Tuesday, May 17, 2022
Homeदेश-समाजबंगाल: कोरोना संदिग्ध की मौत के बाद अस्पताल में तोड़फोड़, राशन वितरण में गड़बड़ी...

बंगाल: कोरोना संदिग्ध की मौत के बाद अस्पताल में तोड़फोड़, राशन वितरण में गड़बड़ी पर मुर्शिदाबाद में पथराव

मुर्शिदाबाद के सालार में तय राशन न मिलने नाराज़ लोगों ने प्रदर्शन किया। स्थानीय लोगों का कहना है कि डीलर हलीम शेख आधा राशन ही दे रहा था। नाराज लोगों ने उसके घर पर पथराव और तोड़फोड़ की।

पश्चिम बंगाल के नॉर्थ-24 परगना के कामरहटी में एक कोरोना संक्रमित मरीज की मौत के बाद उसके परिजनों ने अस्पताल में तोड़फोड़ की। लॉकडाउन में सरकार द्वारा तय राशन नहीं मिलने से नाराज लोगों ने मुर्शिदाबाद में राशन डीलर के घर पर तोड़फोड़ की।

कामरहटी में इलाज के दौरान अस्पताल में कोरोना संदिग्ध अख्तर बेगम नाम (56 वर्षीय) की मौत होने के बाद उसके रिश्तेदारों ने सागर दत्ता अस्पताल और मेडिकल कॉलेज में जमकर तोड़फोड़ की। स्वास्थ्यकर्मियों पर हमला भी किया गया। हालात पर अस्पताल में तैनात पुलिसकर्मी नियंत्रण नहीं कर पाए। इसके बाद बेलघोरिया पुलिस स्टेशन से भारी संख्या में पुलिस बल को बुलाकर हालात पर काबू पाया गया। अस्पताल के सूत्रों के अनुसार, रोगी अख्तर बेगम मधुमेह की मरीज थी और अस्पताल आने से पहले ही उनकी स्थिति काफी खराब हो चुकी थी।

सागर दत्ता अस्पताल के अधीक्षक पलाश दास 17 डॉक्टरों के साथ वर्तमान में क्वारंटाइन में हैं, क्योंकि वे दो कोरोनो संक्रमितों के संपर्क में आए थे। आनंद बाजार पत्रिका से फोन पर बात करते हुए दास ने कहा कि इस तरह के हमलों से स्वास्थ्यकर्मियों का मनोबल कम होगा। उन्होंने कहा कि बाकी सभी लोगों की तरह स्वास्थ्यकर्मी भी कोरोनो वायरस को लेकर चिंतित हैं, अपनी जान को जोखिम में डालने के बावजूद अगर उन पर हमला किया जाता है, तो उनके लिए काम करना मुश्किल हो जाएगा। उन्होंने कहा कि डॉक्टरों ने मरीज को बचाने की पूरी कोशिश की, लेकिन उसकी हालत बहुत गंभीर होने की वजह से वो उसे बचा नही पाए।

वहीं मुर्शिदाबाद के सालार में तय राशन न मिलने नाराज़ लोगों ने प्रदर्शन किया। स्थानीय लोगों का कहना है कि डीलर हलीम शेख आधा राशन ही दे रहा था। नाराज लोगों ने उसके घर पर पथराव और तोड़फोड़ की। घर से फेंके गए सामान में आग लगा दी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मथुरा के शाही ईदगाह में साक्ष्य मिटाए जाने की आशंका, मस्जिद को तुरंत सील करने के लिए नई याचिका दायर: ज्ञानवापी का दिया हवाला

ज्ञानवापी विवादित ढाँचे में शिवलिंग मिलने के बाद अब मथुरा के शाही ईदगाह मस्जिद को लेकर नई याचिका दायर हुई है, जिसमें इसे सील करने की माँग की गई।

हनुमान मूर्ति से लेकर गणेश मंदिर और परिक्रमा पथ से लेकर पुस्ती तक: 26 साल पहले भी हुआ था एक ज्ञानवापी सर्वे, जानें क्या-क्या...

ज्ञानवापी में पहली बार सर्वे नहीं हुआ है। इससे पहले साल 1996 में भी एक दिन का सर्वे हुआ था जिसमें सामने आया था कि विवादित ढाँचे के भीतर मंदिरों के चिह्न हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,366FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe