इससे बाँझ गाय भी अधिक मात्रा में दूध देने लगती है।

उन्होंने बताया कि बाराबंकी में इस तकनीक के सफल प्रयोग के बाद इस तकनीक को सभी जिलो में चालू किया जा रहा है। चौधरी ने कहा कि इसके अन्तर्गत एक गाय के उन्नत सीमेन से तैयार भ्रूण को 8-10 गायों में रख दिया जाता है। इसकी विशेषता यह है कि इससे गाय शत-प्रतिशत गर्भवती होती है और इससे पैदा हुई बछिया कम से कम 20 किलो दूध देगी।

उन्होंने कहा कि इससे किसान को आवारा जानवरों की समस्या से निजात मिल सकेगी, क्योंकि कोई किसान अधिक दूध देने वाली बछिया को खुला नहीं छोड़ सकेगा। मंत्री ने कहा कि पाइलट प्रोजेक्ट के रूप मे इस योजना को पहले मथुरा समेत आठ जिलों में शुरू किया जाएगा। गौरतलब है कि राज्य में गायों की सर्वाधिक संख्या मथुरा में है।

लक्ष्मी नारायण चौधरी ने कहा कि राज्य के इतिहास में पहली बार योगी आदित्यनाथ सरकार ने आवारा पशुओं को रखने के लिए गोशालाओं को फंड दिया। बता दें कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार राज्य में गोशालाओं के रखरखाव पर सालाना करोड़ों रुपये खर्च करती है। योगी आदित्यनाथ प्रशासन ने राज्य में गोशालाओं के रखरखाव के लिए 647 करोड़ रुपए आवंटित कर चुकी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -