Friday, July 1, 2022
Homeराजनीतिवरुण गाँधी, सुब्रमण्यम स्वामी और मेनका गाँधी BJP की टॉप लिस्ट से बाहर: सोशल...

वरुण गाँधी, सुब्रमण्यम स्वामी और मेनका गाँधी BJP की टॉप लिस्ट से बाहर: सोशल मीडिया से हटाया भाजपा का निशान, देखें पूरी लिस्‍ट

लखीमपुर खीरी में हुई ह‍िंसा में चार क‍िसानों समेत आठ लोगों की मौत को लेकर सांसद वरूण गाँधी ट्वीट के जरिए लगातार योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साध रहे थे। इतना ही नहीं उन्‍होंने कुछ द‍िनों पहले अपने ट्वीट के बायो से बीजेपी भी हटा ल‍िया था।

लखीमपुर खीरी हिंसा के बीच भाजपा ने नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी (National Executive) की घोषणा की है। बीजेपी की इस 80 सदस्यीय कार्यकारिणी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर कई केंद्रीय मंत्रियों, राज्य के कई नेताओं के नाम शामिल हैं। लेकिन इस लिस्ट में सुब्रमण्यम स्वामी, वरुण गाँधी और उनकी माँ मेनका गाँधी को बाहर का रास्ता दिखाया गया है। उनकी जगह कॉन्ग्रेस छोड़कर बीजेपी में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया को जगह मिली है। बीजेपी के इस ऐक्शन से ऐसा साफ पता चल रहा है कि वरुण और सुब्रमण्यम स्वामी को उनके बागी तेवरों की सजा मिली है।

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है क‍ि उत्‍तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई ह‍िंसा में चार क‍िसानों समेत आठ लोगों की मौत को लेकर सांसद वरूण गाँधी ट्वीट के जरिए लगातार योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साध रहे थे। इतना ही नहीं उन्‍होंने कुछ द‍िनों पहले अपने ट्वीट के बायो से बीजेपी भी हटा ल‍िया था। और अब कार्यकारिणी से बाहर होने के बाद सुब्रमण्यम स्वामी ने भी अपना ट्विटर बायो बदल लिया है।

इसके साथ ही कार्यसमिति के लिए विशेष आमंत्रित और स्थाई आमंत्रित सदस्यों की भी घोषणा की गई है। बीजेपी राष्ट्रीय कार्यसमिति में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी समेत 80 नेताओं को जगह दी गई है। इस सूची में गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंक्षी राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, पीयूष गोयल, किरेन रिजीजू, गिरिराज सिंह, एस जयशंकर, मनोत तिवारी समेत कई नाम शामिल हैं। हर्षवर्धन, रविशंकर प्रसाद और प्रकाश जावड़ेकर जैसे पूर्व केंद्रीय मंत्री भी राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य बने हुए हैं।

साभार- दैनिक जागरण

वहीं, इसमें नए चेहरों को भी जगह दी गई है। हाल ही में कैबिनेट में शामिल किए गए रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव, मीनाक्षी लेखी, मनसुख मंडाविया और ज्योतिरादित्य सिंधिया को राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल किया गया है। नीचे आप पूरी लिस्ट देख सकते हैं। बता दें कि 80 नियमित सदस्यों के अलावा, कार्यकारिणी में 50 विशेष आमंत्रित और 179 स्थायी आमंत्रित सदस्य भी होंगे।

साभार- दैनिक जागरण

गौरतलब है कि कार्यकारिणी पार्टी का एक प्रमुख विचार-विमर्श करने वाला निकाय होता है जो सरकार के सामने आने वाले प्रमुख मुद्दों पर चर्चा करता है और संगठन के एजेंडे को आकार देता है। कोरोना महामारी के कारण लंबे समय से बीजेपी में इसकी बैठक नहीं हुई है। वही अब इस घोषणा के बाद भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक नवंबर में होने वाली है। जेपी नड्डा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद यह पहली बैठक होगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,269FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe