Saturday, October 1, 2022
Homeराजनीतिबिहार की बाढ़ में पूर्व केंद्रीय मंत्री डूबते-डूबते बचे, जुगाड़ू नाव में फोटो शूट...

बिहार की बाढ़ में पूर्व केंद्रीय मंत्री डूबते-डूबते बचे, जुगाड़ू नाव में फोटो शूट कराते हुआ हादसा, देखें Video

रामकृपाल यादव ने कहा कि बाढ़ की विभिषिका से इलाके के लोगों की स्थिति नरक बन गई है, लेकिन प्रभावितों के बीच राहत तो दूर एक नाव की व्यवस्था नहीं हैं। उनकी मानें तो पूरा सरकारी तंत्र पटना के राजेंद्रनगर में लगा हुआ है।

बिहार में इन दिनों बाढ़ की वजह से जनजीवन बेहाल है। पटना के अधिकतर इलाके इस समय पूरी तरह बारिश में जल मग्न हैं। ऐसे में बुधवार (अक्टूबर 2, 2019) की शाम सांसद रामकृपाल यादव धनरूहा के चकियापर और रमनिबिहदा के बीच दरधा नदी पर टूटे तटबंध का दौरा करने निकले, लेकिन परिस्थियाँ ऐसी बनी कि वो वहाँ खुद डूबते-डूबते बचे।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो जब भाजपा नेता दौरे पर गए तो वहाँ किसी कारण वश नाव की व्यवस्था नहीं हो पाई। जिसके बाद वे चचरी की बनी नाव पर चढ़कर वहाँ की स्थिति देखने लगे। इस दौरान उनके साथ कई लोग भी मौजूद थे। लेकिन, इलाके का जायजा लेने के दौरान उनका बैलेंस बिगड़ गया और वे चचरी की नाव पर सवार लोगों समेत पानी में गिर कर डूबने लगे। हालाँकि, इस घटना के बाद आनन-फानन वहाँ मौजूद स्थानीय लोगों ने उन्हें डूबने से बचा लिया एवं बाकी अन्य लोगों को भी पानी से बाहर निकाला। हादसे के शिकार सभी लोगों को मामूली चोटें आईं, जिसके ईलाज के लिए सभी को पटना भेज दिया गया।

बाद में रामकृपाल यादव ने फेसबुक पर घटना का वीडियो को शेयर करते हुए लिखा, “आज पाटलिपुत्र संसदीय क्षेत्र के बाढ़ ग्रस्त इलाकों का सुबह से ही भ्रमण कर रहा हूँ। लोगों के दुःख दर्द को करीब से महसूस कर रहा हूँ और मदद की समुचित व्यवस्था के लिए निर्देश भी दे रहा हूँ। कई क्षेत्रों में स्थिति सच में काफी विकट है। लोग परेशान हैं। जल्द ही उनकी परेशानी दूर होगी। इस क्रम में आज मैं खुद दुर्घटनाग्रस्त हो गया।”

पूर्व केंद्रीय मंत्री अपने फेसबुक पोस्ट में आगे लिखते हुए खुद बताया, “धनरुआ के रमणी बिगहा में एक जगह पानी की गहराई ज्यादा थी। कोई सही नौका की व्यवस्था नहीं हो पाई। स्थानीय लोगों ने किसी तरह कुछ व्यवस्था की। चचरी वाली नौका लाई गई, इसपर सवार हो गहरे पानी को पार कर ही रहा था कि नौका डूब गई। लोगों ने तत्परता से मुझे निकाला। हल्की चोट आई। आप जनता जनार्दन की दुआ से सुरक्षित हूँ।”

गौरतलब है कि पाटलिपुत्र के सांसद रामकृपाल यादव ने बाढ़ग्रस्त इलाकों का दौरा करने के बाद बाढ़ से धनरूआ और पुनपुन की स्थिति के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि ये इलाके जलमग्न हैं और यहाँ हाहाकार मचा हुआ है, किंतु इसकी चिंता न तो शासन को हैं और न ही प्रशासन को। रामकृपाल यादव ने कहा कि बाढ़ की विभिषिका से इलाके के लोगों की स्थिति नरक बन गई है, लेकिन प्रभावितों के बीच राहत तो दूर एक नाव की व्यवस्था नहीं हैं। उनकी मानें तो पूरा सरकारी तंत्र पटना के राजेंद्रनगर में लगा हुआ है।

सोशल मीडिया पर कुछ लोगों का या भी कहना है कि जुगाड़ के नाव में फोटो शूट कराते हुए संतुलन बिगड़ जाने के कारण यह हादसा हुआ।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दुर्गा पूजा कार्यक्रम में गरबा करता दिखा मुनव्वर फारूकी, सेल्फी लेने के लिए होड़: वीडियो आया सामने, लोगों ने पूछा – हिन्दू धर्म का...

कॉमेडी के नाम पर हिन्दू देवी-देवताओं को गाली देकर शो करने वाला मुनव्वर फारुकी गरबा के कार्यक्रम में देखा गया, जिसके बाद लोग आक्रोशित हैं।

धर्म ही नहीं जमीन भी गँवा रहे हिंदू: कब्जे की भूमि पर चर्च-कब्रिस्तान से लेकर मिशनरी स्कूल तक, पहाड़ों का भी हो रहा धर्मांतरण

जमीनी स्थिति भयावह है। सरकारी से लेकर जनजातीय समाज की जमीनों पर ईसाई मिशनरियों का कब्जा है। अदालती आदेशों के बाद भी जमीन खाली नहीं हो रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,570FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe