Thursday, July 29, 2021
Homeराजनीतिकेजरीवाल जी... मेरा इस्तीफा स्वीकार करो क्योंकि AAP अब खास आदमी पार्टी बन गई...

केजरीवाल जी… मेरा इस्तीफा स्वीकार करो क्योंकि AAP अब खास आदमी पार्टी बन गई है

AAP नेता सौरभ भारद्वाज ने अलका लांबा को आड़े हाथों लेते हुए कहा था कि वह और उनकी पार्टी उनका (अलका) इस्तीफा ट्विटर पर भी स्वीकार करने के लिए तैयार है।

अलका लांबा ने आज (6 सितंबर 2019) आम आदमी पार्टी से इस्तीफा दे दिया। दिल्ली के चांदनी चौक की विधायक अलका लांबा और उनकी पूर्व की राजनीतिक पार्टी AAP में काफी दिनों से नहीं बन रही थी। इसी हफ्ते वो सोनिया गाँधी से भी मिलने गई थीं। तभी से कयास लगाए जा रहे थे कि वो कभी भी AAP की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे सकती हैं।

अलका लांबा ने ट्विटर पर लिखा, “AAP को गुड बाय कहने का समय आ गया है। पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। पिछले 6 साल के सफर में काफी कुछ सीखने को मिला।”

दिल्ली के चांदनी चौक इलाके की विधायक अलका लांबा ने बाद में एक और ट्वीट किया। इसमें उन्होंने अरविंद केजरीवाल को संबोधित करके लिखा, “अरविंद केजरीवाल जी, आपके प्रवक्ताओं ने आपकी इच्छा के अनुसार पूरे अहंकार के साथ मुझसे कहा था कि पार्टी ट्विटर पर भी मेरा इस्तीफा स्वीकार कर लेगी। इसलिए कृपया “आम आदमी पार्टी”, जो अब “ख़ास आदमी पार्टी” बन चुकी है, की प्राथमिक सदस्यता से मेरा इस्तीफा स्वीकार करें।”

अलका लांबा ने इस साल अगस्त की शुरुआत में ही कहा था कि वो AAP से इस्तीफा देने का फैसला कर चुकी हैं। तब उन्होंने यह भी बताया था कि आने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव में वह स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ेंगी। हालाँकि सोनिया गाँधी से उनके आवास पर मुलाकात के बाद ऐसा होगा, इसकी कम ही गुंजाइश है। फिर भी एक मँझे हुए नेता की तरह उन्होंने अभी अपने पत्ते नहीं खोले हैं। मतलब लांबा का राजनीतिक ऊँट किसी भी करवट बैठ सकता है। नीचे के दो ट्वीट से आपको अंदाजा लग जाएगा कि कॉन्ग्रेस हो या बीजेपी, उनके लिए दोनों पार्टियों में अपना भविष्य दिख रहा है।

इस्तीफा देने वाले मुद्दे पर तब AAP नेता सौरभ भारद्वाज ने अलका लांबा को आड़े हाथों लेते हुए कहा था कि वह और उनकी पार्टी उनका (अलका) इस्तीफा ट्विटर पर भी स्वीकार करने के लिए तैयार है।

आपको बता दें कि AAP और अलका लांबा के बीच इस खटास की शुरुआत लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद हुई। चुनाव में पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद लांबा ने AAP की कड़ी आलोचना की थी। तब उन्होंने पार्टी प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से जवाबदेही भी माँगी थी। इसके बाद उन्हें AAP सदस्यों के आधिकारिक व्हाट्सएप ग्रुप से निकाल दिया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्ज में डूबा, 4 साल से एडमिशन नहीं: दामाद के परिवार का मेडिकल कॉलेज, दरियादिल हुई भूपेश बघेल सरकार

दामाद के परिवार से जुड़े मेडिकल कॉलेज पर सरकारी दरियादिली को लेकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सवालों के घेरे में हैं।

मेडिकल कॉलेजों में OBC को 27%, EWS को 10% आरक्षण: MBBS में 56% और पीजी में 80% की वृद्धि – मोदी सरकार का ऐतिहासिक...

केंद्र सरकार द्वारा आरक्षण के फैसले को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि यह सामाजिक न्याय का नया प्रतिमान बनाने में मदद करेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,836FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe