Saturday, September 25, 2021
Homeराजनीतिजानिए पहली बार के MLA भूपेंद्र पटेल को बीजेपी ने क्यों चुना, गुजरात के...

जानिए पहली बार के MLA भूपेंद्र पटेल को बीजेपी ने क्यों चुना, गुजरात के नए CM का आनंदीबेन से क्या है कनेक्शन

भूपेंद्र पटेल पाटीदार समुदाय से आते हैं, जिसकी राज्य में अच्छी-खासी जनसंख्या है। भूपेंद्र पटेल अहमदाबाद के घाटलोडीया विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं।

गुजरात में भाजपा ने भूपेंद्र पटेल के नाम पर अगले मुख्यमंत्री के रूप में मुहर लगा दी है। वो विजय रुपाणी की जगह लेंगे, जिन्होंने इस्तीफा दे दिया था। भूपेंद्र पटेल राज्य के 17वें मुख्यमंत्री होंगे। उनके नाम की आधिकारिक घोषणा होनी अभी बाकी है। राजधानी गाँधीनगर में भाजपा दफ्तर ‘कमलम्’ में नेताओं की बैठक के बाद ये फैसला लिया गया। पर्यवेक्षक के रूप में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर व प्रह्लाद जोशी को दिल्ली भेजा गया था।

भूपेंद्र पटेल पाटीदार समुदाय से आते हैं, जिसकी राज्य में अच्छी-खासी जनसंख्या है। सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा कर चुके 59 वर्षीय भूपेंद्र पटेल अहमदाबाद के घाटलोडीया विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। 2017 में उन्होंने लगभग 1.17 लाख वोट से कॉन्ग्रेस के अपने नजदीकी उम्मीदवार को हराया था। ये वही विधानसभा क्षेत्र है, जिसका प्रतिनिधित्व पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल किया करती थीं। आनंदीबेन पटेल फ़िलहाल उत्तर प्रदेश की राज्यपाल हैं।

भूपेंद्र पटेल 2017 में पहली बार ही विधायक बने थे। उससे पहले वो संगठन के लिए कार्य करते थे। भाजपा विधायक दल में उनके नाम पर सहमति बनी। उनका नाम चौंकाने वाला भी है, क्योंकि उनके नाम की मीडिया में चर्चा तक नहीं थी। लंबे समय से RSS से जुड़े रहे भूपेंद्र पटेल गुजरात की विजय रुपाणी सरकार में मंत्री भी थे। वो 2015-17 में ‘अहमदाबाद अर्बन डेवलपमेंट अथॉरिटी (AUDA)’ के अध्यक्ष भी रहे हैं। पटेल समुदाय में उनकी अच्छी पकड़ मानी जाती है।

पूर्व मुख्यमंत्री रुपाणी ने कहा कि भूपेंद्र पटेल एक योग्य नेता हैं और उम्मीद है कि उनके नेतृत्व में भाजपा गुजरात का अगला विधानसभा चुनाव जीतेगी। वर्ष 1999-2000 में भूपेंद्र पटेल स्थायी समिति के अध्यक्ष और मेमनगर नगरपालिका के अध्यक्ष रहे थे। 2010-15 के दौरान वे थलतेज वार्ड से पार्षद रहे थे। पटेल पाटीदार संगठनों सरदार धाम और विश्व उमिया फाउंडेशन में ट्रस्टी भी हैं। 2008-10 में उन्होंने एएमसी के स्कूल बोर्ड के उपाध्यक्ष का पद संभाला था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कहीं स्तनपान करते शिशु को छीन कर 2 टुकड़े किए, कहीं बार-बार रेप के बाद मरी माँ की लाश पर खेल रहा था बच्चा’:...

एक शिशु अपनी माता का स्तनपान कर रहा था। मोपला मुस्लिमों ने उस बच्चे को उसकी माता की छाती से छीन कर उसके दो टुकड़े कर दिए।

‘तुम चोटी-तिलक-जनेऊ रखते हो, मंदिर जाते हो, शरीयत में ये नहीं चलेगा’: कुएँ में उतर मोपला ने किया अधमरे हिन्दुओं का नरसंहार

केरल में जिन हिन्दुओं का नरसंहार हुआ, उनमें अधिकतर पिछड़े वर्ग के लोग थे। ये जमींदारों के खिलाफ था, तो कितने मुस्लिम जमींदारों की हत्या हुई?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,198FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe