Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीतिगायों को राखी बाँधेंगे अवध के नवाबों के वंशज, कहा- 'यह गोहत्या के ख़िलाफ़...

गायों को राखी बाँधेंगे अवध के नवाबों के वंशज, कहा- ‘यह गोहत्या के ख़िलाफ़ अभियान’

"कई नवाब हनुमान के भक्त थे, मेरे पूर्वजों ने लखनऊ से लेकर अयोध्या तक हनुमानजी के मंदिरों का निर्माण कराया है। लोकप्रिय हनुमान मंदिर हनुमानगढ़ी का जीर्णोद्धार भी मेरे ही पूर्वजों ने कराया है।"

अवध के नवाबी खानदान से आने वाले भाजपा नेता बुक्कल नवाब ने आज रक्षाबंधन (अगस्त 15, 2019) के मौके पर गायों को राखी बाँधने का ऐलान किया है। लखनऊ में इसके लिए उन्होंने एक कार्यक्रम का भी आयोजन किया है, जिसमें कई लोग शामिल होंगे। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष भी उन्होंने ऐसा ही एक कार्यक्रम आयोजित किया था। भाजपा विधान पार्षद बुक्कल ने कहा कि उन्होंने रक्षाबंधन के अवसर पर ‘गौ पूजा’ का आयोजन किया है।

बुक्कल नवाब ने कहा कि इस कार्यक्रम से मनुष्य और गायों के बीच के बंधन का महत्त्व उजागर होगा और गोहत्या के ख़िलाफ़ जागरुकता भी पैदा होगी। बुक्कल नवाब पहले समाजवादी पार्टी में थे और उन्हें सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव का करीबी माना जाता था। जुलाई 2017 में उन्होंने सपा छोड़ कर भाजपा का दामन थाम लिया था। इससे पहले भी वह विवादित बयानों के कारण सुर्ख़ियों में रहे हैं।

MLC बुकक्ल नवाब ने इस कार्यक्रम के लिए मीडिया को भी निमंत्रित किया है

उन्होंने हनुमान को मुस्लिम बताया था। उन्होंने कहा था कि कई नवाब हनुमान के भक्त थे और उनके पूर्वजों ने लखनऊ से लेकर अयोध्या तक हनुमानजी के मंदिरों का निर्माण कराया है। बुक्कल के अनुसार, लोकप्रिय हनुमान मंदिर हनुमानगढ़ी का जीर्णोद्धार भी उनके ही पूर्वजों ने कराया है। दिसम्बर 2018 में बुक्कल ने कहा था कि इस्लाम में कई ऐसे नबी आए हैं जिनके नाम नहीं पता और हनुमान उनमें से एक हो सकते हैं। उन्होंने दावा किया था कि जैसे सुलेमान, रहमान और रेहान मुस्लिम नाम हैं, उसी तरह हनुमान भी मुस्लिम नाम है क्योंकि यह इन नामों से मिलता-जुलता है।

2004 में मुलायम सरकार ने बुक्कल नवाब को लेबर डिपार्टमेंट का अध्यक्ष बना कर राज्यमंत्री पद का दर्जा दिया था। बुक्कल नवाब के उस बयान से सपा में खलबली मच गई थी जिसमें उन्होंने राम मंदिर निर्माण के लिए वित्तीय मदद देने की बात कही थी। उनका 2015 में दिया गया वह बयान पार्टी को नागवार गुजरा था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में NDA की बड़ी जीत, सभी 9 उम्मीदवार जीते: INDI गठबंधन कर रहा 2 से संतोष, 1 सीट पर करारी...

INDI गठबंधन की तरफ से कॉन्ग्रेस, शिवसेना UBT और PWP पार्टी ने अपना एक-एक उमीदवार उतारा था। इनमें से PWP उम्मीदवार जयंत पाटील को हार झेलनी पड़ी।

नेपाल में गिरी चीन समर्थक प्रचंड सरकार, विश्वास मत हासिल नहीं कर पाए माओवादी: सहयोगी ओली ने हाथ खींचकर दिया तगड़ा झटका

नेपाल संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में अविश्वास प्रस्ताव पर हुए मतदान में प्रचंड मात्र 63 वोट जुटा पाए। जिसके बाद सरकार गिर गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -