Friday, April 23, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे बिहार चुनाव: जब 6% के लिए ब्राह्मण-सवर्ण का मुद्दा उछल सकता है तो 15%...

बिहार चुनाव: जब 6% के लिए ब्राह्मण-सवर्ण का मुद्दा उछल सकता है तो 15% SC वोटर के लिए क्या कुछ नहीं हो सकता

चुनावों पर नजर रखने वाले खुलकर स्वीकारने से हिचकिचाएँगे, लेकिन अगर राजनीति की प्रयोगशाला की बात चली ही है तो आइए देखें कि बिहार में जाति की राजनीति करने के लिए कैसे-कैसे प्रपंच रचाए जा सकते हैं।

बिहार में होने वाले चुनावों की आँच से क्या-क्या जल सकता है? बिहार के चुनावी आग की गर्मी इतनी तेज होती है कि बिहार से दिल्ली तक कुछ भी सुलग सकता है। अगर संभावनाओं की बात करें तो इससे किसी ‘दलित’ का झोंपड़ा जल सकता है और इलाके के तथाकथित सवर्णों पर आग लगाने का इल्जाम भी थोपा जा सकता है।

हाँ, ऐसी घटनाओं की जाँच होगी, अदालतें सच-झूठ का फैसला भी करेंगी, लेकिन तबतक तो चुनाव भी बीत गए होंगे, और चुनावों को कई साल भी हो गए होंगे। एक अदद नैरेटिव गढ़ने के लिए 3-4 वर्ष तो काफी हैं।

चुनावों पर नजर रखने वाले खुलकर स्वीकारने से हिचकिचाएँगे, लेकिन अगर राजनीति की प्रयोगशाला की बात चली ही है तो आइए देखें कि बिहार में जाति की राजनीति करने के लिए कैसे-कैसे प्रपंच रचाए जा सकते हैं।

बिहार में जाति की राजनीति इसलिए महत्वपूर्ण हो जाती है क्योंकि यहाँ ओबीसी और अनुसूचित जातियों/जनजातियों का मत प्रतिशत काफी ज्यादा है। अलग-अलग जातियों के मत-प्रतिशत के अनुमान के लिए टेबल देखें –

जाति आबादी (%) ध्यान देने योग्य:

  • ओबीसी/ईबीसी 46%
  • यादव 12%
  • कुर्मी 4%
  • कुशवाहा (कोएरी) 7%
  • (आर्थिक रूप से पिछड़े 28% जिसमें 3.2% तेली भी आएँगे)
  • महादलित* / दलित (अनुसूचित जातियाँ) 15% इस श्रेणी में चमार 5%, दुसाध/पासवान 5%, और मुसहर 1.8% समुदाय आते हैं।
  • मुस्लिम 16.9% (इसमें सुरजापूरी, अंसारी, पसमांदा, अहमदिया जैसे कई समुदाय आते हैं, लेकिन टिकट अधिकतर शेखों को मिलते रहे हैं।)
  • तथाकथित अगड़ी जातियाँ 19%
  • भूमिहार 6%
  • ब्राह्मण 5.5%
  • राजपूत 5.5%
  • कायस्थ 2%
  • अनुसूचित जनजातियाँ 1.3%
  • अन्य 0.4% सिक्ख, जैन, और इसाई इत्यादि

राजनीति की प्रयोगशाला में 12 अक्टूबर से 5 नवंबर 2015 के बीच मतदान होने थे। बाद के चरण ऐसे इलाकों के थे, जहाँ पर सेक्युलर वोट (जय मीम + जय भीम) महत्वपूर्ण हो जाते। 5वें चरण में (5 नवंबर) अररिया, किशनगंज, पूर्णिया, कटिहार जैसे वो इलाके थे जिसपर से इस बार भी ओवैसी की पार्टी उतरने वाली है। यहाँ अनुसूचित जातियों के समुदायों का वोट करना बहुत महत्वपूर्ण होता।

ऐसे ही दौर में 21 अक्टूबर को दिल्ली से 40 किलोमीटर दूर फरीदाबाद से एक दिल दहला देने वाली खबर आने लगी। अनुसूचित जातियों के समुदायों ने सड़क जाम कर रखा था। फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर ने कहा कि ये गाँवों में जारी जातियों के आपसी वैमनस्य का मामला लगता है जिसमें पिछले वर्ष भी तीन लोगों की जान गई थी।

जितेन्द्र नाम के जिस व्यक्ति के घर में आग लगी थी, उसने बताना शुरू किया कि उसे पहले भी गाँव ना लौटने की धमकियाँ मिली थीं। उस रात उसे पेट्रोल की बू आई तो उसने अपनी पत्नी को जगाने की कोशिश की। जबतक पति-पत्नी समझ पाते कि क्या हो रहा है, घर में आग लगा दी गई थी। पति-पत्नी तो जैसे तैसे निकले मगर उनके दो छोटे बच्चे उसी आग में जलकर मर गए। 2 वर्ष की बच्ची और 9 महीने के बच्चे को जलाकर मार देने की इस घटना पर देश भर में हंगामा मचा दिया गया।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसकी चर्चाएँ हुईं और कहा गया कि कैसे भारत में हिन्दुओं की अगड़ी जातियाँ हाशिए पर के वर्ग यानि दलितों के खून की प्यासी हैं। बड़े नेता जितेन्द्र से मिलने पहुँचे, मुआवजों की घोषणा हुई। बिहार में उस दौर में मतदान जारी था, तो जाहिर है कि उसपर भी इसका असर हुआ ही होगा।

चुनावों के बीतने के बाद किसी ने इस घटना का जिक्र करने की जरुरत नहीं समझी। मगर मामला अदालत में था तो चल ही रहा था। इस मामले की सीबीआई जाँच भी हुई थी और करनाल, दिल्ली और हैदराबाद की अलग अलग फॉरेंसिक लेबोरेटरी से साक्ष्यों की जाँच भी की गई।

पता चला कि घर पर बाहर से पेट्रोल डालकर आग लगाईं ही नहीं गई थी! आग घर के अन्दर से लगी थी। किसी आपसी विवाद में पति-पत्नी में आपस में धक्का-मुक्की हुई और घर में आग लग गई जिसका इल्जाम उन्होंने पड़ोस के राजपूतों पर ये कहते हुए लगा दिया था कि उन्होंने अक्टूबर 2014 में हुई तीन राजपूतों की हत्या का बदला लिया है।

जाहिर है जब ये हुआ तो उसे उतनी शिद्दत से पहले पन्ने पर जगह देने की अख़बारों को या मीडिया को कोई जरूरत नहीं लगी। खबर दलितों का घर जलाया जाना था, उनके मासूम बच्चों की मौत थी! पूरी कहानी फर्जी थी और उसके लिए 11 बेक़सूर लोगों को जेल में फेंक दिया गया था, ये खबर क्यों होती? चुनाव को बीते काफी समय हो चुका था, इसलिए किसी ने छोटे अख़बारों में आई 2019 की इस खबर पर ध्यान भी नहीं दिया। इस मामले का फैसला आने से अब तक में एक साल बीत चुका है और हरियाणा में ही नहीं बल्कि यूपी में भी भाजपा की सरकार है।

जातिवाद को बढ़ावा देने के लिए हाल ही में उत्तर प्रदेश के एक कुख्यात को पुलिस द्वारा मार गिराए जाने पर ब्राह्मण बनाम राजपूत कार्ड भी खेला गया है। अब जैसे-जैसे हाथरस मामले में फोरेंसिक और मेडिकल प्रमाण सामने आने लगे हैं, वैसे-वैसे इस मामले में भी पता चलने लगा है कि जिसे ये लोग सामूहिक बलात्कार के बाद हत्या का मामला बता रहे थे, उसमें कोई बलत्कार तो हुआ ही नहीं था! जिन लोगों पर मिलकर हत्या करने का अभियोग लगाया जा रहा था और एफआईआर भी करवा दी गई, वो मौके पर मौजूद भी नहीं थे। लेकिन इस पूरे वाकए में ये जरूर हुआ है कि जाति की राजनीति चमकाने वालों को मौका मिल गया है।

बाकी अगर राजनीति की प्रयोगशाला में चुनाव छोटी बात लगती हो तो देखिए कि करीब 6% ब्राह्मण-राजपूत वोट के लिए यूपी के गैंगस्टर और सुशांत सिंह राजपूत का मामला कैसे उछाला जाता है। अब अंदाजा लगाइए कि करीब 15% अनुसूचित जातियों के वोट के लिए कैसी आग लगाईं जा सकती है!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

PM मोदी के साथ मीटिंग को केजरीवाल ने बिना बताए कर दिया Live: बात हो रही थी जिंदगी बचाने की, करने लगे राजनीति

इस बैठक में केजरीवाल ने लाचारों की तरह पहले पीएम मोदी से ऑक्सीजन को लेकर अपील की और बाद में बातचीत पब्लिक कर दी।

उनके पत्थर-हमारे अन्न, उनके हमले-हमारी सेवा: कोरोना की लहर के बीच दधीचि बने मंदिरों की कहानी

देश के कई छोटे-बड़े मंदिर कोरोना काल में जनसेवा में लगे हैं। हम आपको उन 5 मंदिरों के बारे में बता रहे हैं, जिनकी सेवा ने सबको प्रभावित किया है।

विरार हो या भंडारा, सवाल वहीः कब तक जड़ता को मुंबई स्पिरिट या दिलेर दिल्ली बता मन बहलाते रहेंगे

COVID-19 की दूसरी लहर बहुत तेज है और अधिकतर राज्यों में स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है। पर ऐसा क्यों है कि महाराष्ट्र सरकार के संक्रमण रोकने के प्रयास शुरू से ही असफल दिखाई देते रहे हैं?

B.1.618 ट्रिपल म्यूटेंट कोरोना वायरस: 60 दिनों में 12% केस इसी के, टीकों-एंटीबॉडी का मुकाबला करने में भी सक्षम

"बंगाल में हाल के महीनों में B.1.618 बहुत तेजी से फैला है। B.1.617 के साथ मिलकर इसने पश्चिम बंगाल में बड़ा रूप धारण कर लिया है।"

शाहनवाज दूत है, कोरोना मरीजों के लिए बेच डाला कार: 10 महीने पुरानी खबर मीडिया में फिर से क्यों?

'शाहनवाज शेख ने मरीजों को ऑक्सीजन सिलिंडर मुहैया कराने के लिए अपनी SUV बेच डाली' - जून 2020 में चली खबर अप्रैल 2021 में फिर चलाई जा रही।

13 मरीज अस्पताल में जल कर मर गए, महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा – ‘यह नेशनल न्यूज नहीं’

महाराष्ट्र में आग लगने से 13 कोविड मरीजों की दर्दनाक मौत को लेकर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि यह राष्ट्रीय खबर नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

‘प्लाज्मा के लिए नंबर डाला, बदले में भेजी गुप्तांग की तस्वीरें; हर मिनट 3-4 फोन कॉल्स’: मुंबई की महिला ने बयाँ किया दर्द

कुछ ने कॉल कर पूछा क्या तुम सिंगल हो, तो किसी ने फोन पर किस करते हुए आवाजें निकाली। जानिए किस प्रताड़ना से गुजरी शास्वती सिवा।

सीताराम येचुरी के बेटे का कोरोना से निधन, प्रियंका ने सीताराम केसरी के लिए जता दिया दुःख… 3 बार में दी श्रद्धांजलि

प्रियंका गाँधी ने इस घटना पर श्रद्धांजलि जताने हेतु ट्वीट किया। ट्वीट को डिलीट किया। दूसरे ट्वीट को भी डिलीट किया। 3 बार में श्रद्धांजलि दी।

पाकिस्तान के जिस होटल में थे चीनी राजदूत उसे उड़ाया, बीजिंग के ‘बेल्ट एंड रोड’ प्रोजेक्ट से ऑस्ट्रेलिया ने किया किनारा

पाकिस्तान के क्वेटा में उस होटल को उड़ा दिया, जिसमें चीन के राजदूत ठहरे थे। ऑस्ट्रेलिया ने बीआरआई से संबंधित समझौतों को रद्द कर दिया है।

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

अम्मी कोविड वॉर्ड में… फिर भी बेहतर बेड के लिए इंस्पेक्टर जुल्फिकार ने डॉक्टर का सिर फोड़ा: UP पुलिस से सस्पेंड

इंस्पेक्टर जुल्फिकार ने डॉक्टर को पीटा। ये बवाल उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में कोविड-19 लेवल थ्री स्वरूपरानी अस्पताल (SRN Hospital) में हुआ।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

293,859FansLike
83,529FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe