अवैध संबंध के शक में महिला को निर्वस्त्र कर गाँव में घुमाया, पश्चिम बंगाल में किसी की गिरफ्तारी नहीं

कथित तौर पर महिला का गाँव के 28 वर्षीय एक शादीशुदा युवक के साथ अवैध संबंध था। कुछ दिन पहले महिला ने युवक के साथ अपना संबंध तोड़ लिया था। इससे मायूस होकर उस युवक ने...

पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में एक शादीशुदा महिला को मारने-पीटने और निर्वस्त्र कर दिन के उजाले में पूरे गाँव में घुमाने की शर्मनाक घटना सामने आई है। सूचना मिलने पर मौके पर पहुँची पुलिस पीड़िता को भीड़ के चंगुल से बचाकर थाने ले गई। घटना के बाद पीड़िता मानसिक रूप से पूरी तरह से टूट गई है। पीड़िता द्वारा घर लौटने से इनकार करने पर उसे पुलिस कैंप में ही रखा गया है। ग्राम सभा और समाज के कथित ठेकेदारों की गैर-कानूनी कार्रवाई की यह घटना नानूर इलाके की है।

जानकारी के मुताबिक महिला का गाँव के 28 वर्षीय एक शादीशुदा युवक के साथ अवैध संबंध था। कुछ दिन पहले महिला ने युवक के साथ अपना संबंध तोड़ लिया था। इससे मायूस होकर उस युवक ने 17 अक्टूबर को जहर खा लिया। जिसके बाद उसे अस्पताल ले जाया गया। जहाँ इलाज के दौरान युवक की अस्पताल में मौत हो गई। मृतक की पत्नी ने इसके लिए पीड़िता को जिम्मेदार ठहराया।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि 18 अक्टूबर को जब युवक का शव गाँव में आया, तो सारी महिलाओं ने पीड़ित महिला के ऊपर हमला बोल दिया। मृत युवक की विधवा पत्नी ने दावा किया कि उसके पति ने उसी महिला की वजह से आत्महत्या कर ली। उन लोगों ने पीड़िता की पिटाई की और साथ ही निर्वस्त्र कर पूरे गाँव में घुमाया। हालाँकि, उसे पुलिस ने बचा लिया है और सुरक्षा के मद्देनजर थाने में ही रखा है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि मृत युवक के दो बेटे हैं और पीड़ित महिला भी शादीशुदा है। उसके भी दो बेटे हैं। पुलिस के मुताबिक कथित तौर पर पीड़िता 2011 में घर से भाग गई थी, लेकिन कुछ समय बाद लौट आई। इससे ग्रामीणों को उसके अवैध संबंधों के बारे में संदेह हुआ। पुलिस ने कहा कि शिकायत दर्ज कर ली गई है। घटना की जाँच की जा रही है। फिलहाल किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: