Wednesday, July 6, 2022
Homeराजनीति5 दिन में क्वारंटाइन से निकल हाथरस पहुँचे AAP के कोरोना+ विधायक कुलदीप...

5 दिन में क्वारंटाइन से निकल हाथरस पहुँचे AAP के कोरोना+ विधायक कुलदीप कुमार, खतरे में डाली कई जिंदगियाँ

इस ट्वीट के साथ उन्होंने एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें वह पीड़ित परिवार के काफी नजदीक बैठे दिख रहे हैं। राजनीतिक रोटी सेंकने के चक्कर में उन्होंने इस बात को नजरअंदाज कर दिया कि वह घातक कोरोना वायरस महामारी से जूझ रहे हैं, जिस बीमारी ने देश में 1 लाख से अधिक लोगों की जानें ली हैं और 66 लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं।

दिल्ली की कोंडली विधानसभा सीट से आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक कुलदीप कुमार की बड़ी गलती सामने आ रही है। कुलदीप कुमार ने 29 सितंबर को खुद को कोरोना पॉजिटिव बताया, लेकिन पाँच दिन के अंदर ही 4 अक्टूबर को राजनीति करने हाथरस पहुँच कर उन्होंने कई लोगों की जिंदगी दाँव पर लगा दी।

Kuldeep Kumar tested positive for coronavirus on 29th September 2020

AAP विधायक ने 29 अक्टूबर की दोपहर दो बजकर 29 मिनट पर एक ट्वीट किया। इस ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि उनको हल्का बुखार हुआ जिसके बाद उन्होंने कोरोना टेस्ट कराया। टेस्ट की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उन्होंने लिखा कि वो घर पर ही आइसोलेट रहेंगे। इसके बाद उन्होंने 4 अक्टूबर को दूसरा ट्वीट करते हुए बताया कि वो हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिजनों से मिलने पहुँचे हैं।

उन्होंने क्वारंटाइन के सारे नियमों का उल्लंघन कर हाथरस की यात्रा की। इस दौरान वो अपनी पूरी यात्रा के बारे में ट्वीट करते रहे। हाथरस जाने के दौरान अपने पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा, “हाथरस में हुए बर्बरतापूर्ण हत्याकांड से दुःखी होकर बहन मनीषा के परिवार से मिलने जा रहा हूँ।”

COVID-19 पॉजिटिव होने के एक हफ्ते भी नहीं हुए और उन्होंने 4 अक्टूबर को बड़ी भीड़ में लोगों को इकट्ठा किया और हाथरस जाने का फैसला किया।

फिर वह ट्वीट कर बताते हैं कि लगभग 1 घंटे के संघर्ष के बाद उन्हें पीड़ित परिवार से मिलने की अनुमति मिल गई है।

इसके बाद उन्होंने ट्वीट करते हुए बताया कि प्रशासन की अनुमति के बाद हाथरस में पीड़िता के परिवार से मिलने पहुँच गए हैं।

फिर उन्होंने एक अन्य ट्वीट करते हुए लिखा, “अभी हाथरस में पीड़ित परिवार से मिलकर लौटा हूँ। परिवार में डर और भय का माहौल पैदा किया जा रहा है। ये लोकतंत्र और संविधान की हत्या है। उत्तर प्रदेश में योगी राज में क़ानून नही जंगल राज चल रहा है!”

इस ट्वीट के साथ उन्होंने एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें वह पीड़ित परिवार के काफी नजदीक बैठे दिख रहे हैं। राजनीतिक रोटी सेंकने के चक्कर में उन्होंने इस बात को नजरअंदाज कर दिया कि वह घातक कोरोना वायरस महामारी से जूझ रहे हैं, जिस बीमारी ने देश में 1 लाख से अधिक लोगों की जानें ली हैं और 66 लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं।

भाजपा दिल्ली यूनिट ने AAP विधायक के लापरवाह कदम की आलोचना की है और दूसरों के जीवन को जान-बूझकर जोखिम में डालने के लिए महामारी अधिनियम के तहत उनके खिलाफ कार्रवाई की माँग की है।

बीजेपी दिल्ली यूनिट ने ट्वीट करते हुए लिखा, 29 सितम्बर को केजरीवाल जी के विधायक अपने आप को कोरोना पॉजिटिव बता रहे हैं और 4 तारीख को सभी की जान जोख़िम में डालकर ये घटिया राजनीति करने हाथरस चले गए। कौन से प्रोटोकॉल के तहत ये 5 दिन में हाथरस गए? इन पर एपिडेमिक एक्ट के तहत तुरंत कार्यवाही होनी चाहिए।”

अब बड़ा सवाल ये है कि जब विधायक कोरोना से संक्रमित थे तो फिर वो परिजनों से मिलने क्यों पहुँचे। क्योंकि पॉजिटिव आने के बाद 15 दिन तक क्वारंटाइन होना होता है। उसके बाद टेस्ट कराना होता है। अगर टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव है तभी आप बाहर निकल सकते हैं।

लेकिन AAP विधायक ने हाथरस की घटना को अपनी पार्टी के पक्ष में मोड़ने की जल्दबाजी में, क्वारंटाइन नियमों को तोड़ दिया और सकारात्मक परीक्षण के पाँच दिनों के बाद पीड़ित के परिवार से मिलने के लिए गाँव पहुँचे। 4 अक्टूबर को, विधायक ने खुद ट्विटर पर जानकारी दी कि वह पीड़ित परिवार से मिलने गाँव पहुँचे थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बोल देना नशे में था…’: राजस्थान पुलिस का Video वायरल; अजमेर दरगाह के जिस खादिम ने माँगी नूपुर शर्मा की गर्दन, उसे बताया ‘बचाव...

खादिम सलमान चिश्ती कह रहा है कि वो नशा नहीं करता, लेकिन इसके बावजूद राजस्थान पुलिस उससे कहती है, "बोल देना नशे में था, ताकि बचाया जा सके।"

सिगरेट वाली ‘काली’, लक्ष्मी बम, गाड़ी को धक्का लगाते भगवान शंकर… मनोरंजन के नाम पर देवी-देवताओं का मजाक, इस हिंदू घृणा का इलाज क्या

भले 'काली' के पोस्टर पर विवाद ताजा हो, लेकिन मनोरंजन इंडस्ट्री की हिंदूफोबिया पुरानी है। आखिर इसका इलाज क्या है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
204,046FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe