Wednesday, May 18, 2022
Homeराजनीतिमस्जिदों से किया गया ग़ैर-मुस्लिमों की हत्या का आह्वान, हिन्दुओं के पलायन का वीडियो...

मस्जिदों से किया गया ग़ैर-मुस्लिमों की हत्या का आह्वान, हिन्दुओं के पलायन का वीडियो वायरल

तृणमूल के एक नेता ने क्षेत्र में तनावपूर्ण स्थिति बनाने के लिए लगभग 200 गुंडों का इस्तेमाल किया। हालात इतने गंभीर थे कि पहले तो पुलिस इसमें घुसने से कन्नी काटती दिखी, आख़िरकार रैपिड एक्शन फ़ोर्स के ज़रिए काफ़ी संघर्ष के बाद अशांत माहौल पर क़ाबू पाया गया।

लोकसभा चुनाव 2019 शुरू होने के बाद से ही पश्चिम बंगाल हिंसात्मक गतिविधियों के लिए लगातार सुर्ख़ियों में बना हुआ है। मंगलवार (14 मई) को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान तृणमूल कॉन्ग्रेस के गुंडों द्वारा उन पर हमला बोले जाने की ख़बर सामने आई थी। इस दौरान जो हिंसा हुई उसके लिए बीजेपी और तृणमूल कॉन्ग्रेस ने एक-दूसरे पर गंभीर आरोप लगाए और साथ ही प्रसिद्ध दार्शनिक ईश्वरचंद विद्यासागर की मूर्ति भी तोड़ दी गई।

13 मई को एक ख़बर सामने आई थी कि शुक्रवार (10 मई) से डायमंड हार्बर में सतगाचिया विधानसभा क्षेत्र में हिंसा भड़क गई थी, जिसे नियंत्रित करने में अधिकारी जन बुरी तरह से विफल रहे। ख़बरों के अनुसार, तृणमूल के गुंडों द्वारा कथित तौर पर हिन्दुओं के घरों और दुकानों में जमकर तोड़फोड़ की गई। वहीं, दुर्भाग्य इस बात का है कि इस हिंसा को साम्प्रदायिक हिंसा का नाम देकर इसे राजनीतिक हिंसा का नाम दिया गया।

राज्य सचिवालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पीटीआई को बताया, “शुक्रवार रात शुरू हुई झड़पों के दौरान कई घरों, दुकानों और वाहनों में तोड़फोड़ की गई जो कि तीन दिनों तक जारी रही। किसी के हताहत होने की सूचना नहीं मिली।” वहीं, आईएएस अधिकारी ने मंगलवार को बताया, “यह एक राजनीतिक टकराव है, साम्प्रदायिक नहीं। हमने इस पर ज़िला प्रशासन से रिपोर्ट माँगी है।”

ऐसा दावा किया जाता है कि तृणमूल के एक नेता ने क्षेत्र में तनावपूर्ण स्थिति बनाने के लिए लगभग 200 गुंडों का इस्तेमाल किया। इसके अलावा आसपास के इलाक़ों में भी हिंसा की जानकारी मिली है। हालात इतने गंभीर थे कि पहले तो पुलिस इसमें घुसने से कन्नी काटती दिखी, आख़िरकार रैपिड एक्शन फ़ोर्स के ज़रिए काफ़ी संघर्ष के बाद अशांत माहौल पर क़ाबू पाया गया। हालाँकि, इस दौरान कुछ लोग घायल भी हुए।

आईएएस अधिकारी द्वारा किए गए दावों के विपरीत, कुछ ख़बरों के अनुसार, यह हिंसा एक साम्प्रदायिक रूप लिए हुई थी, जिसे नज़रअंदाज़ करने का भरसक प्रयास किया जा रहा था। ख़बर के अनुसार, इस हिंसात्मक हमले के अपराधी समुदाय विशेष से थे और पीड़ित वर्ग हिन्दुओं से संबंधित था।

सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो के अनुसार, ग़ैर-मुस्लिमों को मारने के लिए मस्जिदों से आह्वान किया गया था, जिसके बाद हिन्दु परिवारों में अपनी जान बचाने के लिए अफ़रा-तफ़री का माहौल बन गया।

हाल के दिनों में पश्चिम बंगाल में बड़े स्तर पर कई साम्प्रदायिक हिंसाएँ देखने को मिली हैं। इन हमलों में TMC की छत्रछाया में फलते-फूलते कट्टरपंथियों द्वारा हिन्दुओं पर हिंसात्मक हमले किए गए। मालदा और बशीरहाट में ऐसी घटनाएँ सामने आईं जहाँ कट्टरपंथी, हिन्दुओं के ख़िलाफ़ काफ़ी उग्र होते नज़र आए, जबकि इन्हीं हिंसात्मक हमलों में हिन्दुओं को बचाने की कोशिश में पुलिस महकमा पूरी तरह से विफल रहा। डायमंड हार्बर की हिंसात्मक घटना भी उसी तर्ज पर जान पड़ती है, जहाँ तृणमूल से जुड़े लोगों ने राजनीतिक आवरण के नाम पर हिन्दुओं के ख़िलाफ़ जमकर हिंसात्मक हमले किए, इस वजह से क्षेत्र के हिन्दुओं को वहाँ से पलायन करने पर मजबूर होना पड़ा।

इन घटनाओं से ममता बनर्जी के वो सभी दावे खोखले साबित होते हैं जिसमें वो अक्सर यह कहते हुए पाई जाती हैं कि वो भाजपा की तरह हिन्दू हैं। जबकि सच्चाई का इस दावे कोई लेना-देना नहीं है क्योंकि उनके राज में समुदा को संरक्षण प्राप्त है, जिससे वो हिंसात्मक गतिविधियों को अंजाम देते रहें हैं और हिन्दुओं से उनका नाता इस बात से ही स्पष्ट हो जाता है कि वो (ममता बनर्जी) उन्हें सुरक्षा प्रदान करने में एक बार नहीं हर बार नाकाम रहीं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सबा नकवी ने एटॉमिक रिएक्टर को बता दिया शिवलिंग, विरोध होने पर डिलीट कर माँगी माफ़ी: लोग बोल रहे – FIR करो

सबा नकवी ने मजाक उड़ाते हुए कहा कि भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर में सबसे बड़े शिवलिंग की खोज हुई। व्हाट्सएप्प फॉरवर्ड बता कर किया शेयर।

गुजरात में बुरी तरह फेल हुई AAP की ‘परिवर्तन यात्रा’, पंजाब से बुलाई गाड़ियाँ और लोग: खाली जगह की ओर हाथ हिलाते रहे नेता

AAP नेता और पूर्व पत्रकार इसुदान गढ़वी रैली में हाथ दिखाकर थक चुके थे लेकिन सामने कोई उनकी बात का जवाब नहीं दे रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,677FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe