Tuesday, September 27, 2022
Homeराजनीति₹1100 करोड़ का चीनी मिल घोटाला: माया के क़रीबी हाजी इक़बाल के ठिकानों पर...

₹1100 करोड़ का चीनी मिल घोटाला: माया के क़रीबी हाजी इक़बाल के ठिकानों पर CBI रेड

मोहम्मद इक़बाल ने कई मुखौटा कम्पनियाँ बनाईं, जिनके डायरेक्टर के रूप में उसने अपने लोगों को रखा।लेकिन, क़दम-क़दम पर धोखाधड़ी के कारण सीबीआई की नज़रों से वह बच नहीं सका। उसकी फ़र्ज़ी कंपनियों की नेट वर्थ से लेकर संपत्ति तक, बैलेंस शीट में सबकुछ काल्पनिक था।

कई चीनी मिल ख़रीद कर अकूत संपत्ति अर्जित करने और बेटे के साथ मिल कर करोड़ों रुपए इधर-उधर करने के मामले में सीबीआई ने बसपा के पूर्व विधान पार्षद हाजी इक़बाल पर शिकंजा कसा है। कल मंगलवार (जुलाई 9 , 2019) को उसके कई ठिकानों पर सीबीआई ने छापेमारी की। मायावती के शासनकाल में बीमार बता कर 21 चीनी मीलों को बेच डाला गया था। मोहम्मद इक़बाल के मुंशी नसीम के घर में सीबीआई की टीम ने छापेमारी की। इक़बाल के दोनों बेटों- जावेद और वाजिद के ख़िलाफ़ पहले ही मामला दर्ज किया जा चुका है। अप्रैल 2018 में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चीनी मिल घोटालों की सीबीआई जाँच की सिफारिश की थी।

यह घोटाला 2011 में हुआ था। बताया जाता है कि कुल 1100 करोड़ रुपए के इस घोटाले को अंजाम देने के लिए ही चीनी मीलों को औने-पौने दाम पर बेच डाला गया था। जिन चीनी मीलों को बेचा गया था, उसमें से 10 सक्रिय थीं जबकि बाकि 11 बंद पड़ी हुई थीं। मंगलवार को सुबह 9 बजे शुरू हुई कार्रवाई शाम तक चली। हाजी इक़बाल के बारे में कहा जाता है कि पहले वह सिर्फ़ एक लकड़ी की टाल का मालिक था लेकिन कुछ ही वर्षों में उसने अपना एक बड़ा साम्राज्य खड़ा कर लिया। सहारनपुर में उसने एक यूनिवर्सिटी भी स्थापित की।

मोहम्मद इक़बाल ने कई मुखौटा कम्पनियाँ बनाईं, जिनके डायरेक्टर के रूप में उसने अपने लोगों को रखा।लेकिन, क़दम-क़दम पर धोखाधड़ी के कारण सीबीआई की नज़रों से वह बच नहीं सका। उसकी फ़र्ज़ी कंपनियों की नेट वर्थ से लेकर संपत्ति तक, बैलेंस शीट में सबकुछ काल्पनिक था। सहारनपुर में हाजी इक़बाल के आदमी सौरभ मुकुंद और मिर्जापुर में उसके मुंशी नसीम के ठिकानों पर भी छापेमारी की गई। इक़बाल के भाई महमूद अली ने सीबीआई की इस कार्रवाई के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट जाने की धमकी दी है।

हाजी इक़बाल के बारे में कहा जाता है कि वह पूर्व मुख्यमंत्री मायावती का क़रीबी है। उसका नाम खनन घोटाले में भी आ चुका है। हाजी इक़बाल को 2010 में बसपा से विधान पार्षद बनाया गया था, जबकि उसके भाई महमूद अली को भी विधान पार्षद बनाया गया है। हाजी इक़बाल का बेटा जावेद गिरफ़्तार होकर जेल भी जा चुका है। उसके मुनीम नसीम से एजेंसी ने लगभग 2 घंटे तक गहन पूछताछ की। इससे पहले नोटबंदी के दौरान फ़र्ज़ी संस्था खड़ी कर के करोड़ों की धोखाधड़ी की गई थी। उस मामले में भी इक़बाल का नाम आया था

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भारत जोड़ो यात्रा’ छोड़ कर दिल्ली पहुँचे कॉन्ग्रेस के महासचिव, कमलनाथ-प्रियंका से भी मिलीं सोनिया गाँधी: राजस्थान के बागी बोले- सड़कों पर बहा सकते...

राजस्थान में जारी सियासी घमासान के बीच कॉन्ग्रेस हाईकमान के सामने मुश्किल खड़ी हो गई है। वेणुगोपाल और कमलनाथ दिल्ली पहुँच गए हैं।

अब इटली में भी इस्लामी कट्टरपंथियों की खैर नहीं, वहाँ बन गई राष्ट्रवादी सरकार: देश को मिली पहली महिला PM, तानाशाह मुसोलिनी की हैं...

इटली के पूर्व तानाशाह बेनिटो मुसोलिनी की कभी समर्थक रहीं जॉर्जिया मेलोनी इटली की पहली प्रधानमंत्री बनने जा रही हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,416FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe