Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजसड़क पर नहीं पढ़ने दी नमाज तो नाराज नमाजियों ने जमकर काटा बवाल, कहा-...

सड़क पर नहीं पढ़ने दी नमाज तो नाराज नमाजियों ने जमकर काटा बवाल, कहा- देखते हैं कौन मारता है गोली

एसपी सिटी का कहना था कि जब पहले ही तय हो चुका था कि सड़क पर बैठकर नमाज नहीं पढ़ी जाएगी तो फिर विवाद की स्थिति क्यों पैदा की गई?

उत्तर प्रदेश के बरेली में चौकी चौराहे पर सड़क बंद कर नमाज पढ़ने से मना करने पर नमाजी नाराज हो गए। पुलिस अधिकारियों का कहना था कि सड़क का रास्ता छोड़कर नमाज पढ़ी जाये, लेकिन शायद नमाजियों को प्रशासन की ये बात पसंद नहीं आई। इसी के चलते चौकी चौराहा मस्जिद के बाहर सड़क पर नमाज पढ़ने को लेकर इस शुक्रवार भी विवाद हो गया और तीन घंटे खींचतान चलती रही।

पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी पहले ही तय कर चुके थे कि सड़क पर नमाज नहीं पढ़ने दी जाएगी, इसके बावजूद भी व्यवस्थाओं को तोड़ने की कोशिश की गई। जब नाराज नमाजियों का गुस्सा बढ़ने लगा तो अफसरों ने भी कई थानों से पुलिस फोर्स को बुला लिया। बाद में महज 2 चटाई डालकर कुछ लोगों ने मस्जिद के बाहर बैठकर नमाज पढ़ी। हालाँकि, इस दौरान यातायात पर फर्क नहीं पड़ा।

हंगामा करते हुये वे आला हजरत दरगाह पहुँचे, इसके बाद कोतवाली का घेराव कर हंगामा किया। इंस्पेक्टर को चेतावनी दी कि बीच सड़क पर नमाज पढ़ेंगे, देखें कौन रोकता है। इसको लेकर चौकी चौराहे पर पुलिस अधिकारियों व नमाजियों के बीच नोकझोंक हुई। कोतवाली में हंगामा करने वाले 200 से ज्यादा लोगों के खिलाफ धारा 144 के उल्लंघन का मुकदमा दर्ज किया गया है।

यातायात बाधित होने कारण हुई थी शिकायत

चौकी चौराहा स्थित मस्जिद के सामने सड़क पर नमाज पढऩे को लेकर कुछ लोगों ने आपत्ति जताई थी। यातायात बाधित होने की जानकारी देते हुए आला अफसरों तक शिकायत की। जिसके बाद पिछले शुक्रवार को पुलिस एवं प्रशासनिक अफसरों ने वहाँ पहुँचकर सड़क घेरने से मना किया।

तब भी तनातनी हुई, हालाँकि बाद में बातचीत के बाद अफसरों ने कहा कि पहले मस्जिद के अंदर पूरी जगह भर जाए, इसके बाद आगे की बात की जाएगी। दूसरी मस्जिदों में भी लोग जा सकते हैं। प्रशासन द्वारा एक लाइन भी खींच दी गई, जिससे आगे सड़क बाधित न की जाए।

पिछले शुक्रवार को हुई यह सारी मेहनत एक बार फिर बेकार होती नजर आई। इसका एहसास अफसरों को भी था, इसलिए वे भी सुबह होते ही चौकी चौराहा स्थित पुलिस चौकी में जाकर बैठ गए। सीओ, इंस्पेक्टर ने मस्जिद के इमाम व मुतवल्ली को बुलाकर कह दिया कि सड़क पर चटाई न बिछाएँ।

चटाइयाँ बिछाते गए, पुलिस हटाती गई

नमाजियों ने दोपहर डेढ़ बजे नमाज के लिए मस्जिद के बाहर सड़क पर चटाइयाँ बिछाना शुरू किया लेकिन पुलिस ने उन्हें तुरंत हटवा दिया। जानकारी पर आला हजरत दरगाह से कुछ लोग बातचीत को भेजे गए। वहाँ मौजूद लोगों का कहना था कि वे काफी समय से ऐसे ही नमाज पढ़ते आ रहे हैं और पुलिस बेवजह बात बढ़ा रही। दूसरी ओर पुलिस अफसरों ने दो टूक कह दिया कि किसी भी हाल में सड़क पर नमाज नहीं पढऩे दी जाएगी।

इस पर दोनों पक्षों में बहस बढ़ती गई। आला हजरत दरगाह से कुछ लोग कोतवाली इंस्पेक्टर पंकज वर्मा के पास पहुँचे, उनसे बात की मगर उन्हें साफ मना कर दिया कि सड़क नहीं घेरने देंगे और रास्ता बंद नहीं होगा। विवाद बढऩे पर कई थानों से पुलिस फोर्स बुलवा ली गई। जानकारी मिलने पर एसपी सिटी अभिनंदन सिंह चौकी चौराहे पर पहुँच गए।

पुलिस ने पूछा, जब पहले ही तय हो चुका था तो विवाद की स्थिति क्यों पैदा की गई?

विवाद बढ़ने पर सभी गुस्साए नमाजियों को चौकी चौराहा पुलिस चौकी में बैठाया गया और नासिर कुरैशी, नदीम खां, शाहिद नूरी, डा. नफीस आदि से बातचीत शुरू हुई। एसपी सिटी का कहना था कि जब पहले ही तय हो चुका था कि सड़क पर बैठकर नमाज नहीं पढ़ी जाएगी तो फिर विवाद की स्थिति क्यों पैदा की गई?

एसपी सिटी का कहना था नमाज अंदर मस्जिद में बैठकर पढ़ें, पुलिस को कोई आपत्ति नहीं है। बातचीत के दौरान एक बार फिर तय हुआ कि बाहर महज 2 चटाई ही पड़ेंगी और रास्ते पर बैठकर नमाज नहीं पढ़ने दी जाएगी, रास्ता बंद नहीं होगा। इसके बाद शाम साढ़े चार बजे नमाज पढ़ी गई।

एसपी सिटी ने बयान दिया, “मस्जिद के बाहर महज दो चटाई पड़ेंगी। यह बात इमाम व मुतवल्ली को बता दी गई है। इस पर उन्होंने सहमति भी जता दी है। अगर किसी ने लॉ एंड आर्डर बिगाड़ा तो कार्रवाई की जाएगी।”

सड़क पर नमाज पढ़ने से हो गई थी ट्रैफिक अव्यवस्था

दरअसल, ईद से पहले जुमा अलविदा के दिन भी चौकी चौराहे की मस्जिद पर नमाज को लेकर विवाद खड़ा हो गया था। नमाजियों की भीड़ ज्यादा होने के कारण चौकी चौराहे से सर्किट हाउस को जाने वाली सड़क जाम हो गई। दोनों तरफ का ट्रैफिक रुकने की वजह से लोगों को काफी दिक्कत हुई थी जिस पर एडीएम सिटी, सीओ सहित तमाम पुलिस फोर्स ने मौके पर जाकर ट्रैफिक व्यवस्था बिगड़ने और कोई हादसा न हो इसको लेकर मस्जिद के जिम्मेदारों को समझाया था। प्रशासन ने नमाजियों को मस्जिद के अंदर नमाज अदा करने की हिदायत दी। शुक्रवार (जून 07, 2019) को दोपहर एक बजे चौकी चौराहे स्थित रहमानिया मस्जिद वालों ने नमाजियों के लिए बाहर टेंट लगा दिए थे। ऐसे में अफसरों ने नमाज शुरू से होने से 20 मिनट पहले टेंट हटाने के निर्देश दिए।

सूचना मिलने पर सीओ प्रथम कुलदीप कुमार, सीओ प्रीतम पाल सिंह और इंस्पेक्टर कोतवाली पहुँच गए। उन्होंने नमाजियों को समझाया कि मस्जिद के अंदर और बाहर नमाज पढ़ो लेकिन सड़क मत घेरो। ट्रैफिक चलता रहना चाहिए। इस पर नमाजी भड़क गये और उन्होंने नमाज पढ़ने से मना कर दिया। बाद में आला हजरत दरगाह पहुँचे। इसके बाद काफी संख्या में लोग कोतवाली इकठ्ठे हुए। वहाँ उन्होंने जमकर हंगामा उठाते हुए इंस्पेक्टर कोतवाली से नोकझोंक की। गुस्साए नमाजियों ने कहा कि बीच सड़क पर नमाज पढ़ेंगे देखें कि कौन गोली मारता है। इसके बाद भीड़ की शक्ल में लोग चौकी चौराहे पहुँचे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,042FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe