मोहम्मद सलीम ने लगाया लड़कियों से अभद्रता का आरोप, बाबुल सुप्रियो दायर करेंगे मानहानि का केस

“मैं मोहम्मद सलीम के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करूँगा, जिसे उसके संसदीय क्षेत्र के लोगों ने बाहर कर दिया है, उन्हें अपने आरोप साबित करने पड़ेंगे या फिर उसकी कीमत चुकानी पड़ेगी। मेरे वकील इससे निपटेंगे।"

कोलकाता के जादवपुर यूनिवर्सिटी में बवाल का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस मुद्दे पर केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो और सीपीआई (मार्क्सवादी) पोलित ब्यूरो के सदस्य मोहम्मद सलीम ट्विटर पर भिड़ गए। सलीम ने बाबुल सुप्रियो पर लड़कियों के साथ दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया। सलीम के इस आरोप से गुस्साए बाबुल सुप्रियो ने उन पर मानहानि का मुकदमा दर्ज कराने की बात कही है।

सीपीएम नेता मोहम्मद सलीम ने एक न्यूज रिपोर्ट का हवाला देकर ट्वीट किया, “केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो लड़कियों से पूछ रहे हैं कि वे बदन पर चिपकने वाले कपड़े क्यों पहन रही हैं। मोहम्मद सलीम ने कहा कि बाबुल सुप्रियो ने एक लड़की से यहाँ तक कहा कि वो उसके रुम में आए फिर वो बताएँगे कि बाबुल सुप्रियो कौन है। आगे मोहम्मद सलीम ने लिखा, “ऐसे सारे लोग बीजेपी में ही क्यों पाए जाते हैं?”

मोहम्मद सलीम के आरोपों का जवाब देते हुए बाबुल सुप्रियो ने कहा, “मैं मोहम्मद सलीम के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करूँगा, जिसे उसके संसदीय क्षेत्र के लोगों ने बाहर कर दिया है, उन्हें अपने आरोप साबित करने पड़ेंगे या फिर उसकी कीमत चुकानी पड़ेगी। मुझे ऐसे लोगों के खिलाफ सफाई देने की जरूरत नहीं है। ऐसा करना भी मेरी गरिमा के खिलाफ है। मेरे वकील इससे निपटेंगे।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

गौरतलब है कि, बाबुल सुप्रियो गुरुवार (सितंबर 19, 2019) रात अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के कार्यक्रम में हिस्सा लेने गए थे। जहाँ उन्हें वामपंथी छात्र संगठनों से जुड़े छात्रों के एक समूह ने घेर लिया और उन पर हमला कर दिया। बाबुल सुप्रियो के साथ हुए बदसलूकी के खिलाफ बीजेपी ने रैली निकाली और ममता बनर्जी के राज में कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए। 

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शरजील इमाम
“अब वक्त आ गया है कि हम गैर मुस्लिमों से बोलें कि अगर हमारे हमदर्द हो तो हमारी शर्तों पर आकर खड़े हो। अगर वो हमारी शर्तों पर खड़े नहीं होते तो वो हमारे हमदर्द नहीं हैं। असम को काटना हमारी जिम्मेदारी है। असम और इंडिया कटकर अलग हो जाए, तभी ये हमारी बात सुनेंगे।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,052फैंसलाइक करें
36,145फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: