Tuesday, June 25, 2024
Homeसोशल ट्रेंडरामलीला मैदान में 'मोर' नाचा, किसने देखा: सबने देखा और मजे लिए भरपूर...

रामलीला मैदान में ‘मोर’ नाचा, किसने देखा: सबने देखा और मजे लिए भरपूर…

जमाना सोशल मीडिया का है, सो लोगों की नजर में चढ़ने का उदयवीर का यह तरीका तो काम कर गया। लेकिन, ट्विटर यूजर्स ने मजे भी जमकर लिए। बेतरतीब प्रयोग से न केवल उदयवीर खुद हॅंसी के पात्र बने, बल्कि आप के चुनाव निशान झाड़ू और उसके मुखिया केजरीवाल पर चुटकी लेने का मौका भी यूजर्स को दे गए।

दिल्ली के रामलीला मैदान में अरविंद केजरीवाल ने रविवार 16 फरवरी 2020 को अपने कैबिनेट सहयोगियों के साथ शपथ ली। इस दौरान समारोह स्थल से एक वीडियो आया और आते ही चर्चा का केंद्र बन गया। यह वीडियो उदयवीर नाम के शख्स का था। उदयवीर मोर बनकर आए थे और झाड़ू से बने उनके पंख में केजरीवाल नजर आ रहे थे।

जमाना सोशल मीडिया का है, सो लोगों की नजर में चढ़ने का उदयवीर का यह तरीका तो काम कर गया। लेकिन, ट्विटर यूजर्स ने मजे भी जमकर लिए। इस बेतरतीब प्रयोग से न केवल उदयवीर खुद हॅंसी के पात्र बने बल्कि आप के चुनाव निशान झाड़ू और उसके मुखिया केजरीवाल पर चुटकी लेने का मौका भी यूजर्स को दे गए।

ट्विटर पर आई यूजरों की प्रतिक्रियाओं ने दिल्ली में फ्री योजनाओं से लेकर पार्टी के चुनाव निशान तक पर सवाल खड़े कर दिए। साथ ही लोगों को गुलामी से लेकर दिल्ली की फ्री वाली आज़ादी तक की याद दिला दी।

@TheBhopaali नाम के यूजर ने लिखा लगता है केजरीवाल जी ने टिकटॉक वालों को भी बुलाया है, उनका आना शुभा माना जाता है, नेक लेकर जाएँगे। @FaceLessOK नाम के यूजर ने लिखा, “सही प्रतिनिधित्व कर रहा है आम आदमी पार्टी का।”

@Saffron2024 नाम के यूजर ने लिखा, “नाथू मुझे दो गोली एक्स्ट्रा मार लियो, पर पहले इसका भेजा खोल।” वहीं @bokachov ने लिखा “लोग उड़ता तीर लेते हैं, इस बेचारे ने तो पूरा तरकश ले लिया अपने पिछवाड़े में !”

@DeemagSePaidal ने लिखा, “देखना कभी नीचे चुभ नहीं जाए झाड़ू, वरना पूर्ण स्वराज मिल जाएगा तुझे आज ही।” @sharmagopal99 नाम के यूजर ने लिखा, “जैसा गुरु वैसे चेले “भांड गिरी करने में गुरु चेलों में होड़ लगी रहती है कि कौन किससे ज्यादा और बढ़िया भांड गिरी कर सकता है”।

एक यूजर ने तो युवक के इंसान होने पर ही सवाल खड़े कर दिए। @kkeep_calm नाम के यूजर ने लिखा “बहुत ही विचित्र प्राणी लग रहा है ये”। एक यूजर ने तो केजरीवाल सरकार की वाई-फाई योजना को ही अपने निशाने पर ले लिया। @ntn_kansal नाम के यूजर ने लिखा, “झाडू घुसा कर मोर बन गया। अब WI FI की दिक्कत नहीं होगी इसके आसपास”।

एक यूजर ने केजरीवाल सरकार की फ्री देने वाली योजनाओं पर निशाना साधा और देश के लोगों को गुलामी लेकर आज़ादी तक की याद दिला दी। @sun_hwr नाम के यूजर ने लिखा, “ये नई तरह की दिल्ली है जहाँ बिजली मुफ़्त, पानी मुफ़्त, आना मुफ़्त, जाना मुफ़्त… बीमार हुए तो एक करोड़ का इलाज भी मुफ़्त… पूरे विश्व को सीखना चाहिए एक राज्य से ? मुफ़्तख़ोर बनाया जाता है मोर को नाचते देखकर लगा अगर मुफ़्त योजना अंग्रेज़ लाते तो ये मोर कभी आज़ाद नहीं होना चाहता।”

आख़िर में एक यूजर के बारे में जानना आपके लिए बहुत जरूरी है @akhaware नाम के यूजर ने तो कमाल ही कर दिया और सब कुछ बिना लिखे ही बोल दिया…, खैर जो भी लिखा अब आप खुद ही देख लीजिए…

NOTA से 15 गुना पीछे वामपंथ: दिल्ली चुनाव में लेफ्ट का सूपड़ा साफ़, JNU तक सिमटे

मौत के छ: माह बाद दिवंगत शीला दीक्षित पर दिल्ली चुनाव हराने का आरोप: पीसी चाको ने दिया इस्तीफा

16 फरवरी को रामलीला मैदान में हाजिरी लगाएँगे मास्टर साहब: शपथ ग्रहण में शिक्षकों को बुलाने पर विवाद

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -