Wednesday, August 4, 2021
Homeराजनीतिबंगाल के बाद तमिलनाडु में भी सियासी हिंसा, DMK कार्यकर्ताओं ने अम्मा कैंटीन में...

बंगाल के बाद तमिलनाडु में भी सियासी हिंसा, DMK कार्यकर्ताओं ने अम्मा कैंटीन में की तोड़फोड़: वीडियो वायरल

अन्ना द्रमुक ने सत्ता परिवर्तन के बाद राजनीतिक हिंसा की कुछ तस्वीरें और वीडियो अपने ट्वीटर अकाउंट पर शेयर किया है। वीडियो में तीन आदमी और एक लड़का कैंटीन परिसर के भीतर और बाहर लगे बैनर और पोस्टर उखाड़ने के साथ वहाँ तोड़फोड़ करते हुए दिखाई दे रहे हैं।

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कॉन्ग्रेस (टीएमसी) के जीतने के बाद बीजेपी दफ्तर में तोड़फोड़, आगजनी और उसके कार्यकर्ताओं पर हमला किया गया। अब तमिलनाडु में भी ऐसा ही मामला सामने आया है। द्रमुक (DMK) के लोगों पर आरोप है कि उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के नाम पर चलाई जा रही अम्मा कैंटीन में तोड़फोड़ की।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, अन्ना द्रमुक (AIADMK) का आरोप है कि कैंटीन में तोड़फोड़ राजनीतिक प्रतिशोध के चलते ​की गई। पार्टी ने वीडियो के हवाले से पहले के डीएमके शासनकाल में कानून-व्यवस्था के हाल की याद दिलाई है।

अन्ना द्रमुक ने सत्ता परिवर्तन के बाद राजनीतिक हिंसा की कुछ तस्वीरें और वीडियो अपने ट्वीटर अकाउंट पर शेयर किया है। वीडियो में तीन आदमी और एक लड़का कैंटीन परिसर के भीतर और बाहर लगे बैनर और पोस्टर उखाड़ने के साथ वहाँ तोड़फोड़ करते हुए दिखाई दे रहे हैं। वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद द्रमुक (DMK) कार्यकर्ताओं को पार्टी से बाहर निकाल दिया गया है।

इन बोर्डों पर तमिल भाषा में “अम्मा कैंटीन” लिखा हुआ है। साथ ही उन पर वहाँ परोसे जाने जाने व्यंजनों की भी जानकारी दी गई है। इस कैंटीन में गरीबों को सस्ते दामों में भरपेट भोजन मिलता था। तोड़फोड़ की घटना सामने आते ही एआईएडीएमके (AIADMK) समर्थकों ने इस पर नाराजगी जताते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की माँग की है।

वहीं, द्रमुक नेता और चेन्नई के पूर्व महापौर मा. सुब्रमण्यम ने कहा कि आज हमें खबर मिली कि अम्मा कैंटीन में तोड़फोड़ की गई है। हमें पता चला है कि इसमें 2 लोग शामिल थे। ये दोनों केवल साधारण DMK कैडर हैं, वे पार्टी में किसी पद पर नहीं थे। विधायक ने बताया कि पार्टी ने उनके विरुद्ध पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है और दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

बता दें कि तमिलनाडु की राजनीति में AIADMK कई दशकों तक सत्ता पर काबिज रही है, लेकिन इस तरह की हिंसक खबरें अब तक सामने नहीं आईं। इस बार चुनावी नतीजे घोषित होने के बाद डीएमके के सीएम कैंडिडेट एमके स्टालिन को निवर्तमान मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने बधाई भी दी थी। लेकिन अम्मा कैंटीन में हुए इस हमले के बाद दोनों दलों के बीच एक बार फिर बढ़ सकती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘धर्म में मेरा भरोसा, कर्म के अनुसार चाहता हूँ परिणाम’: कोरोना से लेकर जनसंख्या नियंत्रण तक, सब पर बोले CM योगी

सपा-बसपा को समाजिक सौहार्द्र के बारे में बात करने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि उनका इतिहास ही सामाजिक द्वेष फैलाने का रहा है।

ईसाई बने तो नहीं ले सकते SC वर्ग के लिए चलाई जा रही केंद्र की योजनाओं का फायदा: संसद में मोदी सरकार

रिपोर्ट्स बताती हैं कि आंध्र प्रदेश में ईसाई धर्म में कन्वर्ट होने वाले 80 प्रतिशत लोग SC वर्ग से आते हैं, जो सभी तरह की योजनाओं का लाभ उठाते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,945FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe