Saturday, November 28, 2020
Home विविध विषय अन्य 55 साल 'करेंगे' की जुमलेबाजी बनाम 55 महीने का 'कर दिया' वाला काम

55 साल ‘करेंगे’ की जुमलेबाजी बनाम 55 महीने का ‘कर दिया’ वाला काम

हाल ही हुए सेंटर फॉर मॉनीटरिंग इंडियन इकोनॉमी के सर्वे में 64 प्रतिशत लोगों ने माना है कि 2014 में केंद्र में नरेंद्र मोदी की अगुवाई में सरकार बनने के बाद सरकारी स्तर पर भ्रष्टाचार खत्म हुआ है।

इधर, 55 महीने में गरीबों, वंचितों, पिछड़ों, किसानों, युवाओं और महिलाओं सहित देश के नागरिकों को आर्थिक सशक्तिकरण के साथ सामाजिक न्याय दिलाकर सशक्त व समृद्ध भारत न्यू इंडिया बनाने का दावा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार का हिसाब है, उधर 55 साल से कभी न पूरे होने वाले कॉन्ग्रेस के वादों की झड़ी है और विपक्ष के जुमलों की लड़ी है।

चुनावी माहौल आते ही जुमलेबाजी की रफ्तार बढ़ चुकी है। कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी अपने परनाना जवाहर लाल नेहरू, दादी इंदिरा गाँधी, पिता राजीव गाँधी और माँ सोनिया गाँधी की तरह ही फिर से ‘गरीबी हटाओ’ का राग अलापने लगे हैं। अपने पुरखों की तरह ही उन्होंने भी गरीबी हटाओ की एक हवा-हवाई अव्यवहारिक स्कीम ‘न्याय’ का शिगूफा छोड़ा है।

यह अलग बात है कि छह दशक तक न्याय की दुहाई देकर सत्ता पर कब्जा करने वाला गाँधी परिवार व कॉन्ग्रेस जनता को न्याय तो न दे सकी, हाँ… भ्रष्टाचार, वंशवाद, परिवारवाद, लोकतंत्र की हत्या करने वाला आपातकाल, आतंकवाद, नक्सलवाद, अलगाववाद, उग्रवाद, भारतीय भूभाग कश्मीर के एक हिस्से पर चीन व पाकिस्तान का कब्जा कराना, तिब्बत को चीन को सौंप देना, सिंधु जल बंटवारा करके भारत के लोगों का हक अन्यायपूर्ण तरीके से पाकिस्तान को दे देना, रक्षा सौदों में दलाली, बोफोर्स रिश्वत कांड (1987), जीप घोटाला (1948), आयल घोटाला, साइकिल घोटाला (1951), मुंधा घोटाला (1958), इंदिरा गांधी की संदिग्ध भूमिका वाला मारुति कार घोटाला, आयल घोटाला (1976), पनडुब्बी घोटाला (1987), स्टॉक मार्केट घोटाला, (1992), सिक्योरिटी घोटाला, एयरबस घोटाला, यूरिया घोटाला, स्टाम्प पेपर घोटाला, सत्यम घोटाला, 1 लाख 76 हजार करोड़ का 2 जी मामला, कॉमनवेल्थ घोटाला, देवास एंट्रिक्स घोटाला, हेलीकॉप्टर खरीद में गांधी परिवार को रिश्वत घोटाला, कांग्रेस की पूर्व अध्यक्षा सोनिया गांधी और वर्तमान अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा नेशनल हेराल्ड की 5000 करोड़ रुपए की संपत्ति का गमन मामला, प्रियंका वाड्रा के पति राबर्ट वाड्रा के लिये देशभर में हजारों एकड़ जमीन पर कब्जा मामला, असुरक्षित सीमाएँ, हथियारों व साजोसामान से वंचित सेना, निर्दोषों को फँसाकर हिंदू आतंकवाद की थियरी गढ़ना, विजय माल्या, नीरव सहित गाँधी परिवार के करीबी अनेक बेईमानों को जनता का हजारों करोड़ रुपए लुटा देना आदि जरूर दिया।

अब जरा वर्तमान मोदी सरकार का भी हिसाब लिया जाए। विश्व बैंक के ब्रूकिंग्स संस्थान के फ्यूचर डेवलपमेंट की अद्यतन रिपोर्ट ने माना है कि 2016 के बाद भारत में गरीबों की संख्या में स्टीप फाल यानी तीव्र गिरावट आई है। इस रिपोर्ट के अनुसार केवल दो साल जनवरी 16 से मई 18 तक में ही भारत में गरीबों की संख्या 12.30 करोड़ से घटकर लगभग आधी यानी 7.3 करोड़ रह गई और प्रति मिनट 44 व्यक्ति गरीबी रेखा से ऊपर जा रहा है। इसी रिपोर्ट के अनुसार इसी समयावधि में भारत ने चीन की 6.8 प्रतिशत वृद्धि दर को पीछे छोड़कर 7 प्रतिशत से अधिक वृद्धि दर के साथ दुनिया की सबसे तेज विकसित होने वाली अर्थव्यवस्था बन गई।

कॉन्ग्रेस के 55 साल के शासन में देश का हर पाँचवाँ व्यक्ति घोर गरीबी में जीवनयापन कर रहा था। आज देश की जनसंख्या लगभग 130 करोड़ है। पिछले पाँच साल में गरीबी उन्मूलन की सफलता की दर ऐसी रही कि गरीबों की 21.6 करोड़ से घटकर 5 करोड़ के आसपास अर्थात लगभग 3.8 प्रतिशत रह गई है। ब्रूकिंग्स ​रिपोर्ट कहती है कि वर्तमान की मोदी सरकार द्वारा हासिल की गई आर्थिक संवृद्धि दर बनी रही तो 2022 तक शेष 5 करोड़ लोग भी गरीबी के अभिशाप से मुक्त हो जाएँगे यानी भारत गरीबी से मुक्त हो जाएगा।

गरीबी को नारा बनाकर गरीब को बिसराने वाली कॉन्ग्रेस यदि विश्व बैंक के इन प्रमाण को झुठलाकर भ्रम की राजनीति के सहारे चुनाव जीतना चाहती है तो उसे यह जवाब तो देना होगा कि गाँधी परिवार की पाँच पीढ़ियों के गरीबों के हटाओ के नारे देने के बावजूद उनके शासनकाल में देश में गरीबी, अमीर और गरीब के बीच खाई और एक प्रतिशत धनी लोगों के पास देश का 73 प्रतिशत धन कैसे रहा?

दरअसल, देश की राजनीति की दिशा हवा-हवाई नारों और खोखले वादों के दौर से निकलकर पॉलीटिक्स ऑफ परफॉर्मेंस की ओर बढ़ चली है। हाल ही हुए सेंटर फॉर मॉनीटरिंग इंडियन इकोनॉमी के सर्वे में 64 प्रतिशत लोगों ने माना है कि 2014 में केंद्र में नरेंद्र मोदी की अगुवाई में सरकार बनने के बाद सरकारी स्तर पर भ्रष्टाचार खत्म हुआ है। इस सर्वे के आँकड़े यह भी बताते हैं कि 57 प्रतिशत लोगों का कहना है, मोदी सरकार में आवश्यक वस्तुओं की बढ़ती कीमतों पर लगाम लगी है और जीवन लागत घटी है। जबकि 75 प्रतिशत लोगों की राय है कि सरकार की कार्यशैली व प्रदर्शन उनकी आकांक्षाओं के अनुरूप रहा है। 48 प्रतिशत लोगों का कहना था कि सरकार ने बेरोजगारी की समस्या के समाधान की दिशा में संतोषजनक कार्य किया है। 55 प्रतिशत लोगों ने माना कि मोदी सरकार के कार्यकाल में महिलाओं व बच्चों के विरुद्ध अपराध कम हुए हैं। संसद के कामकाज को लेकर 65 प्रतिशत लोग मोदी सरकार के संसदीय प्रबंधन एवं कार्यों को संतोषप्रद बताया है। बड़ी संख्या में लोगों ने यह भी माना कि इस सरकार में आतंकवाद व सांप्रदायिकता की घटनाएं कम हुई हैं और सरकार ने पाकिस्तान के मामले ठीक से हैंडल किया है।

इस सर्वे में 30 प्रतिशत लोगों ने कहा है कि मोदी सरकार ने उनकी आशाओं और आकांक्षाओं से बढ़कर काम किया है, जबकि 45 प्रतिशत लोगों ने कहा है कि मोदी सरकार उनकी आकांक्षाओं को पूरा कर रही है। इस प्रकार 75 प्रतिशत लोगों ने माना है कि मोदी सरकार पाँच साल के अपने कामों के माध्यम से जनता की आकांक्षाओं पर खरी उतरी है। इस सर्वे में मोदी सरकार द्वारा पिछले पाँच साल में शुरू किये गए मिशनों व कार्यक्रमों जैसे आयकर में कटौती, आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) के लिये आरक्षण, स्टार्टअप के लिए एंजल टैक्स, आयुष्मान भारत के माध्यम से जन स्वास्थ्य सुरक्षा आदि के आधार पर नागरिकों से फीडबैक लिया गया।

यह देखकर कहा जा सकता है कि जिस तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं को देश का चौकीदार बताते हैं, उसी तरह जनता भी चौकीदार बनकर बड़ी बारीकी से सरकारों के कामकाज की निगरानी कर रही है और अच्छा या ख़राब का निर्णय स्वयं लेने लगी है। ऐसे में हवा-हवाई और अव्यवहारिक घोषणाएँ करके चुनाव जीतने की घिसी-पिटी राजनीति के चादर में लिपटे दलों का हश्र क्या होगा, यह आगामी 23 मई को सामने आ जाएगा। किंतु एक बात तय है कि अब जनता के निर्णय का पैमाना बदल चुका है और प्रेरक राजनीति और सकारात्मक प्रगतिशील सुशासन इसका आधार बनने लगा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Harish Chandra Srivastavahttp://up.bjp.org/state-media/
Spokesperson of Bharatiya Janata Party, Uttar Pradesh

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लव जिहाद पर यूपी में अब बेल नहीं, 10 साल की सजा संभव: योगी सरकार के अध्यादेश पर राज्यपाल की मुहर

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने 'ग्रूमिंग जिहाद (लव जिहाद)' के खिलाफ बने विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020 पर हस्ताक्षर कर दिया है।

दिल्ली दंगों के दौरान मुस्लिमों को भड़काने वाला संगठन ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों को पहुँचा रहा भोजन: 25 मस्जिद काम में लगे

UAH के मुखिया नदीम खान ने कहा कि मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे लोगों को मदद पहुँचाने के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है।

‘बंगाल में हम बहुसंख्यक, क्योंकि आदिवासी और दलित हिन्दू नहीं होते’: मौलाना अब्बास सिद्दीकी और ओवैसी साथ लड़ेंगे चुनाव

बड़ी मुस्लिम जनसंख्या वाले जिलों मुर्शिदाबाद (67%), मालदा (52%) और नॉर्थ दिनाजपुर में असदुद्दीन ओवैसी को बड़ा समर्थन मिल रहा है।

‘हमारी माँगटीका में चमक रही हैं स्वरा भास्कर’: यूजर्स बोले- आम्रपाली ज्वेलर्स से अब कभी कुछ नहीं खरीदेंगे

स्वरा भास्कर को ब्रांड एम्बेसडर बनाने के बाद आम्रपाली ज्वेलर्स को सोशल मीडिया में यूजर्स का कड़ा विरोध झेलना पड़ा है।

कोरोना संक्रमण पर लगातार चेताते रहे, लेकिन दिल्ली सरकार ने कदम नहीं उठाए: सुप्रीम कोर्ट से केंद्र

दिल्ली में कोरोना क्यों बना काल? सुप्रीम कोर्ट को केंद्र सरकार ने बताया है कि रोकथाम के लिए केजरीवाल सरकार ने प्रभावी कदम नहीं उठाए।

क्या घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को RAW में बहाल करने जा रही है भारत सरकार?

एक वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को रॉ में बहाल करने जा रही है। जानिए, क्या है इस दावे की सच्चाई?

प्रचलित ख़बरें

मैं नपुंसक नहीं.. हिंदुत्व का मतलब पूजा-पाठ या मंदिर का घंटा बजाना नहीं, फ़ोर्स किया तो हाथ धोकर पीछे पड़ जाऊँगा: उद्धव ठाकरे

साक्षत्कार में उद्धव ठाकरे ने कहा कि उन्हें विरोधियों के पीछे पड़ने को मजबूर ना किया जाए। इसके साथ ही ठाकरे ने कहा कि हिंदुत्व का मतलब मंदिर का घंटा बजाना नहीं है।

‘कबीर असली अल्लाह, रामपाल अंतिम पैगंबर और मुस्लिम असल इस्लाम से अनजान’: फॉलोवरों के अजीब दावों से पटा सोशल मीडिया

साल 2006 में रामपाल के भक्तों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 5 महिलाओं और 1 बच्चे की मृत्यु हुई थी और लगभग 200 लोग घायल हुए थे। इसके बाद नवंबर 2014 में उसे गिरफ्तार किया गया था।

‘उसे मत मारो, वही तो सबूत है’: हिंदुओं संजय गोविलकर का एहसान मानो वरना 26/11 तुम्हारे सिर डाला जाता

जब कसाब ने तुकाराम को गोलियों से छलनी कर दिया तो साथी पुलिसकर्मी आवेश में आ गए। वे कसाब को मार गिराना चाहते थे। लेकिन, इंस्पेक्टर गोविलकर ने ऐसा नहीं करने की सलाह दी। यदि गोविलकर ने उस दिन ऐसा नहीं किया होता तो दुनिया कसाब को समीर चौधरी के नाम से जानती।

ये कौन से किसान हैं जो कह रहे ‘इंदिरा को ठोका, मोदी को भी ठोक देंगे’, मिले खालिस्तानी समर्थन के प्रमाण

मीटिंग 3 दिसंबर को तय की गई है और हम तब तक यहीं पर रहने वाले हैं। अगर उस मीटिंग में कुछ हल नहीं निकला तो बैरिकेड तो क्या हम तो इनको (शासन प्रशासन) ऐसे ही मिटा देंगे।

दिल्ली के बेगमपुर में शिवशक्ति मंदिर में दर्जनों मूर्तियों का सिर कलम, लोगों ने कहते सुना- ‘सिर काट दिया, सिर काट दिया’

"शिव शक्ति मंदिर में लगभग दर्जन भर देवी-देवताओं का सर कलम करने वाले विधर्मी दुष्ट का दूसरे दिन भी कोई अता-पता नहीं। हिंदुओं की सहिष्णुता की कृपया और परीक्षा ना लें।”

FIR में अर्णब पर लगाए आरोप साबित नहीं कर पाई मुंबई पुलिस: SC ने बॉम्बे हाई कोर्ट को भी लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए यह भी कहा कि आपराधिक कानून, उत्पीड़न का औजार नहीं बनना चाहिए, जमानत मानवता की अभिव्यक्ति है।

‘ब्राह्मण @रामी, संस्कृत घृणा से भरी’: मणिपुर के छात्र संगठन ने स्कूल-कॉलेज में संस्कृत की कक्षा का किया विरोध

मणिपुर के छात्र संगठन MSAD ने संस्कृत को पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाए जाने पर एतराज जताया है। इसके लिए ब्राह्मणों को जिम्मेदार बताया है।

लव जिहाद पर यूपी में अब बेल नहीं, 10 साल की सजा संभव: योगी सरकार के अध्यादेश पर राज्यपाल की मुहर

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने 'ग्रूमिंग जिहाद (लव जिहाद)' के खिलाफ बने विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020 पर हस्ताक्षर कर दिया है।

दिल्ली दंगों के दौरान मुस्लिमों को भड़काने वाला संगठन ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों को पहुँचा रहा भोजन: 25 मस्जिद काम में लगे

UAH के मुखिया नदीम खान ने कहा कि मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे लोगों को मदद पहुँचाने के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है।

राजधानी एक्सप्रेस में मिले 14 रोहिंग्या (8 औरत+2 बच्चे), बांग्लादेश से भागकर भारत में घुसे थे; असम में भी 8 धराए

बांग्लादेश के शरणार्थी शिविर से भागकर भारत में घुसे 14 रोहिंग्या लोगों को राजधानी एक्सप्रेस से पकड़ा गया है। असम से भी आठ रोहिंग्या पकड़े गए हैं।

‘बंगाल में हम बहुसंख्यक, क्योंकि आदिवासी और दलित हिन्दू नहीं होते’: मौलाना अब्बास सिद्दीकी और ओवैसी साथ लड़ेंगे चुनाव

बड़ी मुस्लिम जनसंख्या वाले जिलों मुर्शिदाबाद (67%), मालदा (52%) और नॉर्थ दिनाजपुर में असदुद्दीन ओवैसी को बड़ा समर्थन मिल रहा है।

‘हमारी माँगटीका में चमक रही हैं स्वरा भास्कर’: यूजर्स बोले- आम्रपाली ज्वेलर्स से अब कभी कुछ नहीं खरीदेंगे

स्वरा भास्कर को ब्रांड एम्बेसडर बनाने के बाद आम्रपाली ज्वेलर्स को सोशल मीडिया में यूजर्स का कड़ा विरोध झेलना पड़ा है।

उमेश बन सलमान ने मंदिर में रचाई शादी, अब धर्मांतरण के लिए कर रहा प्रताड़ित: पीड़िता ने बताया- कमलनाथ राज में नहीं हुई कार्रवाई

सलमान पिछले कई हफ़्तों से उसे धर्म परिवर्तन करने के लिए न सिर्फ प्रताड़ित कर रहा है, बल्कि उसने बच्चे को भी जान से मार डालने की कोशिश की।

कोरोना संक्रमण पर लगातार चेताते रहे, लेकिन दिल्ली सरकार ने कदम नहीं उठाए: सुप्रीम कोर्ट से केंद्र

दिल्ली में कोरोना क्यों बना काल? सुप्रीम कोर्ट को केंद्र सरकार ने बताया है कि रोकथाम के लिए केजरीवाल सरकार ने प्रभावी कदम नहीं उठाए।

क्या घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को RAW में बहाल करने जा रही है भारत सरकार?

एक वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को रॉ में बहाल करने जा रही है। जानिए, क्या है इस दावे की सच्चाई?

‘नॉटी, दो टके के लोग’: कंगना पर फट पड़ीं मुंबई की मेयर, ऑफिस तोड़ने पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने लगाई थी फटकार

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कंगना रनौत के लिए 'नॉटी' का इस्तेमाल किया है। शिवसेना सांसद संजय राउत के लिए इस शब्द का अर्थ 'हरामखोर' है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,432FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe