Thursday, September 24, 2020
Home राजनीति जिस दरभंगा में 1930-40 में हवाई जहाज और रनवे था... वो बंद क्यों हुआ?...

जिस दरभंगा में 1930-40 में हवाई जहाज और रनवे था… वो बंद क्यों हुआ? क्यों कॉन्ग्रेसी सरकारों ने यहाँ की जनता को छला?

“उड़ान” नाम की योजना के तहत आज जिस दरभंगा एयरपोर्ट का विकास हो रहा है, उसकी स्थापना काफी पहले हो चुकी थी। द्वित्तीय विश्वयुद्ध के बाद “दरभंगा एविएशन” नाम की एक कंपनी भी थी। 4 हवाई जहाज थे लेकिन 1962 में सब बंद कर दिया गया। क्यों?

भारत की फिरंगियों से आजादी मिलने को एक दशक से ज्यादा का वक्त बीत चुका था। उस वक्त बिहार के ही डॉ. राजेन्द्र प्रसाद राष्ट्रपति थे और उन्होंने 4 जुलाई, 1962 को दरभंगा के महाराज कामेश्वर सिंह को धन्यवाद देते हुए एक चिट्ठी लिखी थी।

इस दौर तक राजशाही बीत चुकी थी, फिर एक लोकतान्त्रिक देश के राष्ट्रपति अपने ही देश के किसी राजवाड़े को धन्यवाद क्यों कह रहे थे? ये चिट्ठी पटना से हैदराबाद जाने के लिए हवाई-जहाज उपलब्ध करवाने और जहाज के कर्मचारियों के अच्छे व्यवहार की प्रशंसा के लिए थी। 

“उड़ान” नाम की योजना के तहत आज जिस दरभंगा एयरपोर्ट का विकास हो रहा है, उसकी स्थापना काफी पहले हो चुकी थी। बाद में जब सभी चीज़ों को लाइसेंस परमिट राज में घुसाया जाने लगा तो ऐसी कई व्यवस्थाएँ तथाकथित समाजवाद ने नष्ट कर डाली।

नरसिम्हा राव के उदारीकरण के दौर के बाद भाजपा सरकारों ने हवाई यात्रा जैसी चीज़ों को आम आदमी के पास पहुँचाने की योजना बनाई। “उड़ान” (यूडीएएन) ऐसी ही महत्वाकांक्षी योजनाओं में से एक है, जिसके तहत देश के 486 क्षेत्रीय हवाई अड्डों को नागरिक उड़ानों के लिए उपलब्ध करवाने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य रखा गया है।

- विज्ञापन -

करीब सौ साल पहले 1930 के दशक में ही दरभंगा महाराज ने अपने उपयोग के लिए विमान लिया था। फिर 1940 के दशक में एक रनवे भी तैयार हो गया। सन 1950 में उन्होंने नागरिकों के लिए उड्डयन की व्यवस्था की थी।

इस काम के लिए द्वित्तीय विश्वयुद्ध के बाद “दरभंगा एविएशन” नाम की एक कंपनी की स्थापना भी की गई। इस कंपनी के पास सेना से खरीद लिए गए चार डगलस डीसी3 हवाई जहाज थे। इनमें से दो दुर्घटनाग्रस्त हो गए, एक को किसी निजी कंपनी को बेच दिया गया और एक भारतीय सेना ने ले लिया था। इस तरह 1950 में शुरू हुई इस कंपनी ने 1962 में काम करना बंद कर दिया।

फिर कुछ साल और बीते और बिहार की दशा कुछ और बिगड़ी। कुछ तो दरभंगा और उसके आस-पास के उत्तरी बिहार के जिलों के हर साल बाढ़-पीड़ित होने की वजह से आई और कुछ लालू के जंगल-राज के दौर के अपराधीकरण से।

पलायन चलता रहा, लेकिन लोग अब भी अपनी जड़ों से जुड़े थे और छुट्टियों में घर लौटते थे। आज भी पर्व-त्योहारों के समय किसी भी महानगर से बिहार की तरफ आने वाली ट्रेनों में तिल रखने की जगह नहीं होती। ऐसे में दरभंगा के लिए भी एक अदद एयरपोर्ट की माँग लगातार बढ़ती जा रही थी। समस्या ये थी कि केंद्र की कॉन्ग्रेसी सरकारों को जन सरोकारों से कोई लेना-देना नहीं था।

बिहार में जब नीतीश कुमार की सरकार आई, तो वो भाजपा के समर्थन से बनी सरकार थी। जब केंद्र में भी भाजपा की सरकार बनी तो आम आदमी के लिए दिल्ली तक अपनी आवाज़ पहुँचाना भी सुगम हुआ।

करीब तीन दशक से ऊपर से की जा रही दरभंगा एयरपोर्ट की माँग आखिर सुन ली गई और 2018 में नए एयरपोर्ट का शिलान्यास हो गया। इसके बावजूद लोगों को, पिछले अनुभवों के कारण, कम ही भरोसा था कि सचमुच कभी एयरपोर्ट बनेगा। लेकिन करीब दो वर्षों में एयरपोर्ट का काम पूरा हो चुका है और अब नवम्बर से यहाँ से स्पाइस जेट की तीन उड़ानें दिल्ली, बेंगलुरु और मुंबई जाएँगी।

बाकी मेरा विश्वास है कि स्थानीय नेताओं में इस काम का श्रेय लेने की होड़ मच चुकी होगी। वैसे जनता को पता तो है ही कि काम किसने किया है, इसलिए आसन्न चुनावों में वोट का स्वाद चखने के लिए भी नेताओं को तैयार रहना चाहिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ऑपरेशन दुराचारी’ के तहत यौन अपराधियों के सरेआम चौराहों पर लगेंगे पोस्टर: महिला सुरक्षा पर सख्त हुई योगी सरकार

बलात्कारियों में उन्हीं के नाम का पोस्टर छपेगा जिन्हें अदालत द्वारा दोषी करार दिया जाएगा। मिशन दुराचारी के तहत महिला पुलिसकर्मियों को जिम्मा दिया जाएगा।

‘काफिरों का खून बहाना होगा, 2-4 पुलिस वालों को भी मारना होगा’ – दिल्ली दंगों के लिए होती थी मीटिंग, वहीं से खुलासा

"हम दिल्ली के मुख्यमंत्री पर दबाव डालें कि वह पूरी हिंसा का आरोप दिल्ली पुलिस पर लगा दें। हमें अपने अधिकारों के लिए सड़कों पर उतरना होगा।”

पूना पैक्ट: समझौते के बावजूद अंबेडकर ने गाँधी जी के लिए कहा था- मैं उन्हें महात्मा कहने से इंकार करता हूँ

अंबेडकर ने गाँधी जी से कहा, “मैं अपने समुदाय के लिए राजनीतिक शक्ति चाहता हूँ। हमारे जीवित रहने के लिए यह बेहद आवश्यक है।"

…भारत के ताबूत में आखिरी कील, कश्मीरी नहीं बने रहना चाहते भारतीय: फारूक अब्दुल्ला ने कहा, जो सांसद है

"इस समय कश्मीरी लोग अपने आप को न तो भारतीय समझते हैं, ना ही वे भारतीय बने रहना चाहते हैं।" - भारत के सांसद फारूक अब्दुल्ला ने...

सुरेश अंगड़ी: पहले केन्द्रीय मंत्री, जिनकी मृत्यु कोरोना वायरस की वजह से हुई, लगातार 4 बार रहे सांसद

केन्द्रीय रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी कर्नाटक की बेलागावी सीट से 4 बार सांसद रह चुके थे। उन्होंने साल 2004, 2009, 2014 और 2019 में...

‘PM मोदी को हिन्दुओं के अलावा कुछ और दिखता ही नहीं’: भारत के लिए क्यों अच्छा है ‘Time’ का बिलबिलाना

'Time' ने भारत के पीएम नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी की शुरुआत में ही लिख दिया है कि लोकतंत्र की चाभी स्वतंत्र चुनावों के पास नहीं होती।

प्रचलित ख़बरें

नेपाल में 2 km भीतर तक घुसा चीन, उखाड़ फेंके पिलर: स्थानीय लोग और जाँच करने गई टीम को भगाया

चीन द्वारा नेपाल की जमीन पर कब्जा करने का ताजा मामला हुमला जिले में स्थित नामखा-6 के लाप्चा गाँव का है। ये कर्णाली प्रान्त का हिस्सा है।

शो नहीं देखना चाहते तो उपन्यास पढ़ें या फिर टीवी कर लें बंद: ‘UPSC जिहाद’ पर सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़

'UPSC जिहाद' पर रोक को लेकर हुई सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि जिनलोगों को परेशानी है, वे टीवी को नज़रअंदाज़ कर सकते हैं।

‘ये लोग मुझे फँसा सकते हैं, मुझे डर लग रहा है, मुझे मार देंगे’: मौत से 5 दिन पहले सुशांत का परिवार को SOS

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मौत से 5 दिन पहले सुशांत ने अपनी बहन को एसओएस भेजकर जान का खतरा बताया था।

‘क्या आपके स्तन असली हैं? क्या मैं छू सकता हूँ?’: शर्लिन चोपड़ा ने KWAN टैलेंट एजेंसी के सह-संस्थापक पर लगाया यौन दुर्व्यवहार का आरोप

"मैं चौंक गई। कोई इतना घिनौना सवाल कैसे पूछ सकता है। चाहे असली हो या नकली, आपकी समस्या क्या है? क्या आप एक दर्जी हैं? जो आप स्पर्श करके महसूस करना चाहते हैं। नॉनसेंस।"

‘शिव भी तो लेते हैं ड्रग्स, फिल्मी सितारों ने लिया तो कौन सी बड़ी बात?’ – लेखिका का तंज, संबित पात्रा ने लताड़ा

मेघना का कहना था कि जब हिन्दुओं के भगवान ड्रग्स लेते हैं तो फिर बॉलीवुड सेलेब्स के लेने में कौन सी बड़ी बात हो गई? संबित पात्रा ने इसे घृणित करार दिया।

आफ़ताब दोस्तों के साथ सोने के लिए बनाता था दबाव, भगवान भी आलमारी में रखने पड़ते थे: प्रताड़ना से तंग आकर हिंदू महिला ने...

“कई बार मेरे पति आफ़ताब के द्वारा मुझपर अपने दोस्तों के साथ हमबिस्तर होने का दबाव बनाया गया लेकिन मैं अडिग रहीं। हर रोज मेरे साथ मारपीट हुई। मैं अपना नाम तक भूल गई थी। मेरा नाम तो हरामी और कुतिया पड़ गया था।"

‘ऑपरेशन दुराचारी’ के तहत यौन अपराधियों के सरेआम चौराहों पर लगेंगे पोस्टर: महिला सुरक्षा पर सख्त हुई योगी सरकार

बलात्कारियों में उन्हीं के नाम का पोस्टर छपेगा जिन्हें अदालत द्वारा दोषी करार दिया जाएगा। मिशन दुराचारी के तहत महिला पुलिसकर्मियों को जिम्मा दिया जाएगा।

भड़काऊ भाषण के लिए गए थे कॉन्ग्रेस नेता सलमान खुर्शीद, कविता कृष्णन: दिल्ली दंगो पर चार्जशीट में आरोपित ने किया बड़ा खुलासा

“एक व्यक्ति को सिर्फ गवाही के आधार पर आरोपित नहीं बना दिया जाता है। हमारे पास लगाए गए आरोपों के अतिरिक्त तमाम ऐसे सबूत हैं जिनके आधार पर हम अपनी कार्रवाई आगे बढ़ा रहे हैं।”

‘क्रिकेटरों की बीवियों को लेते देखा है ड्रग्स’- शर्लिन चोपड़ा का दावा, बॉलीवुड के बाद अब IPL पार्टी में ड्रग्स का खुलासा

मॉडल और अभिनेत्री शर्लिन चोपड़ा ने बड़ा दावा करते हुए कहा कि ड्रग्स सिर्फ बॉलीवुड तक ही सीमित नहीं है। क्रिकेट की दुनिया में भी इसका बराबर चलन है, उन्होंने आईपीएल के दौरान........

दिल्ली दंगा: UAPA के तहत JNU के पूर्व छात्रनेता उमर खालिद को 22 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा गया

दिल्ली की एक अदालत ने जेएनयू के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद को उत्तरी पूर्वी दिल्ली में हुए हिन्दू-विरोधी हिंसा से संबंधित एक मामले में 22 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा है।

ड्रग्स और बॉलीवुड: बड़े सितारों की चुप्पी बहुत कुछ कहती है – अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti speaks on Silent Bollywood and...

बॉलीवुड के नशेड़ियों को सही साबित करने के लिए भगवान शिव पर एक टिप्पणी आई है और इसके जरिए ड्रग सेवन को सही साबित करने का प्रयास हुआ है।

‘यदि मैं छत से लटकी मिली, तो याद रखें कि मैंने आत्महत्या नहीं की है’ – पायल घोष का डर इंस्टाग्राम पर

अनुराग कश्यप के खिलाफ सेक्शुअल मिसकंडक्ट के आरोप लगाने वाली पायल घोष ने उनके ख‍िलाफ रेप की श‍िकायत दर्ज करवाई। इसके बाद...

व्यंग्य: बकैत कुमार कृषि बिल पर नाराज – अजीत भारती का वीडियो | Bakait Kumar doesn’t like farm bill 2020

बकैत कुमार आए दिन देश के युवाओं के लिए नोट्स बना रहे हैं, तब भी बदले में उन्हें केवल फेसबुक पर गाली सुनने को मिलती है।

‘गिरती TRP से बौखलाए ABP पत्रकार’: रिपब्लिक टीवी के रिपोर्टर चुनाव विश्लेषक प्रदीप भंडारी को मारा थप्पड़

महाराष्ट्र के मुंबई से रिपोर्टिंग करते हुए रिपब्लिक टीवी के पत्रकार और चुनाव विश्लेषक प्रदीप भंडारी को एबीपी के पत्रकार मनोज वर्मा ने थप्पड़ जड़ दिया।

‘काफिरों का खून बहाना होगा, 2-4 पुलिस वालों को भी मारना होगा’ – दिल्ली दंगों के लिए होती थी मीटिंग, वहीं से खुलासा

"हम दिल्ली के मुख्यमंत्री पर दबाव डालें कि वह पूरी हिंसा का आरोप दिल्ली पुलिस पर लगा दें। हमें अपने अधिकारों के लिए सड़कों पर उतरना होगा।”

मैं मुन्ना हूँ: उपन्यास पर मसान फिल्म के निर्माता मनीष मुंद्रा ने स्कैच के जरिए रखी अपनी कहानी

मसान और आँखों देखी फिल्मों के प्रोड्यूसर मनीष मुंद्रा, जो राष्ट्रीय पुरुस्कार प्राप्त निर्माता निर्देशक हैं, ने 'मैं मुन्ना हूँ' उपन्यास को लेकर एक स्केच बना कर ट्विटर किया है।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
77,999FollowersFollow
323,000SubscribersSubscribe
Advertisements