Tuesday, October 19, 2021
Homeराजनीतिप्रकाश अंबेदकर ने चुनाव आयोग को दी जेल भेजने की धमकी, दर्ज हुई FIR

प्रकाश अंबेदकर ने चुनाव आयोग को दी जेल भेजने की धमकी, दर्ज हुई FIR

डॉक्‍टर भीमराव अंबेदकर के पोते प्रकाश अंबेदकर ने यवतमाल में कहा कि अगर वो सत्ता में आते हैं तो चुनाव आयोग को कम से कम दो दिन के लिए जेल भेजेंगे। उन्होंने चुनाव आयोग का हवाला देते हुए कहा कि वो कहते हैं पुलवामा पर बात नहीं करनी चाहिए। लेकिन हम बात करेंगे, हमें इसके लिए संविधान ने अधिकार दिया है।

लोकसभा चुनाव 2019 तारीख के नजदीक आते ही चुनावी तपिश और तेज हो गई है और इसके साथ ही नेताओं की बिरादरी इस चुनावी महासमर में अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए हर वो कदम उठा रही है, जिससे मतदाताओं को लुभाया जा सके। इसको लेकर नेताओं की जुबानी तल्खियाँ भी बढ़ती जा रही हैं। ‘भारिप बहुजन महासंघ’ (बीबीएम) पार्टी के अध्यक्ष प्रकाश अंबेदकर विपक्षी नेताओं पर तो वार करते ही रहते हैं, मगर इस बार उन्होंने अपने संबोधन में चुनाव आयोग जैसी संवैधानिक संस्था को भी नहीं छोड़ा।

संविधान निर्माता डॉक्‍टर भीमराव अंबेदकर के पोते प्रकाश अंबेदकर ने यवतमाल में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि अगर वो सत्ता में आते हैं तो चुनाव आयोग को कम से कम दो दिन के लिए जेल भेजेंगे। उन्होंने चुनाव आयोग का हवाला देते हुए कहा कि वो कहते हैं पुलवामा पर बात नहीं करनी चाहिए। लेकिन वो इस मुद्दे पर बात करेंगे, हमें इसके लिए संविधान ने अधिकार दिया है। प्रकाश अंबेदकर के इस बयान के बाद चुनाव आयोग ने प्रतिनिधि कार्यालय से इस संबंध में रिपोर्ट माँगी है। स्थानीय जिला निर्वाचन अधिकारी से इस संबंध में जल्द रिपोर्ट करने को कहा है। प्रकाश अंबेदकर के खिलाफ आईपीसी की धारा 503, 506 और 189 के तहत आपराधिक धमकी और एक लोक सेवक को धमकाने की वजह से मामला दर्ज किया गया है।

हालाँकि, यह पहली बार नहीं है जब प्रकाश अंबेदकर ने इस तरह का विवादित बयान दिया है। अंबेदकर ने पिछले साल अक्टूबर में भी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत पर हमला करते हुए दावा किया था कि उनके पास अवैध हथियार हैं और शस्त्र अधिनियम के तहत उनकी गिरफ्तारी होनी चाहिए। बता दें कि, प्रकाश आंबेडकर ‘वंचित बहुजन आघाडी’ (वीबीए) की टिकट पर महाराष्ट्र की सोलापुर और अकोला लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। ‘वंचित बहुजन आघाडी’ (वीबीए), अंबेदकर के नेतृत्व वाले ‘भारिप बहुजन महासंघ’ और असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली पार्टी ‘एआईएमआईएम’ का गठबंधन है।

गौरतलब है कि दलित नेता प्रकाश अंबेदकर ने कहा था कि उनका राजनीतिक मोर्चा महाराष्ट्र की सभी 48 लोकसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगा। उनके इस ऐलान से राज्य में कॉन्ग्रेस और राकांपा के भाजपा के खिलाफ ‘महागठबंधन’ बनाने की कोशिशों को झटका लगा था। अंबेदकर ने कहा कि भाजपा विरोधी गठबंधन में शामिल होने के लिए कॉन्ग्रेस के साथ कोई बातचीत नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा, “कॉन्ग्रेस के साथ गठबंधन बनाने के लिए कई प्रस्ताव सामने आए, लेकिन उसमें रोड़े आ गए। हम महाराष्ट्र में सभी 48 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe