Sunday, May 29, 2022
Homeदेश-समाजअयोध्या पर फैसले के बाद योगी आदित्यनाथ ने गुरु को किया याद, शेयर की...

अयोध्या पर फैसले के बाद योगी आदित्यनाथ ने गुरु को किया याद, शेयर की रामशिला की तस्वीर

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जिस गोरक्षपीठ के पीठाधीश्वर हैं, उसका राम मंदिर आंदोलन में अहम योगदान रहा है। उनके गुरु महंत अवैद्यनाथ और महंत अवैद्यनाथ गुरु महंत दिग्विजय नाथ, राम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान होने वाले अनेकों कार्यक्रमों में सक्रिय भूमिका निभाते थे।

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गोरक्षपीठ के महंत योगी आदित्यनाथ ने अपने गुरुओं महंत दिग्विजयनाथ, महंत अवैद्यनाथ और महंत रामचंद्र परमहंस को श्रद्धांजलि अर्पित की। अपने तीनों महंत गुरुओं को याद करते हुए उन्होंने लिखा, “गोरक्षपीठाधीश्वर युगपुरुष ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ जी महाराज, परम पूज्य गुरुदेव गोरक्षपीठाधीश्वर ब्रह्मलीन महंत अवैद्यनाथ जी महाराज एवं परमहंस रामचंद्रदास जी महाराज को भावपूर्ण श्रद्धांजलि।”

योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या आंदोलन के दौरान हुए एक शिलापूजन समारोह की तस्वीर शेयर करते हुए गोरक्षपीठ के पूर्व महंतों को श्रद्धांजलि अर्पित की। दरअसल, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जिस गोरक्षपीठ के पीठाधीश्वर हैं, उसका राम मंदिर आंदोलन में अहम योगदान रहा है। उनके गुरु महंत अवैद्यनाथ और महंत अवैद्यनाथ गुरु महंत दिग्विजय नाथ, राम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान होने वाले अनेकों कार्यक्रमों में सक्रिय भूमिका निभाते थे। जानकारी के अनुसार, महंत दिग्विजयनाथ ने 1950-60 के दशक में राम जन्मभूमि से जुड़े तमाम कार्यक्रमों में सक्रिय तौर पर काम किया था।

इससे पहले उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का स्वागत करते हुए कई ट्वीट किए। इनमें उन्होंने लिखा कि माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का स्वागत है, देश की एकता व सद्भाव रखने में सभी सहयोग करें, उत्तर प्रदेश में शांति, सुरक्षा और सद्भाव का वातावरण बनाए रखने के लिए पूर्ण रूप से प्रतिबद्ध है।

बता दें कि RSS प्रमुख मोहन भागवत ने एक प्रेस कॉन्फेन्स को संबोधित करते हुए सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का स्वागत किया। अयोध्या फ़ैसले पर उन्होंने पूरे देश में आपसी भाईचारा बनाए रखने की अपील भी की। उन्होंने कहा कि मामला दशकों से चल रहा था और यह सही निष्कर्ष पर पहुँच गया है।

RSS प्रमुख ने कहा कि इस फ़ैसले को जय-पराजय की दृष्टि से बिलकुल नहीं देखा जाना चाहिए। सत्य व न्याय के मंथन से प्राप्त निष्कर्ष को भारतवर्ष के सम्पूर्ण समाज की एकात्मकता व बंधुता के  परिपोषण करने वाले निर्णय के रूप में देखना व उपयोग में लाना चाहिए। सम्पूर्ण देशवासियों से अनुरोध है कि विधि और संविधान की मर्यादा में रहकर संयमित व सात्विक रीति से अपने आनंद को व्यक्त करें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत के मंदिरों की महारानी: केदार से लेकर काशी तक बनवाए मंदिर-भोजनालय-धर्मशाला, मुगलों के किए नुकसान को पाटने वाली अहिल्याबाई होल्कर

बद्रीनाथ में भक्तों के लिए उन्होंने कई भवनों के निर्माण करवाए। 600 वर्षों तक अहिल्याबाई होल्कर का छत्र भगवान जगन्नाथ की शोभा बढ़ाता रहा।

‘8 साल में कोई ऐसा कार्य नहीं किया, जिससे देश का सिर झुके’: गुजरात में दुनिया का पहला ‘नैनो यूरिया प्लांट’, मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल...

गुजरात में नरेंद्र मोदी ने कहा कि 8 सालों के पीएम कार्यकाल में उन्होंने गलती से भी ऐसा कोई कार्य नहीं किया, जिससे देश को नीचा देखना पड़े।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
189,679FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe