Monday, March 8, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे शाह फ़ैसल के नए गीतों में अलगाववादियों के बोल हैं

शाह फ़ैसल के नए गीतों में अलगाववादियों के बोल हैं

देश के मुस्लिमों को मोहरा बनाकर अपनी राजनीतिक इच्छाओं की पूर्ति करने वाले फैसल को बता दें कि मोदी सरकार में अल्पसंख्यकों के फलने-फूलने के लिए पहले से ही अनेकों कल्याणकारी योजनाएँ चल रही हैं जो प्रधानमंत्री मोदी के 'सबका विकास, सबका साथ' के इरादों को स्पष्ट करती हैं।

भारतीय प्रशासनिक सेवा की परीक्षा में टॉप करने वाले कश्मीरी शाह फ़ैसल का इस्तीफ़ा देने के बाद नई पार्टी बनाने का विचार, फ़ैसल की राजनीतिक मंशा को उजागर करता है। अपने हर वक्तव्य में केवल कश्मीर मुद्दे का राग अलाप कर फ़ैसल देश की जनता का ध्यान भटकाने का काम कर रहे हैं। उन्हें लगता है कि अपने इस हथकंडे से वो जनता को अपने पक्ष में लेकर अपने राजनीतिक करियर की शुरूआत करने में कामयाब हो जाएँगे।

एनबीएसओ सरहद और अरहम फाउंडेशन द्वारा आयोजित 12वें कश्मीर महोत्सव का उद्घाटन करने के लिए एमबीबीएस डिग्री धारक फ़ैसल वहाँ पहुँचे। इस मौक़े पर पत्रकारों से बात करते हुए, फ़ैसल (35) ने सिविल सेवा से इस्तीफ़ा देने, कश्मीर मुद्दे और भविष्य की योजनाओं पर अपने विचारों, राजनीति में शामिल होने के अपने फ़ैसले के बारे में विस्तार से बात की। उन्होंने कहा, “घाटी की स्थितियों को देखते हुए, केंद्र सरकार का ध्यान आकर्षित करने की आवश्यकता है, क्योंकि जब तक हत्याएँ नहीं रुकेंगी, तब तक राज्य में स्थिति नहीं सुधरेगी।”

भारत समेत कश्मीर में ‘हिन्दुत्ववादी तत्वों’ में ख़तरनाक वृद्धि का हवाला देकर नौकरी से इस्तीफ़ा देने वाले वाले फैसल के पसंदीदा व्यक्तित्वों में से एक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान भी हैं, इसका मतलब कहीं ये तो नहीं कि फैसल की राजनीतिक गतिविधियाँ वहीं से उड़ान भरती हों।

इसके सीधे मायने तो यही लगाए जा सकते हैं कि फ़ैसल का इस्तीफ़ा केवल एक ज़रिया भर था जिससे वो अपने उन मनसूबों को पूरा कर सकें जो सेवा में रहकर पूरे नहीं किए जा सकते। फ़िलहाल तो फ़ैसल को अपनी राजनीतिक उड़ान में कई दिक़्कतों का सामना करना पड़ेगा क्योंकि हिज़्बुल मुज़ाहिदीन संगठन ने शाह फैसल के राजनीति में आने के क़दम पर कड़ा ऐतराज जताया। हिज़्बुल ने शाह के फैसले को केंद्र सरकार की चाल बताया है। बक़ायदा एक चिट्ठी के ज़रिए हिज़्बुल ने लोगों से कहा है कि वो फैसल का साथ न दे और राज्य में होने वाले विधानसभा और लोकसभा चुनावों का बहिष्कार करें। हिज़्बुल ने इतने पर ही विराम नहीं लगाया बल्कि शाह फैसल से यह भी पूछा कि उन्होंने डॉक्टर मन्नान वानी का रास्ता क्यों नहीं अपनाया और राजनेताओं की टोली में क्यों शामिल हो गए?

बता दें कि यह वही मन्नान है जिसे जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में सुरक्षाबलों ने मार गिराया था। मन्नान का एक फोटो फेसबुक पर राइफल के साथ वायरल होने पर उसे अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से निष्कासित कर दिया गया था। इसके बाद 5 जनवरी 2019 को वो हिज़्बुल में शामिल हुआ था। 

शाह फ़ैसल ने अपने इस्तीफ़े के बारे में बात करते हुए कहा, “प्रशासनिक सेवाओं की एक अहम भूमिका होती है, मैं पानी, बिजली, सड़क जैसी बुनियादी सुविधाएँ प्रदान कर सकता हूँ, लेकिन मैं लोगों के राजनीतिक अधिकारों को बहाल नहीं कर सकता क्योंकि वो केवल राजनीतिक नेताओं द्वारा ही दिए जा सकते हैं।

देश के मुस्लिमों और युवाओं को को मोहरा बनाकर अपनी राजनीतिक इच्छाओं की पूर्ति करने वाले फ़ैसल को बता दें कि मोदी सरकार में अल्पसंख्यकों के फलने-फूलने के लिए पहले से ही अनेकों कल्याणकारी योजनाएँ चल रही हैं जो प्रधानमंत्री मोदी के ‘सबका विकास, सबका साथ’ के इरादों को स्पष्ट करती हैं।

इन योजनाओं में मुस्लिम लड़कियाँ भी शामिल हैं, ‘शादी शगुन योजना‘ ऐसी ही एक योजना है । इसमें लड़कियों को 51,000 रुपए की धनराशि देना शामिल है। इसके अलावा लोन की व्यवस्था, शैक्षिक शिक्षा में सुधार, उर्दू की शिक्षा को बढ़ावा गेना, मदरसों का आधुनिकीकरण, मेधावी छात्रों को छात्रवृति, स्वरोज़गार, कौशल विकास जैसी तमाम योजनाओं के माध्यम से उन्हें भी देश में बराबरी का स्तर प्रदान किया गया है।

जम्मू-कश्मीर के युवाओं के लिए ‘उड़ान योजना‘ पहले से मौजूद है। इसका मक़सद वहाँ के युवाओं को एक बेहतर रोज़गार उपलब्ध कराने के साथ-साथ उनके जीवन को स्वावलंबी बनाना है। इस योजना के ज़रिए घाटी के लगभर 30,000 युवाओं को प्रशिक्षण दिया जा चुका है और वे देश के अलग-अलग हिस्सों में नौकरी भी कर रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर के ग़रीब परिवारों को नि:शुल्क बिजली का कनेक्शन उपलब्ध करवाने के लिए ‘सौभाग्य योजना‘ भी शुरू की गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस महत्वकांक्षी योजना के तहत दिसंबर 2018 तक चार करोड़ ग़रीब परिवारों को बिजली मुहैया करवाने का लक्ष्य रखा गया था। 

ऐसे में शाह फ़ैसल का कश्मीर मुद्दा केवल राजनीति में आने का ज़रिया मात्र दिखता है। साल 2009 में भारतीय प्रशासनिक सेवा में चयन के बाद लगभग 10 वर्ष पद पर रहने के बाद एकाएक लोकसभा चुनाव से पहले नौकरी से इस्तीफ़ा देना, फ़ैसल के जिस लक्ष्य को दिखाता है वो उनकी राजनीतिक मंशाओं को स्पष्ट दिखाता है। अब देखना बाक़ी है कि आख़िर शाह फ़ैसल एकमात्र कश्मीर को मुद्दा बनाकर कब तक अपनी राजनीति चमकाते रहेंगे, जबकि उस पाले में पहले ही बहुत भीड़ है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BJP पैसे दे तो ले लो… वोट TMC के लिए करो: ‘अकेली महिला ममता बहन’ को मिला शरद पवार का साथ

“मैं आमना-सामना करने के लिए तैयार हूँ। अगर वे (भाजपा) वोट खरीदना चाहते हैं तो पैसे ले लो और वोट टीएमसी के लिए करो।”

‘सबसे बड़ा रक्षक’ नक्सल नेता का दोस्त गौरांग क्यों बना मिथुन? 1.2 करोड़ रुपए के लिए क्यों छोड़ा TMC का साथ?

तब मिथुन नक्सली थे। उनके एकलौते भाई की करंट लगने से मौत हो गई थी। फिर परिवार के पास उन्हें वापस लौटना पड़ा था। लेकिन खतरा था...

अनुराग-तापसी को ‘किसान आंदोलन’ की सजा: शिवसेना ने लिख कर किया दावा, बॉलीवुड और गंगाजल पर कसा तंज

संपादकीय में कहा गया कि उनके खिलाफ कार्रवाई इसलिए की जा रही है, क्योंकि उन लोगों ने ‘किसानों’ के विरोध प्रदर्शन का समर्थन किया है।

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘कॉन्ग्रेस का काला हाथ वामपंथियों के लिए गोरा कैसे हो गया?’: कोलकाता में PM मोदी ने कहा – घुसपैठ रुकेगा, निवेश बढ़ेगा

कोलकाता के ब्रिगेड ग्राउंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल में अपनी पहली चुनावी जनसभा को सम्बोधित किया। मिथुन भी मंच पर।

मिथुन चक्रवर्ती के BJP में शामिल होते ही ट्विटर पर Memes की बौछार

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले मिथुन चक्रवर्ती ने कोलकाता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में भाजपा का दामन थाम लिया।

प्रचलित ख़बरें

माँ-बाप-भाई एक-एक कर मर गए, अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने दिया: 20 साल विष्णु को किस जुर्म की सजा?

20 साल जेल में बिताने के बाद बरी किए गए विष्णु तिवारी के मामले में NHRC ने स्वत: संज्ञान लिया है।

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,963FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe