Monday, April 15, 2024
Homeराजनीतिचालू वित्त वर्ष में करीब 9% की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान, वित्त मंत्री...

चालू वित्त वर्ष में करीब 9% की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान, वित्त मंत्री ने पेश किया इकोनॉमिक सर्वे: चौथा सबसे बड़ा विदेशी मुद्रा भंडार

हमारी अर्थव्यवस्था चुनौतियों का सामना करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। इसके अलावा कृषि और औद्योगिक उत्पादन वृद्धि में मदद मिली है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने सोमवार (31 जनवरी 2022) को आर्थिक सर्वेक्षण 2021-22 पेश किया। इस सर्वे में बताया गया है कि चालू वित्त वर्ष में अनुमानित 9.2% की वृद्धि और अगले वित्त वर्ष में जीडीपी ग्रोथ 8-8.5% तक रहने का अनुमान है। वार्षिक बजट से पहले आज संसद में वित्त मंत्री द्वारा पेश किए गए सर्वे में कहा गया है कि सभी मैक्रो संकेतकों (Macro Indicators) के अनुसार, हमारी अर्थव्यवस्था चुनौतियों का सामना करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। इसके अलावा कृषि और औद्योगिक उत्पादन वृद्धि में मदद मिली है।

आर्थिक सर्वेक्षण के मुताबिक, वित्तीय वर्ष 2022 में रियल जीडीपी ग्रोथ 9.2% और इंडस्ट्रियल ग्रोथ 11.8% तक होने की संभावना है। इसके साथ ही एग्रीकल्चर सेक्टर में ग्रोथ 3.9% तक हो सकती है। सर्वे में कहा गया है कि मैक्रो इकोनॉमी के मोर्चे पर वित्तीय साल 2023 में चुनौतियाँ रहेंगी, लेकिन बैंकों में पूंजी की कमी नहीं है। इसके चलते सरकार वित्तीय लक्ष्य को आसानी से हासिल कर सकती है।

वहीं, सर्वे के अनुसार महामारी के कारण हुए नुकसान से निपटने के लिए भारत की आर्थिक प्रक्रिया माँग प्रबंधन के बजाय आपूर्ति-पक्ष में सुधार पर केंद्रित रही है। वित्त वर्ष 2022-23 में वृद्धि को व्यापक टीकाकरण, आपूर्ति-पक्ष में किए गए सुधारों से हासिल लाभ एवं नियमन में दी गई ढील से समर्थन मिलेगा। आर्थिक सर्वे में यह भी कहा गया है कि भारत ने खुद को नाजुक स्थिति वाले पाँच देशों से चौथे सबसे बड़े विदेशी मुद्रा भंडार वाले राष्ट्र में बदला है।

साथ ही बताया गया है कि तिलहन, दलहन और बागवानी की ओर फसल विविधीकरण को प्राथमिकता देने की जरूरत है। आर्थिक सर्वे के मुताबिक, लघु जोत वाली कृषि प्रौद्योगिकियों के जरिए छोटे एवं सीमांत किसानों की उत्पादकता बढ़ाने पर जोर देने की बात भी कही गई है।

बता दें कि यह देश के मुख्य आर्थिक सलाहकार वी अनंत नागेश्वर का यह पहला इकोनॉमिक सर्वे है। हाल में उन्होंने अपना कार्यभार संभाला है। आर्थिक समीक्षा तैयार करने का काम आम तौर पर मुख्य आर्थिक सलाहकार का होता है, लेकिन इस बार इसे प्रिंसिपल इकोनॉमिक एडवाइजर संजीव सान्याल और अन्य अधिकारियों ने मिलकर तैयार किया है। इसका कारण है कि चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर (CEA) का पद करीब एक महीने से खाली था। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी, 2022 को सुबह 11 बजे संसद में केंद्रीय बजट (Budget) पेश करेंगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लेफ्ट-कॉन्ग्रेस ने लूटा पूरा केरल, कर्मचारियों को देने के पैसे भी नहीं बचे: PM मोदी का वामपंथी सरकार पर हमला, आर्थिक संकट के लिए...

पीएम मोदी ने कहा कि केरल की वामपंथी सरकार पर सोना तस्करी में लिप्त होने के आरोप हैं। उन्होंने कॉन्ग्रेस पर भी हमला बोला।

चुनावी रिपोर्टिंग के नाम पर कॉन्ग्रेसी CM के साथ चिकेन करी पार्टी, नवरात्रि में मछली दिखा-दिखा कर खाना… राजदीप सरदेसाई पत्रकार हैं या खानसामा

मुट्ठी से रागी मुड्डे को दबा-दबा कर गोल बना कर उसे चिकेन करी में डुबो कर निगल लेना ही अगर पत्रकारिता है तो राजदीप सरदेसाई को ये मुबारक हो!

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe