Tuesday, September 28, 2021
Homeराजनीतिक्या है स्टीवंस जॉनसन सिंड्रोम, जिससे जूझ रहे बिहार BJP अध्यक्ष संजय जायसवाल: जानिए...

क्या है स्टीवंस जॉनसन सिंड्रोम, जिससे जूझ रहे बिहार BJP अध्यक्ष संजय जायसवाल: जानिए आँख, मुँह और गुप्तांगों पर इसका असर

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने अपना हेल्थ अपडेट फेसबुक लाइव के माध्यम से दिया है। उन्होंने बताया कि अभी उनके शरीर के चमड़े खुले हैं, जब तक ये ठीक नहीं होंगे तब तक वह किसी से नहीं मिलेंगे।

बिहार में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व पश्चिम चंपारण से सांसद संजय जायसवाल ‘स्टीवंस जॉनसन सिंड्रोम (SJS/TEN)’ नामक गंभीर व दुर्लभ बीमारी से पीड़ित पाए गए हैं। उनका इलाज पटना एम्स में चल रहा है। डॉक्टर उन्हें हर संभव कोशिश करके अच्छा इलाज देने का प्रयास कर रहे हैं। इस बीच भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने अपना हेल्थ अपडेट फेसबुक लाइव के माध्यम से दिया है।

मौजूदा जानकारी के अनुसार, स्टीवंस जॉनसन सिंड्रोम एक बहुत गंभीर और दुर्लभ बीमारी है। इस बीमारी में पीड़ित को सामान्य फ्लू जैसे लक्षण दिखते हैं और कुछ दिन बाद जगह-जगह छाले होकर फूटने लगते हैं। इसके बाद उन्हीं छालों के निशान सामान्य त्वचा से अलग दिखते हैं और दर्द भी देते हैं। इस बीमारी के कारण डिहाइड्रेशन, सेप्सिस, निमोनिया और मल्टीपल ऑर्गन फेलियर जैसी चीजें हो सकती हैं।

SJS/TEN- नामक इस बीमारी में ऐसा लगता है जैसे शरीर जल गया हो, इसलिए कई अस्पतालों में इसका इलाज भी बर्न यूनिट में ही किया जाता है। सामान्यत: इसके होने के पीछे का कारण कुछ दवाइयों का सेवन होता है। ये बीमारी आँखों, मुँह और गुप्तांगों को प्रभावित करती है। इसके अलावा इसे होने की वजह निमोनिया, हर्प्स और हेपाटाइटस जैसा संक्रमण भी हैं। यह बीमारी लाखों लोगों में से 2 से 6 लोगों में पाई जाती है।

बता दें कि इसी दुर्लभ बीमारी के संबंध में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने सोशल मीडिया पर लाइव आकर बताया कि उनकी तबीयत अब ठीक है। वह कहते हैं, “मेरी तबीयत कलकत्ता में ही खराब हो गई थी। मुझे बुखार हो गया था। चूँकि मैं खुद जल संसाधन समिति का सदस्य हूँ, तो मैंने कोलकाता और गुवाहाटी में अपना कर्तव्य पूरा किया और फिर पटना लौट आया। पटना लौटने पर मेरी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई। इस वजह से पटना एम्स में भर्ती होना पड़ा। एक बहुत रेयर बीमारी होती है स्टीवंस जॉनसन सिंड्रोम, जिसमें आपका शरीर आपके खिलाफ काम करने लगता है। शरीर में जितने भी तरह के चमड़े हैं, सब में परेशानी आ जाती है। सूजन और सकफ्फिंग होने लगता है। फिलहाल इसी बीमारी से ग्रसित हूँ।”

उन्होंने बताया कि इस बीमारी को पकड़ना बहुत मुश्किल था लेकिन पटना एम्स के डॉक्टरों ने इसे डिटेक्ट कर लिया। इसके कारण वह अब ठीक हैं। उन्हें इन दिनों 104 डिग्री बुखार रहा। अन्य दिक्कतें भी हुईं जिस वजह से वह अस्पताल में भर्ती हुए। उन्होंने बताया कि अभी उनके शरीर के चमड़े खुले हैं, जब तक ये ठीक नहीं होंगे तब तक वह किसी से नहीं मिलेंगे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

देश से अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता सरमा ने पेश...

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,789FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe