स्टार कैम्पेनर्स की लिस्ट से बाहर शीला के बेटे संदीप दीक्षित, कहा- ये वरिष्ठ नेताओं की करतूत

"अखिल भारतीय कॉन्ग्रेस कमेटी (AICC) से लेकर दिल्ली कॉन्ग्रेस को संभालने वालों से मेरा गहरा विवाद है। मैं सुभाष चोपड़ा के बारे में बात नहीं करता हूँ, इसलिए मुझे नहीं लगता कि मुझे वहाँ से फोन आएगा, लेकिन मैंने हमेशा कॉन्ग्रेस के लिए काम किया है और जरूरत पड़ने पर काम करता रहूँगा।"

दिल्ली विधानसभा चुनाव के बीच एक बार फिर कॉन्ग्रेस नेताओं की आपसी लड़ाई सतह पर आती दिख रही है। महाराष्ट्र और हरियाणा के बाद अब दिल्ली विधानसभा चुनाव में भी कॉन्ग्रेस के नेताओं ने एक दूसरे पर आरोप लगाना शुरू कर दिया है। दिल्ली यूनिट के दिग्गज नेता और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित ने बिना नाम लिए पार्टी के कुछ सीनियर नेताओं पर अपनी भड़ास निकाली।

दरअसल, दिल्ली में कॉन्ग्रेस के स्टार प्रचारकों में नाम नहीं होने पर संदीप दीक्षित ने कड़ी नाराजगी जताई है। बता दें कि कॉन्ग्रेस पार्टी अपने 40 स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी कर चुकी है। इस लिस्ट में पार्टी के दिग्गज नेता संदीप दीक्षित का नाम शामिल नहीं है। इस पर उन्होंने कॉन्ग्रेस के ऊपर तंज कसा है और कहा है कि वह पार्टी के बड़े नेता नहीं हैं।

संदीप दीक्षित ने कहा, “मैं कॉन्ग्रेस का स्टार प्रचारक नहीं हूँ। मैं दिल्ली के मुद्दों को बहुत करीबी से नहीं जानता हूँ। मैं पार्टी का बड़ा नेता नहीं हूँ।” आगे उन्होंने कहा, “अखिल भारतीय कॉन्ग्रेस कमेटी (AICC) से लेकर दिल्ली कॉन्ग्रेस को संभालने वालों से मेरा गहरा विवाद है। मैं सुभाष चोपड़ा के बारे में बात नहीं करता हूँ, इसलिए मुझे नहीं लगता कि मुझे वहाँ से फोन आएगा, लेकिन मैंने हमेशा कॉन्ग्रेस के लिए काम किया है और जरूरत पड़ने पर काम करता रहूँगा।” संदीप दीक्षित ने कहा कि उनकी माँ और दिल्‍ली की पूर्व मुख्‍यमंत्री शीला दीक्षित के पार्टी और दिल्‍ली को दिए गए योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। दिल्‍ली और कॉन्ग्रेस के लिए शीला दीक्षित ने बहुत कुछ किया है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि दिल्ली में कॉन्ग्रेस की जीत सुनिश्चित करने के लिए गाँधी परिवार के तीनों दिग्गज सोनिया, राहुल और प्रियंका मैदान में उतरेंगे। वहीं दिल्ली कॉन्ग्रेस के नेताओं में सुभाष चोपड़ा, पीसी चाको, उदित राज, कीर्ति आजाद, अजय माकन को भी स्टार प्रचारकों की लिस्ट में शामिल किया गया है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, मध्यप्रदेश के सीएम कमलनाथ, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल भी दिल्ली चुनाव के लिए प्रचार करेंगे। इसके अलावा पूर्व क्रिकेटर-सांसद और मौजूदा विधायक नवजोत सिंह सिद्धू समेत कई मशहूर नेता शामिल हैं।

उल्लेखनीय है कि कॉन्ग्रेस 70 सदस्यीय विधानसभा में 66 सीटों पर चुनाव लड़ेगी चार सीटें उसने सहयोगी राजद के लिए छोड़ी हैं। दिल्ली विधानसभा चुनावों के लिए 8 फरवरी को मतदान होना है। इसके लिए सभी पार्टियाँ जोर-शोर के साथ नामांकन के लिए जुट गई हैं। वहीं 11 फरवरी को नतीजे आने के बाद ये साफ हो जाएगा कि दिल्ली की सत्ता किस पार्टी के हाथ में जाने वाली है।   

दिल्ली विधानसभा चुनाव-2020: BJP ने जारी की 57 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, 11 अनुसूचित, 4 महिलाएँ शामिल

भारत माता से आज़ादी, कश्मीर से आज़ादी के नारे CAA प्रोटेस्ट में क्यों: कॉन्ग्रेस के बड़े नेता ने दागा सवाल

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 का ऐलान: 8 को मतदान, 11 फरवरी को घोषित होंगे नतीजे

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

मोदी, उद्धव ठाकरे
इस मुलाकात की वजह नहीं बताई गई है। लेकिन, सीएम बनने के बाद दिल्ली की अपनी पहली यात्रा पर उद्धव ऐसे वक्त में आ रहे हैं जब एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार के साथ अनबन की खबरें चर्चा में हैं। इससे महाराष्ट्र में राजनीतिक सरगर्मियॉं अचानक से तेज हो गई हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,901फैंसलाइक करें
42,179फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: