Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजदिल्ली में गहराया जल संकट, पानी के लिए टैंकरों पर चढ़े लोग: केजरीवाल सरकार...

दिल्ली में गहराया जल संकट, पानी के लिए टैंकरों पर चढ़े लोग: केजरीवाल सरकार ने लोगों को उनके हाल पर छोड़ा

दिल्ली में जल संकट के कारण पैदा हुई विकट स्थिति में पानी के टैंकर के आसपास लोगों की खासी भीड़ जमा हो गई। इस दौरान कोरोना महामारी के बावजूद लोगों को बिना मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करते देखा गया।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में एक बार फिर से पानी का संकट गहरा गया है। पानी के लिए लोगों को खासी मारामारी करनी पड़ रही है। इस बीच चाणक्यपुरी इलाके के विवेकानंद कैंप में पानी के लिए आए वाटर टैंकर पर चढ़कर स्थानीय लोगों को पानी निकालते देखा गया है।

समाचार एजेंसी एएनआई द्वारा शेयर किए गए वीडियो में महिलाओं का एक जत्था पानी रखने के बर्तनों के साथ फुटपाथ पर पानी के टैंकर का इंतजार कर रहा होता है। नई दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) का पानी का टैंकर जैसे ही विवेकानंद कैंप में दाखिल होता है तो अपनी सुरक्षा की परवाह किए बगैर कुछ लोग उस पर चढ़ जाते हैं। इसके बाद पानी भरने के लिए उसमें पाइप डाल देते हैं।

दिल्ली में जल संकट के कारण पैदा हुई विकट स्थिति में पानी के टैंकर के आसपास लोगों की खासी भीड़ जमा हो गई। इस दौरान कोरोना महामारी के बावजूद लोगों को बिना मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करते देखा गया।

पानी के लिए घंटों इंतजार

इस क्षेत्र में पानी के कथित संकट के कारण लोगों ने पानी के टैंकरों के इंतजार में लंबी लाइन लगा लिया। विवेकानंद कैम्प के बाद यही हाल चाणक्यपुरी इलाके के संजय कैंप में भी देखने को मिला। स्थानीय निवासियों को पानी के लिए 5-5 घंटे तक का लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। बावजूद इसके इलाके की 15,000 की आबादी की प्यास बुझाने के लिए केवल 4-5 पानी के टैंकर ही आते हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि वाटर टैंकर दिन में दो बार आता है, लेकिन इसका कोई एक निश्चित समय नहीं होता है। ऐसे में उन्हें घंटों टैंकरों का इंतजार करना पड़ता है।

स्थानीय लोगों ने अपनी व्यथा बताते हुए कहा कि अगर वो घर के अंदर रहेंगे तो उन्हें पता ही नहीं चलेगा कि टैंकर कब आया। खास बात यह है कि 5 मिनट भी लेट होने का मतलब है कि उन्हें पानी नहीं मिलेगा। इससे बचने के लिए वे बाहर टैंकर आने तक इंतजार करते रहते हैं।

राष्ट्रीय राजधानी में गर्मी बढ़ने के साथ ही दिल्ली सरकार ने लोगों को उनके हाल पर छोड़ दिया है। इस बीच अब गहराते जल संकट को लेकर भाजपा और आम आदमी पार्टी (आप) के बीच वाकयुद्ध शुरू हो गया है।

इससे पहले 5 जून 2021 को दिल्ली जल बोर्ड ने जानकारी दी थी कि इंद्रपुरी, मायापुरी, टोडापुर गाँव, नरैना गाँव, नरैना विहार, कृषि कुंज, मानसरोवर गार्डन, राजौरी गार्डन, सुभाष नगर, रमेश नगर, हरि नगर, कीर्ति नगर, एचएमपी कॉलोनी समेत इलाके और पंजाबी बाग को मेंटनेन्स के कार्यों के चलते पानी की किल्लत से दो चार होना पड़ सकता है। इसीलिए लोगों से पानी बचाने के लिए कहा गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe