Sunday, April 14, 2024
HomeराजनीतिBJP ने नहीं दिया टिकट तो कॉन्ग्रेस में गए उदित राज; हटाया, लगाया, फिर...

BJP ने नहीं दिया टिकट तो कॉन्ग्रेस में गए उदित राज; हटाया, लगाया, फिर हटाया ‘चौकीदार’

कॉन्ग्रेस दिल्ली के सातों सीटों से उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर चुकी है, ऐसे में उदित राज के दिल्ली से चुनाव लड़ने की सम्भावना नहीं ही है। अब देखना है कि कॉन्ग्रेस में उन्हें कौन सा पद दिया जाता है।

नॉर्थ वेस्ट दिल्ली से भाजपा के टिकट पर सांसद बने उदित राज कॉन्ग्रेस में शामिल हो गए हैं। भाजपा ने मंगलवार (अप्रैल 23, 2019) को उदित राज का टिकट काट दिया था। नॉर्थ वेस्ट सीट के लिए टिकट जारी करने में हुई देरी के बाद से ही उदित राज पार्टी से नाराज़ चल रहे थे। उन्होंने पहले ही ऐलान कर दिया था कि अगर उन्हें टिकट नहीं मिलता है तो वो भाजपा को ‘गुड बाई’ कह देंगे। टिकट काटने के बाद उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट से अपने नाम से ‘चौकीदार’ शब्द हटा लिया था। इसके बाद कल दोपहर तक उन्होंने फिर से अपने नाम में ‘चौकीदार’ लगा लिया। तब लोगों को लगा कि सब कुछ ठीक हो गया है और उदित राज मान गए हैं। लेकिन अब उनके कॉन्ग्रेस में शामिल होने की ख़बर आ रही है। वैसे उदित राज ने पहले ही बयान देते हुए कहा था कि उन्हें राहुल गाँधी और केरीवाल ने टिकट कटने को लेकर पहले ही आगाह किया था।

इससे पता चलता है कि वो शायद पहले से ही आम आदमी पार्टी और कॉन्ग्रेस के साथ संपर्क में थे। नॉर्थ वेस्ट दिल्ली से भाजपा ने पंजाबी गायक व सूफी संगीत के लिए प्रसिद्ध हंस राज हंस को अपना उम्मीदवार बनाया है। हंस राज हंस ‘सिली-सिली हवा’, ‘दिल टोटे-टोटे’ और ‘नित खैर मँगा’ जैसे चार्टबस्टर गानों के लिए ख़ासे लोकप्रिय हैं। हंस राज हंस को संगीत के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए पद्मश्री भी मिल चुका है। वाल्मीकि समुदाय से आने वाले हंस राज हंस कॉन्ग्रेस से भाजपा में आए हैं। उन्हें टिकट देने के लिए भाजपा ने उदित राज का टिकट काटा है। उदित राज के टिकट कटने के पीछे कई वजहें थी।

उदित राज लगातार विवादित बयान देकर चर्चा में रहे हैं। उन्होंने कॉन्ग्रेस में शामिल होने के बाद कहा कि उन्हें अब ख़ुशी का अनुभव हो रहा है। चूँकि कॉन्ग्रेस दिल्ली के सातों सीटों से उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर चुकी है, ऐसे में उदित राज के दिल्ली से चुनाव लड़ने की सम्भावना नहीं ही है। अब देखना है कि कॉन्ग्रेस में उन्हें कौन सा पद दिया जाता है।

नॉर्थ-वेस्ट दिल्ली से हंस राज हंस का मुक़ाबला कॉन्ग्रेस उम्मीदवार राजेश लिलोठिया से होगा। आम आदमी पार्टी से गठबंधन के विरोधी रहे लिलोठिया दिल्ली कॉन्ग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष भी हैं। आप से यहाँ गुगन सिंह लड़ रहे हैं जो 2017 में भाजपा छोड़कर आम आदमी पार्टी में शामिल हुए थे। जालंधर से ताल्लुक रखने वाले हंस राज हंस ने 2016 के अंत में भाजपा जॉइन की थी। उन्होंने कॉन्ग्रेस में शामिल होने के कुछ महीनों बाद ही उसे छोड़कर भाजपा जॉइन की थी। भाजपा में शामिल होने के बाद हंस राज हंस ने कहा था, “मेरी इमेज के हिसाब से जहाँ मेरी ड्यूटी लगाई जाएगी, वहाँ करूँगा। जहाँ मोदी जी हैं, कमजोरी नहीं हो सकती। वह बब्बर शेर हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BJP की तीसरी बार ‘पूर्ण बहुमत की सरकार’: ‘राम मंदिर और मोदी की गारंटी’ सबसे बड़ा फैक्टर, पीएम का आभामंडल बरकार, सर्वे में कहीं...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी तीसरी बार पूर्ण बहुमत की सरकार बनाती दिख रही है। नए सर्वे में भी कुछ ऐसे ही आँकड़े निकलकर सामने आए हैं।

‘राष्ट्रपति आदिवासी हैं, इसलिए राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में नहीं बुलाया’: लोकसभा चुनाव 2024 में राहुल गाँधी ने फिर किया झूठा दावा

राष्ट्रपति मुर्मू को राम मंदिर ट्रस्ट का प्रतिनिधित्व करने वाले एक प्रतिनिधिमंडल ने अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए औपचारिक रूप से आमंत्रित किया गया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe