Thursday, August 13, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे बिहार में कॉन्ग्रेस का हाथ थाम राजनीति करने वाली मीसा रामकृपाल का हाथ क्यों...

बिहार में कॉन्ग्रेस का हाथ थाम राजनीति करने वाली मीसा रामकृपाल का हाथ क्यों काटना चाहती हैं?

जब मीसा ने गंडासे से रामकृपाल के हाथ काटने की बात कही, तब मुझे लालू के दौर में हुए बाथे और सेनारी कांड की याद आ गई। हिंसा के उस दौर में लोगों को गंडासे और तलवार से ही काटा गया था।

आज के समय में नेताओं के लिए दल-बदल की राजनीति सामान्य सी बात हो गई है। राजनीति में साथ रहते हुए कल तक जिसे ‘चाचा’ की उपाधी दी जाती थी, उसे गठबंधन से अलग होने पर ‘चोर’ कहा जाने लग जाए तो कोई आश्चर्य की बात नहीं है। लेकिन आश्चर्य की बात तब होती है, जब गाँधी के देश में राजनीतिक फ़ायदे व नुकशान के लिए बात खून ख़राबे तक पहुँच जाए।

राजद नेता और लालू प्रसाद की बेटी मीसा भारती ने कहा, “जब रामकृपाल बीजेपी में शामिल हो रहे थे, तब मेरा मन उनका हाथ गंडासे से काटने का हुआ था।” अब ज़रा सोचिए कि जब महज एक सांसद के पार्टी छोड़ने के बाद मीसा हाथ काटना चाहती है, फ़िर तो नीतीश कुमार के राजद से अलग होकर सरकार गिराने के बाद मीसा के मन में शायद मर्डर करने की बात चल रही होगी! नीचे आप भास्कर का वीडियो देखिए और राजनीतिक पतन पर सोचने को मज़बूर होइए।

मीसा के मुँह से इस बयान को सुनने के बाद राजनीति में दिलचस्पी रखने वाले लोगों को ज़रूर चोट पहुँचेगा। ऐसा इसलिए क्योंकि जब लालू यादव की बेटी मीसा ने जन्म लिया था, तो देश में लोकतांत्रिक संकट का दौर चल रहा था। लोगों से बोलने के अधिकार छिन लिए गए थे। एक तरह से लोग राजनीतिक बंदी की जिंदगी जी रहे थे।

ऐसे दौर में जब लालू के घर में बेटी पैदा हुई तो लोगों को लगा कि आगे चलकर मीसा इंदिरा जैसी महिलाओं का जवाब होगी। जिन लोगों ने उस दौर को देखा है, आज भी मीसा शब्द सुनते ही उनके शरीर के रूह खड़े हो जाते हैं। लेकिन यह कहते हुए अफ़सोस होता है कि मीसा अपने नाम के मुताबिक कारनामे नहीं दिखा सकी, बल्कि मीसा ने तो इंदिरा से थोड़ा अलग पर समानांतर राह पकड़ के वो सब किया, जो कानूनी रूप से गलत है।

- विज्ञापन -

मीसा को आज हम जिस रूप में देख रहे हैं, दरअसल वो लालू यादव की ही देन है। एक कहावत ‘बापे पूत परापत घोड़ा, नै कुछ तो थोड़म थोड़ा’ लालू जी के प्रदेश में खूब बोला जाता है। इसका अर्थ है कि बच्चों पर बहुत ज्यादा नहीं तो भी कुछ न कुछ असर तो अपने पिता का पड़ता ही है।

मीसा ने आज रामकृपाल यादव के लिए जो हिंसक बयान दिया है, दरअसल वह मानसिकता लालू यादव की ही देन है। लालू यादव जेपी के पवित्र राजनीतिक आंदोलन से निकले हुए वो सिपाही हैं, जो अपने राजनीतिक नफ़ा-नुकसान के लिए बेहद निचले पायदान तक गए हैं।

सत्ता के लिए हिंसा का साथ देना या अपराधियों को गोदी में बिठाकर पुलिस की नज़रों से छिपा लेना लालू जी के लिए आम बात रही है। एक उदाहरण के ज़रिए इस बात को समझा जा सकता है कि अप्रैल 2016 में जब शहाबुद्दीन मर्डर केस में जेल में सजा काट रहे थे तब उसे राजद की राष्ट्रीय कार्यकारिणी का हिस्सा बनाया गया। यही नहीं, विधायक मर्डर केस में आरोपित बाहुबली राजद नेता प्रभुनाथ सिंह को भी लालू ने अपने गोद में बिठाए रखा।

बिहार का बच्चा-बच्चा यह बात जानता है कि 1990 की दौर को जातीय हिंसा, लूट-पाट व खून-ख़राबे की दौर के रूप में जाना जाता है। राम मंदिर के नाम पर आडवाणी को जेल भेजकर अपनी पीठ खुद ही थपथपाने वाले लालू यादव ने राज्य में फ़ैले जातीय हिंसा को रोकने के लिए कोई प्रयास नहीं किया।

जब मीसा ने गंडासे से रामकृपाल के हाथ काटने की बात कही, तब मुझे लालू के दौर में हुए बाथे और सेनारी कांड की याद आ गई। हिंसा के उस दौर में लोगों को गंडासे और तलवार से ही काटा गया था। सेनारी काँड में एक-एक परिवार के आधे दर्जन लोगों को बेरहमी से काटा गया था। जब बिहार में यह घटना घट रही थी तब लालू और राबड़ी इन घटनाओं के ज़रिए राजनीति की रोटी सेंकने में लगे हुए थे।

शायद मीसा ने लाशों पर अपने पिता को राजनीति करते हुए देखा होगा, तभी वो इस तरह की हिंसक बयान दे रही है।

मीसा जब बड़ी हो रहीं थी, उसने अपने पिता को चारा घोटाला करते देखा फ़िर मर्डर के आरोपित शहाबुद्दीन व प्रभुनाथ सरीखे लोगों के साथ गलबहियाँ लगाए बैठे देखा। यही वजह है कि मीसा जब भ्रष्टाचार के मामले में आरोपित होती है, या हिंसक बयान देती है। तब मुझे लगता है कि लालू की बेटी होने की वजह से मीसा के व्यवहार में यह सारी गलत चीजें आ गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुराग आनंद
अनुराग आनंद मूल रूप से (बांका ) बिहार के रहने वाले हैं। बैचलर की पढ़ाई दिल्ली विश्वविद्यालय से पूरी करने के बाद जामिया से पीजी डिप्लोमा इन हिंदी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद राजस्थान पत्रिका व दैनिक भास्कर जैसे संस्थानों में काम किया। अनुराग आनंद को कहानी और कविता लिखने का भी शौक है।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

टैक्स रिफॉर्म्स के लिए ‘विवाद से विश्वास’: खुलासा करने पर 70% तक की छूट, आयकर में पारदर्शिता

आयकर विभाग के काम में दक्षता और पारदर्शिता लाने के लिए केंद्रीय प्रत्‍यक्ष कर बोर्ड की ओर से कई पहल की गई है। विभाग की ओर से...

मणिपुर का शेर बीर टिकेंद्रजीत सिंह: अंग्रेजों ने जिन्हें कहा था ‘खतरनाक बाघ’, दी थी खुली जगह पर फाँसी

बीर टिकेंद्रजीत सिंह को 13 अगस्त 1891 को आम जनता के सामने एक खुली जगह पर फाँसी लगाई ताकि लोगों में डर पैदा किया जा सके।

ट्रांसपैरेंट टैक्सेशन – ऑनरिंग द ऑनेस्ट: PM मोदी ने लॉन्च किया प्लेटफॉर्म, ईमानदार टैक्सपेयर्स को प्रोत्साहन

PM मोदी ने ईमानदारी से कर चुकाने वालों के लिए 'ट्रांसपेरेंट टैक्सेशन- ऑनरिंग द ऑनेस्ट' नामक एक प्लेटफॉर्म का शुभारंभ करके...

इंदिरा गाँधी बाबर की कब्र पर गईं, सिर झुकाया और बोलीं – ‘मैंने इतिहास को महसूस किया…’

वो बाबर के मकबरे की ओर चल दिए। वे मकबरे के सामने खड़ी हुईं और हल्का सा सिर झुकाया। बाद में वे बोलीं - "मैं इतिहास को महसूस कर रही थी।"

उतावले राजदीप ने चलाई प्रणब मुखर्जी की मौत की ‘ब्रेकिंग’ खबर, फिर फेक न्यूज बता कर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने आदतन उतावलेपन में प्रणब मुखर्जी की मौत की फेक न्यूज़ को 'ब्रेकिंग' बताते हुए अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर कर डाली।

…जब पुलिस वालों ने रोते हुए सीनियर ऑफिसर से माँगी गोली चलाने की इजाजत: बेंगलुरु दंगे का सच

वीडियो में साफ सुना जा सकता है कि इस्लामी कट्टरपंथी भीड़ पुलिस वालों पर टूट पड़ती है। हालात भयावह हो जाने के बाद पुलिसकर्मियों ने...

प्रचलित ख़बरें

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट, दलित कॉन्ग्रेस MLA के घर पर हमला: 1000+ मुस्लिम भीड़, बेंगलुरु में दंगे व आगजनी

बेंगलुरु में 1000 से भी अधिक की मुस्लिम भीड़ ने स्थानीय विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के घर को घेर लिया और तोड़फोड़ शुरू कर दी।

गोधरा पर मुस्लिम भीड़ को क्लिन चिट, घुटनों को सेक्स में समेट वाजपेयी का मजाक: एक राहत इंदौरी यह भी

"रंग चेहरे का ज़र्द कैसा है, आईना गर्द-गर्द कैसा है, काम घुटनों से जब लिया ही नहीं...फिर ये घुटनों में दर्द कैसा है" - राहत इंदौरी ने यह...

पैगंबर मुहम्मद पर खबर, भड़के दंगे और 17 लोगों की मौत: घटना भारत की, जब दो मीडिया हाउस पर किया गया अटैक

वो 5 मौके, जब पैगंबर मुहम्मद के नाम पर इस्लामी कट्टरता का भयावह चेहरा देखने को मिला। मीडिया हाउस पर हमला भारत में हुआ था, लोग भूल गए होंगे!

दंगाइयों के संपत्ति से की जाएगी नुकसान की भरपाई: कर्नाटक के गृहमंत्री का ऐलान, तेजस्वी सूर्या ने योगी सरकार की तर्ज पर की थी...

बसवराज बोम्मई ने एक महत्वपूर्ण घोषणा करते हुए कहा कि सार्वजनिक संपत्ति और वाहनों को नुकसान की भरपाई क्षति पहुँचाने वाले दंगाइयों को करना होगा।

महेश भट्ट की ‘सड़क-2’ में किया जाएगा हिन्दुओं को बदनाम: आश्रम के साधु के ‘असली चेहरे’ को एक्सपोज करेगी आलिया

21 साल बाद निर्देशन में लौट रहे महेश भट्ट की फिल्म सड़क-2 में एक साधु को बुरा दिखाया जाएगा, आलिया द्वारा उसके 'काले कृत्यों' का खुलासा...

‘जल्दी अपलोड कर’ – बेंगलुरु में मुस्लिमों के मंदिर बचाने का ड्रामा अंत के 5 सेकंड में फुस्स, नए वीडियो से खुली पोल

राजदीप सरदेसाई ने भी मुसलमानों को 'मानव श्रृंखला' कहा। आगजनी करने वालों का कोई धर्म नहीं, मगर मंदिर के लिए मानव श्रृंखला बनाने वाले...

संबित पात्रा पर टूट पड़े लिबरल्स: कॉन्ग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी की टीवी चैनल पर बहस के बाद हुई मौत को बनाया हथियार

कॉन्ग्रेस समर्थकों और लिबरल्स ने राजीव त्यागी की मृत्यु को हथियार बना कर संबित पात्रा के खिलाफ़ ज़हर उगलना शुरू कर दिया।

टैक्स रिफॉर्म्स के लिए ‘विवाद से विश्वास’: खुलासा करने पर 70% तक की छूट, आयकर में पारदर्शिता

आयकर विभाग के काम में दक्षता और पारदर्शिता लाने के लिए केंद्रीय प्रत्‍यक्ष कर बोर्ड की ओर से कई पहल की गई है। विभाग की ओर से...

मणिपुर का शेर बीर टिकेंद्रजीत सिंह: अंग्रेजों ने जिन्हें कहा था ‘खतरनाक बाघ’, दी थी खुली जगह पर फाँसी

बीर टिकेंद्रजीत सिंह को 13 अगस्त 1891 को आम जनता के सामने एक खुली जगह पर फाँसी लगाई ताकि लोगों में डर पैदा किया जा सके।

बेंगलुरु दंगों पर कर्नाटक सरकार सख्त: न्यायिक जाँच का आदेश, पहले किया दंगाइयों से नुकसान वसूलने का ऐलान

बंगलुरु दंगों की न्यायिक जाँच होगी। CM बीएस येदुराप्पा, गृहमंत्री बसवराज बोम्मई और पुलिस अधिकारियों की बैठक में इस मामले से संबंधित...

ट्रांसपैरेंट टैक्सेशन – ऑनरिंग द ऑनेस्ट: PM मोदी ने लॉन्च किया प्लेटफॉर्म, ईमानदार टैक्सपेयर्स को प्रोत्साहन

PM मोदी ने ईमानदारी से कर चुकाने वालों के लिए 'ट्रांसपेरेंट टैक्सेशन- ऑनरिंग द ऑनेस्ट' नामक एक प्लेटफॉर्म का शुभारंभ करके...

इंदिरा गाँधी बाबर की कब्र पर गईं, सिर झुकाया और बोलीं – ‘मैंने इतिहास को महसूस किया…’

वो बाबर के मकबरे की ओर चल दिए। वे मकबरे के सामने खड़ी हुईं और हल्का सा सिर झुकाया। बाद में वे बोलीं - "मैं इतिहास को महसूस कर रही थी।"

उतावले राजदीप ने चलाई प्रणब मुखर्जी की मौत की ‘ब्रेकिंग’ खबर, फिर फेक न्यूज बता कर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने आदतन उतावलेपन में प्रणब मुखर्जी की मौत की फेक न्यूज़ को 'ब्रेकिंग' बताते हुए अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर कर डाली।

…जब पुलिस वालों ने रोते हुए सीनियर ऑफिसर से माँगी गोली चलाने की इजाजत: बेंगलुरु दंगे का सच

वीडियो में साफ सुना जा सकता है कि इस्लामी कट्टरपंथी भीड़ पुलिस वालों पर टूट पड़ती है। हालात भयावह हो जाने के बाद पुलिसकर्मियों ने...

CCTV कैमरों और स्ट्रीटलाइट्स को तोड़ा, फिर धारदार हथियार से थाने पर हमला: बेंगलुरु दंगे की पूरी प्लानिंग

70+ पुलिसकर्मियों को चोटें आईं। भीड़ ने उन पर धारदार हथियार भी फेंके। इनमें, 40 घायल पुलिस डीजे हल्ली पुलिस स्टेशन के थे जबकि अन्य...

क्या सुशांत सिंह को मारने के लिए किया गया स्टन गन का प्रयोग? सुब्रमण्यम स्वामी ने की NIA जाँच की माँग

सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्विटर पर लिखा है, "क्या यह गन अरब सागर के जरिए भारत में आई है? एनआईए को इस मामले की जाँच के साथ जुड़ना चाहिए ताकि सच सबके सामने आ सके।"

हमसे जुड़ें

246,500FansLike
64,745FollowersFollow
298,000SubscribersSubscribe
Advertisements