Sunday, May 16, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे बाप के बनाए काले कानून से बेटे के कैद होने का कर्मफल: फ़ारूक़ अब्दुल्ला...

बाप के बनाए काले कानून से बेटे के कैद होने का कर्मफल: फ़ारूक़ अब्दुल्ला और कश्मीरियत

पुराने दौर में तस्कर अगर पकड़े भी जाते थे, तो उनपर मामूली धाराएँ लगती और वो जल्दी ही छूटकर फिर से तस्करी के धंधे में जुट जाते। शायद उनकी अम्मा सिखाती होगी कि कोई भी धंधा छोटा नहीं होता और धंधे से बड़ा धर्म नहीं होता।

हाल के दौर में जिन्होंने फर्नीचर खरीदने की सोची होगी, उसे शायद कीमतों का अंदाजा होगा। मामूली प्लाईवुड का बना पाँच बाई तीन का टेबल भी चार-पाँच हज़ार का आता है। ऐसे में प्लाईवुड के बने चालीस-पचास हज़ार के पलंग/सोफे को अगर लकड़ी से बनवाया जाए तो कितनी कीमत आएगी? लाख में? ये लकड़ी अगर साधारण आम-जामुन के पेड़ के बदले शीशम की हो तब कितनी कीमत होगी? शीशम से भी महंगे सागवान का इस्तेमाल कर रहे हों तब?

शायद समझ में आ गया होगा कि चालीस हज़ार का पलंग दो लाख का हो चला है। अब सोचिए कि आपके पास ही जंगल हो, और ढेरों लकड़ी की तस्करी करने का मौका मिले तो स्थानीय माफिया क्या ऐसा मौका जाने देगा? हरगिज़ नहीं, जंगलों से लकड़ी चुराने के लिए पेड़ तो काटे ही जाएँगे।

करीब पचास साल पहले जम्मू-कश्मीर में भी ऐसा ही होता था। जंगलों की अवैध कटाई से पर्यावरण को तो नुकसान होता ही था ऊपर से तस्करों को पकड़ने वालों के लिए दूसरी समस्या भी थी। ये बिलकुल गौ-तस्करी या चोरी जैसा मामला था। एक बार गाय का अगर कीमा बना दिया, तो किसकी गाय थी, या गाय ही थी भैंस नहीं, ये कैसे सिद्ध होगा? लकड़ी का भी एक बार फर्नीचर बना डाला तो चोरी का पेड़, तस्करी की लकड़ी ये सब सिद्ध करना करीब नामुमकिन होता था।

अभी भी वैष्णो देवी जाने वाले कई युवा लौटते समय कटरा इत्यादि से क्रिकेट-बेसबॉल बैट या हॉकी स्टिक जैसी चीज़ें खरीदते आते हैं। पुराने दौर में तस्कर अगर पकड़े भी जाते थे, तो उनपर मामूली धाराएँ लगती और वो जल्दी ही छूटकर फिर से तस्करी के धंधे में जुट जाते। शायद उनकी अम्मा सिखाती होगी कि कोई भी धंधा छोटा नहीं होता और धंधे से बड़ा धर्म नहीं होता।

खैर 1970 के ऐसे ही दौर में जम्मू-कश्मीर में पब्लिक सेफ्टी एक्ट बना। पीएसए (1970) नाम से जाने जाने वाले इस एक्ट को भूतपूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला के अब्बू यानी शेख अब्दुल्ला ने लागू किया था। ये मुख्य रूप से लकड़ी के तस्करों के खिलाफ चला। शुरुआत में इसमें 16 साल से ऊपर के किसी भी व्यक्ति को दो साल तक के कारावास की सजा बिना मुकदमा चलाए ही दी जा सकती थी। बाद में (2011 में) न्यूनतम उम्र को 16 से बढ़ाकर 18 साल किया गया।

बाद में जब इलाके में कश्मीरियत (कश्मीर + शरियत) का बोलबाला हुआ तबसे ये एक्ट अलगाववादी, आतंकी, दहशतगर्द जेहादी, कश्मीरियत दिखाने वाले (यानि पत्थरबाज) सभी पर लगने लगा। हिजबुल मुजाहिद्दीन (इस्लाम की राह में लड़ने वाले पाक योद्धाओं का दल) के बुरहान वानी (जिसे एक कुख्यात पक्षकार हेडमास्टर का बेटा बता रही थी) के मारे जाने के बाद इसी कानून से पाँच सौ से ज्यादा अलगाववादी कैद किए गए थे।

पीएसए के तहत किसे कैद रखा जाए किसे नहीं, इसे बीच-बीच में एक समिति जाँचती रहती है। इसे हाई कोर्ट में चैलेंज भी किया जा सकता है। इस धारा में किसी को कैद करने के लिए स्थानीय डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट या डिवीज़नल कमिश्नर का आदेश काफी है। हाल में फारुख अब्दुल्ला के 83 की उम्र में कैद होने पर कई लोगों ने छाती कूट कुहर्रम मचाना शुरू किया है। तेरासी साल के व्यक्ति को रिटायर होने लायक, लाचार, बूढ़ा मानने वाले ये वही लोग हैं जो उससे ज्यादा उम्र के अडवानी के रिटायर होने की तरफ बढ़ने पर छाती कूटते इसे मोदी की साजिश बता रहे थे।

शोर यहाँ तक फैला कि बिहार में “हंसुए की शादी में खुरपी के गीत गाते” अपने छोटे मोदी (सुमो) ने आईएफएस अफसरों की मीडिया से संपर्क बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा की गोष्ठी में भी मीडिया के बदले कश्मीर और फारुक अब्दुल्ला का जिक्र कर डाला।

बाकी जम्मू में एएफ(एसपी)ए लागू होने से करीब दो दशक पहले के कानून की तुलना नए ट्रैफिक जुर्मानों से करना भी हंसुए की शादी में खुरपी के गीत कहा भी जा सकता है। हाँ, बाप के बनाए काले कानून से बेटे के कैद होने में जो कर्मफल का सिद्धांत है, सो तो हइये है!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आंध्र में ईसाई धर्मांतरण की पोल खोलने वाले MP को ‘टॉर्चर’ करने की तस्वीरें वायरल: जानिए, पार्टी सांसद के ही पीछे क्यों जगन की...

कथित तौर पर सांसद राजू के पैरों को रस्सी से बाँध छड़ी से पीटा गया। वे चलने में भी सक्षम नहीं बताए जा रहे।

Covid डेथ आँकड़ों में हेरफेर है ‘मुंबई मॉडल’: अमित मालवीय ने आँकड़ों से उड़ाई BMC के प्रोपेगेंडा की धज्जियाँ

अमित मालवीय ने कोरोना वायरस संक्रमण को नियंत्रित करने का दावा करने वाली BMC के ‘मुंबई मॉडल’ पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘मुंबई मॉडल’ और कुछ नहीं बल्कि कोरोना वायरस संक्रमण से हुई मौतों पर पर्दा डालना है।

पैगंबर मोहम्मद की दी दुहाई, माँगा 10 मिनट का समय: अल जजीरा न्यूज चैनल बिल्डिंग के मालिक को अनसुना कर इजरायल ने की बमबारी

इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि बिल्डिंग का मालिक इजरायल के अधिकारी से 10 मिनट का वक्त माँगता है। वो कहता है कि चार लोग बिल्डिंग के अंदर कैमरा और बाकी उपकरण लेने के लिए अंदर गए हैं, कृपया तब तक रुक जाएँ।

यूपी में 24 मई तक कोरोना कर्फ्यू, पंजीकृत पटरी दुकानदारों को ₹1000 मासिक देगी योगी सरकार: 1 करोड़ लोगों को मिलेगा लाभ

उत्तर प्रदेश में एक बार फिर लॉकडाउन की अवधि बढ़ा दी गई है। पहले यह 17 मई तक थी, जिसे अब बढ़ाकर 24 मई तक कर दिया गया है। शनिवार शाम योगी मंत्रिमंडल की बैठक में यह फैसला लिया गया।

अल जजीरा न्यूज वाली बिल्डिंग में थे हमास के अड्डे, अटैक की प्लानिंग का था सेंटर, इसलिए उड़ा दिया: इजरायली सेना

इजरायल की सुरक्षा सेना ने अल जजीरा की बिल्डिंग को खाली करने का संदेश पहले ही दे दिया और चेतावनी देने के लिए ‘रूफ नॉकर’ बम गिराए जो...

हिन्दू जिम्मेदारी निभाएँ, मुस्लिम पर चुप्पी दिखाएँ: एजेंडा प्रसाद जी! आपकी बौद्धिक बेईमानी राष्ट्र को बहुत महँगी पड़ती है

महामारी को फैलने से रोकने के लिए यह आवश्यक है कि संक्रमण की कड़ी को तोड़ा जाए। एक समाज अगर सतर्क रहता है और दूसरा नहीं तो...

प्रचलित ख़बरें

ईद पर 1 पुलिस वाले को जलाया जिंदा, 46 को किया घायल: 24 घंटे के भीतर 30 कट्टरपंथी मुस्लिमों को फाँसी

ईद के दिन मुस्लिम कट्टरपंथियों ने 1 पुलिसकर्मी के साथ मारपीट की, उन्हें जिंदा जला दिया। त्वरित कार्रवाई करते हुए 30 को मौत की सजा।

ईद में नंगा नाच: 42 सदस्यीय डांस ग्रुप की लड़कियों को नंगा नचाया, 800 की भीड़ ने खंजर-कुल्हाड़ी से धमकाया

जब 42-सदस्यीय ग्रुप वहाँ पहुँचा तो वहाँ ईद के सांस्कृतिक कार्यक्रम जैसा कोई माहौल नहीं था। जब उन्होंने कुद्दुस अली से इस बारे में बात की तो वह उन्हें एक संदेहास्पद स्थान पर ले गया जो हर तरफ से लोहे की चादरों से घिरा हुआ था। यहाँ 700-800 लोग लड़कियों को घेर कर खंजर से...

इजरायली सेना ने अल जजीरा की बिल्डिंग को बम से उड़ाया, सिर्फ 1 घंटे की दी थी चेतावनी: Live Video

गाजा में इजरायली सेना द्वारा अल जजीरा मीडिया हाउस की बिल्डिंग पर हमला किया गया है। यह बिल्डिंग पूरी तरह ध्वस्त हो गई है।

इजरायल के विरोध में पूर्व पोर्न स्टार मिया खलीफा: ट्वीट कर बुरी तरह फँसीं, ‘किसान’ प्रदर्शन वाला ‘टूलकिट’ मामला

इजरायल और फिलिस्तीनी आंतकियों के बीच संघर्ष लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पूर्व पोर्न-स्टार मिया खलीफा ने गलती से इजरायल के विरोध में...

इजरायली रॉकेट से मरीं केरल की सौम्या… NDTV फिर खेला शब्दों से, Video में कुछ और, शीर्षक में जिहादियों का बचाव

केरल की सौम्या इजरायल में थीं, जब उनकी मौत हुई। वह अपने पति से बात कर रही थीं, तभी फिलिस्तीनी रॉकेट उनके पास आकर गिरा। लेकिन NDTV ने...

पैगंबर मोहम्मद की दी दुहाई, माँगा 10 मिनट का समय: अल जजीरा न्यूज चैनल बिल्डिंग के मालिक को अनसुना कर इजरायल ने की बमबारी

इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि बिल्डिंग का मालिक इजरायल के अधिकारी से 10 मिनट का वक्त माँगता है। वो कहता है कि चार लोग बिल्डिंग के अंदर कैमरा और बाकी उपकरण लेने के लिए अंदर गए हैं, कृपया तब तक रुक जाएँ।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,365FansLike
94,561FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe