Sunday, July 14, 2024
HomeराजनीतिBJP को रौंदने-फाड़ने की बातें, जेल से निकलते ही आनंद मोहन ने दिखाया अपना...

BJP को रौंदने-फाड़ने की बातें, जेल से निकलते ही आनंद मोहन ने दिखाया अपना रंग: कहा – यूपी या आंध्र प्रदेश नहीं तय करेगा मेरा किरदार

"मेरे बाहर निकलने के बाद सबसे ज्यादा छटपटाहट किसको और क्यों है? वो जानते हैं कि ये आदमी कमल दल को हाथी की तरह रौंद देगा, फाड़ देगा।

पूर्व सांसद आनंद मोहन की रिहाई पर बिहार में सियासत जारी है। उसकी रिहाई का मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुँच चुका है। कोर्ट 8 अगस्त 2023 को मामले पर सुनवाई करेगी। इस बीच आनंद मोहन ने सहरसा में एक कार्यक्रम के दौरान रौंद देने और फाड़ देने जैसी भाषा का इस्तेमाल किया है। भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधते हुए बाहुबली नेता ने तुम ताम की भाषा का भी प्रयोग किया।

शुक्रवार (19 मई 2023) को आनंद मोहन सहरसा के महिषी प्रखंड के महपुरा गाँव में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुआ। गाँव में पूर्व मुखिया इंद्रदेव सिंह की प्रतिमा लगाई गई है। आनंद मोहन ने ही इस प्रतिमा का अनावरण किया। अन्य अतिथियों के साथ आनंद मोहन ने पूर्व मुखिया इंद्रदेव सिंह की स्मारिका का भी विमोचन किया। सभा को संबोधित करते हुए आनंद मोहन ने विरोधियों पर निशाना साधा।

संबोधन के दौरान बाहुबली नेता ने कहा, “मेरे बाहर निकलने के बाद सबसे ज्यादा छटपटाहट किसको और क्यों है? वो जानते हैं कि ये आदमी कमल दल को हाथी की तरह रौंद देगा, फाड़ देगा। हम जितने दिन रहेंगे समाजवाद के लिए लड़ते रहेंगे।” आनंद मोहन ने दलित विरोधी होने के आरोपों का जवाब देते हुए कहा, “कोई बार-बार कहे हम दलित विरोधी हैं पर महिषी इसका गवाह है। जब सात हजार राजपूत हुआ करते थे। उस समय 62 हजार मतों से जीते थे। जिसे हराया था वो पिछड़ों के नेता हुआ करते थे।”

उसने कहा कि आनंद मोहन के कैरेक्टर को दिल्ली, यूपी या आंध्र प्रदेश तय नहीं करेगा, बल्कि बिहार तय करेगा।

आनंद मोहन की रिहाई पर 8 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

वहीं, आनंद मोहन सिंह की रिहाई के खिलाफ गोपालगंज के डीएम रहे जी. कृष्णैया की पत्नी उमा कृष्णैया ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी थी। शुक्रवार (19 मई) को सुप्रीम कोर्ट में इस पर सुनवाई हुई। सुप्रीम कोर्ट में राज्य सरकार ने लिखित जवाब देने के लिए और समय की माँग की। कोर्ट ने बिहार सरकार को मोहलत देते हुए अगली सुनवाई के लिए 8 अगस्त का दिन तय किया। कोर्ट ने कहा है कि बिहार सरकार को जवाब दाखिल करने के लिए और अधिक समय नहीं मिलेगा।

बता दें 27 अप्रैल 2023 को बिहार सरकार ने डीएम हत्याकांड में उम्रकैद की सजा काट रहे आनंद मोहन को रिहा कर दिया था। आनंद मोहन की रिहाई के लिए नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव ने कानून में बदलाव कर दिया था। इस रिहाई के खिलाफ जी कृष्णैया की पत्नी उमा कृष्णैया ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

US में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लगी गोली, हमलावर सहित 2 की मौत: PM मोदी ने जताया दुख, कहा- ‘राजनीति में हिंसा की...

गोलीबारी के दौरान सुरक्षाबलों ने हमलावर को मार गिराया। इस हमले में डोनाल्ड ट्रंप घायल हो गए और उनके कान से निकला खून उनके चेहरे पर दिखा।

छात्र झारखंड के, राष्ट्रगान बांग्लादेश-पाकिस्तान का, जनजातीय लड़कियों से ‘लव जिहाद’, फिर ‘लैंड जिहाद’: HC चिंतित, मरांडी ने की NIA जाँच की माँग

झारखंड में जनजातीय समाज की समस्या पर भाजपा विरोधी राजनीतिक दल भी चुप रहते हैं, जबकि वो खुद को पिछड़ों का रहनुमा कहते नहीं थकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -