Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजहिज़्बुल मुजाहिद्दीन के पोस्टर में शाह फ़ैसल को समर्थन न देने की अपील

हिज़्बुल मुजाहिद्दीन के पोस्टर में शाह फ़ैसल को समर्थन न देने की अपील

शाह फ़ैसल ने 2009 की सिविल सेवा सर्विस परीक्षा में भारत में पहला रैंक हासिल किया था और 9 जनवरी 2019 को IAS के पद से इस्तीफ़ा दे दिया था।

आईएएस की नौकरी छोड़कर राजनीति में आने का सपना देखने वाले शाह फ़ैसल जल्द-कश्मीर में अपनी नई पार्टी की लॉन्चिंग करने वाले हैं। इसी बीच कुख़्यात आतंकी संगठन हिज़्बुल मुजाहिद्दीन का एक पोस्टर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। पोस्टर में लोगों से कहा गया है कि वह फ़ैसल का समर्थन नहीं करें। हिज़्बुल मुजाहिद्दीन से जुड़े संगठन का कहना है कि फ़ैसल के आने से राजनीति में उसका मूवमेंट कमज़ोर पड़ेगा। हालाँकि, पुलिस ने अभी तक इस पोस्टर की पुष्टि नहीं की है।  

पोस्टर में कहा गया है, ”भारत ने चुनाव को क़ामयाब बनाने के लिए बहुत ही तेज़ चाल चली है और उन्होंने शाह फ़ैसले को चारा बना लिया है। हम पूरी कौम से अपील करते हैं कि चुनाव में वोट हरगिज़ नहीं डालें, क्योंकि ये भारत की चाल है। जब शाह फ़ैसल को वोट पड़ेंगे तो ये भारत बोलेगा कि पूरा कश्मीर हमारे साथ है।”

9 जनवरी को शाह फ़ैसल ने दिया था पद से इस्तीफ़ा

बता दें कि बीते 9 जनवरी को शाह फ़ैसल ने IAS के पद से इस्तीफ़ा दिया था और राजनीतिक पार्टी लॉन्च करने के लिए लोगों से सुझाव माँगे थे। फ़ैसल ने कहा था, “मेरे पास आइडिया है कि मुझे क्या करना चाहिए, लेकिन मैं अंतिम निर्णय लेने से पहले लोगों के विचार जानना चाहता हूँ।” बता दें कि यह वही फ़ैसल हैं जिन्होंने 2009 की सिविल सेवा सर्विस परीक्षा में भारत में पहला रैंक हासिल किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe