Sunday, August 1, 2021
Homeराजनीतिटोपी छोड़ तिलकधारी बने बच्चों की झूठी कसम खाने वाले 'सरजी': मार्केट में आया...

टोपी छोड़ तिलकधारी बने बच्चों की झूठी कसम खाने वाले ‘सरजी’: मार्केट में आया नया ‘हनुमान भक्त’

केजरीवाल कभी हनुमानजी और स्वातिक के आपत्तिजनक कार्टून शेयर करते थे। लेकिन, इस बार चुनाव के दौरान एक न्यूज चैनल के कार्यक्रम में उन्होंने हनुमान चालीसा पढ़ी थी। मतदान के दिन हनुमान जी का दर्शन कर गए और अब तिलक लगाकर शपथ ली है।

दिल्ली के विधानसभा चुनाव में भले ही भाजपा हार गई हो, लेकिन जीतने वाली आम आदमी पार्टी अब हिंदुत्व की राजनीति पर उतर आई है। राजनीति में प्रतीकों का बड़ा महत्व होता है। हर छोटी-बड़ी चीजों को उसी स्तर से मापा जाता है- कोई बयान हो, कोई ड्रेस हो या फिर कोई नेता किसी दूसरे नेता के साथ बैठा हो। अरविंद केजरीवाल ने रविवार (फरवरी 16, 2020) को तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। लेकिन, इस बार उनका गेटअप पिछली बार से काफ़ी बदला हुआ था।

आम आदमी पार्टी के मुखिया केजरीवाल दिसंबर 2013 में पहली बार सीएम के रूप में शपथ ली थी। वो सरकार 49 दिन ही चल पाई थी। पहली बार शपथ लेते हुए केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी की सफ़ेद टोपी पहन रखी थी। उनकी पार्टी ने उस चुनाव में 28 सीटें जीती थीं। केजरीवाल ने तब की रैलियों में अपने मेंटर अन्ना हजारे के नाम को भुनाया था, बावजूद इसके कि अन्ना के उनसे मतभेद सामने आने लगे थे। तब केजरीवाल कॉन्ग्रेस विरोधी लहर और भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन पर सवार होकर दिल्ली की सत्ता तक पहुँचे थे। वो अलग बात है कि बच्चों की कसम खाने के बावजूद उन्होंने उसी कॉन्ग्रेस के साथ गठबंधन किया था।

केजरीवाल दूसरी बार प्रचंड जीत के साथ फिर से मुख्यमंत्री बने। फरवरी 2015 में जब उन्होंने दूसरी बार मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली, तब भी उन्होंने आम आदमी पार्टी की टोपी पहन रखी थी। दोनों ही समारोहों में केजरीवाल ने तिलक नहीं लगा रखा था और AAP की सिग्नेचर टोपी पहन रखी थी। अबकी केजरीवाल के सिर से उनकी पार्टी की कैप गायब हो गई है और माथे पर लाल तिलक ने उसकी जगह ले ली है। मानो वे कहना चाह रहे हों कि चुनाव के दौरान पैदा हुई ‘हनुमान भक्ति’ अभी चलेगी।

दिल्ली में मतदान से 1 दिन पहले केजरीवाल ने कनॉट प्लेस स्थित प्राचीन हनुमान मंदिर में जाकर दर्शन किया था। उन्होंने सोशल मीडिया पर दावा किया था कि हनुमानजी ने उन्हें आशीर्वाद दिया है। उससे कुछ दिनों पहले वो एक न्यूज़ शो में हनुमान चालीसा पढ़ते नज़र आए थे। केजरीवाल ने शपथग्रहण के दौरान लाल तिलक लगा कर अपनी पार्टी के कैप को हटा दिया, जो बताता है कि अभी वो हिंदुत्व की राजनीति को जारी रखने वाले हैं। हालाँकि, यही केजरीवाल कभी हनुमानजी और स्वातिक के आपत्तिजनक कार्टून शेयर किया करते थे।

दिल्ली सीएम के शपथग्रहण समारोह में 1 साल का अव्यान तोमर भी दिखा, जो केजरीवाल के ‘मफलर मैन’ वाली वेशभूषा में था। उस बच्चे की एक फोटो नतीजों के दिन वायरल हुई थी। केजरीवाल के गेटअप में नन्हा अव्यान अतिथियों के आकर्षण का केंद्र बना रहा।

दिल्ली की लेडीज: फ्री में चलो, लेकिन तुम न मन से वोट करने लायक हो न सरकार चलाने के काबिल

रामलीला मैदान में ‘मोर’ नाचा, किसने देखा: सबने देखा और मजे लिए भरपूर…

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ममता बनर्जी महान महिला’ – CPI(M) के दिवंगत नेता की बेटी ने लिखा लेख, ‘शर्मिंदा’ पार्टी करेगी कार्रवाई

माकपा नेताओं ने कहा ​कि ममता बनर्जी पर अजंता बिस्वास का लेख छपने के बाद से वे लोग बेहद शर्मिंदा महसूस कर रहे हैं।

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe