तबरेज़ की बीवी को AAP से नौकरी, अंकित के पिता अब तक कर रहे केजरीवाल के ‘न्याय’ का इंतजार

अमानतुल्लाह खान ने बताया, "हम तबरेज़ की पत्नी को ₹5 लाख का चेक भेजने की कोशिश कर रहे हैं, हो सकता इस चेक को देने मैं खुद जाऊँ, हम उन्हें वक्फ बोर्ड में नौकरी भी देंगे और कानूनी मदद भी करेंगे।"

अंकित सक्सेना के पिता से किए असफल वादे के बाद अब दिल्ली में आप सरकार ने तबरेज़ की पत्नी से वादा किया है कि वह उसे रोजगार देंगे। दरअसल खबरों के मुताबिक आप विधायक अमानतुल्लाह खान की अध्यक्षता वाले दिल्ली वक्फ बोर्ड के पैनल ने गुरुवार (जून 27, 2019) को तबरेज की पत्नी को ₹5 लाख और एक सरकारी नौकरी देने का फैसला किया है

अमानतुल्लाह खान ने बताया, “हम तबरेज़ की पत्नी को ₹5 लाख का चेक भेजने की कोशिश कर रहे हैं, हो सकता इस चेक को देने मैं खुद जाऊँ, हम उन्हें वक्फ बोर्ड में नौकरी भी देंगे और कानूनी मदद भी करेंगे।”

हैरानी की बात यह है कि दिल्ली वक्फ बोर्ड का यह फैसला उस समय लिया गया है, जब दिल्ली सरकार को अंकित सक्सेना के पिता को मुआवजा न देने के कारण आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। ये वही अंकित सक्सेना है, जिसे समुदाय विशेष की लड़की से प्यार करने पर लड़की के घरवालों ने बीच सड़क पर बेरहमी से मार दिया था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

अंकित के पिता यशपाल सक्सेना ने हाल ही में वादा न पूरा करने के लिए दिल्ली सरकार के प्रति अपनी गहरी नाराज़गी जताई थी। उन्होंने बताया था कि किस तरह दिल्ली सरकार ने उन्हें किसी प्रकार का मुआवजा न देकर नाउम्मीद किया।

अंकित के पिता ने शिकायत करते हुए कहा था, “हमें बताया गया कि हमें एक अच्छा वकील और वित्तीय मदद मिलेगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। बेटे के दम पर ही हमारा परिवार चलता था जो चला गया। मुझे दिल का दौरा पड़ा है और मेरी पत्नी को 3 ऑपरेशन से गुजरना पड़ा है। पड़ोसी हमारी थोड़ी मदद करते हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा था कि हमें 5 लाख रुपए का मुआवजा मिलेगा, बाद में उन्होंने कहा कि वह हमारी और मदद करेंगे लेकिन बाद में उन्होंने कुछ नहीं किया। मैं टूट गया हूँ। “

ऐसे में कपिल मिश्रा ने दोनों मामलों में अरविंद केजरीवाल की नीयत पर सवाल खड़े करते हुए पूछा है, “केजरीवाल सरकार झारखंड में जिस चोर को पब्लिक ने मार डाला उसके परिवार को पाँच लाख रुपये और चोर की बीबी को सरकारी नौकरी दे रही हैं क्योंकि वो एक मुसलमान हैं, ध्रुव त्यागी और अंकित सक्सेना की हत्या दिल्ली में हुई पर उन्हें एक रुपया नहीं दिया क्योंकि वो हिन्दू हैं।”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

संदिग्ध हत्यारे
संदिग्ध हत्यारे कानपुर से सड़क के रास्ते लखनऊ पहुंचे थे। कानपुर रेलवे स्टेशन के सीसीटीवी से इसकी पुष्टि हुई है। हत्या को अंजाम देने के बाद दोनों ने बरेली में रात बिताई थी। हत्या के दौरान मोइनुद्दीन के दाहिने हाथ में चोट लगी थी और उसने बरेली में उपचार कराया था।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

104,900फैंसलाइक करें
19,227फॉलोवर्सफॉलो करें
109,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: