Friday, July 30, 2021
Homeराजनीति15000 स्कूलों पर फोकस, 100 नए सैनिक स्कूल, लेह में केंद्रीय विश्वविद्यालय: बजट 2021...

15000 स्कूलों पर फोकस, 100 नए सैनिक स्कूल, लेह में केंद्रीय विश्वविद्यालय: बजट 2021 में शिक्षा पर विशेष ध्यान

आदिवासी और जनजातीय क्षेत्रों में शिक्षा के लिए एकलव्य स्कूलों को 38 करोड़ रुपए मुहैया कराए गए हैं। युवाओं के प्रशिक्षण के लिए बजट बढ़ाने का प्रस्ताव, इससे युवाओं को रोजगार के ज्यादा मौके मिलेंगे।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार (फ़रवरी 1, 2021) को संसद में आम बजट पेश किया। उन्होंने नए केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख की राजधानी लेह में केंद्रीय विश्वविद्यालय की घोषणा की। शिक्षा क्षेत्र में 15,000 नए स्कूलों को और मजबूत किया जाएगा। साथ ही 100 नए सैनिक स्कूलों की भी स्थापना की जाएगी। आदिवासी क्षेत्रों में नए विद्यालय खुलेंगे। उच्च-शिक्षा के लिए एक संस्था का गठन होगा, जिसके लिए नए नियम बनेंगे।

बजट में नई शिक्षा नीति पर भी बात की गई और कहा गया कि इससे अब तक अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। इस सम्बन्ध में विचार-विमर्श की एक बड़ी प्रक्रिया भी अपनाई गई है, जिस कारण इसे अच्छी प्रतिक्रिया मिली। जो 100 नए सैनिक स्कूल स्थापित किए जाने हैं, उसके लिए NGOs, राज्य सरकारों और प्राइवेट स्कूलों के साथ परस्पर सहयोग करते हुए संभव होगा। साथ ही ‘एजुकेशन फॉर ऑल’ की बात भी की गई।

आदिवासी और जनजातीय क्षेत्रों में शिक्षा के लिए एकलव्य स्कूलों को 38 करोड़ रुपए मुहैया कराए गए हैं। साथ ही युवाओं के प्रशिक्षण के लिए भी बजट बढ़ाने का भी प्रस्ताव किया गया। इससे युवाओं को रोजगार के ज्यादा मौके मिलेंगे। जिन नए 15,000 स्कूलों को और मजबूत व साधन संपन्न किया जाना है, उन्हें नई शिक्षा नीति के हिसाब से विकसित किया जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तालिबान की मददगार पाकिस्तानी फौज, ढेर कर अफगान सेना ने दुनिया को दिखाए सबूत: भारत के बनाए बाँध को भी बचाया

अफगानिस्तान की सेना ने तालिबान को कई मोर्चों पर पीछे धकेल दिया है। उनकी मदद करने वाले पाकिस्तानी फौज से जुड़े कई लड़ाकों को भी मार गिराया है।

स्वतंत्र है भारतीय मीडिया, सूत्रों से बनी खबरें मानहानि नहीं: शिल्पा शेट्टी की याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट

कोर्ट ने कहा कि उनका निर्देश मीडिया रिपोर्ट्स को ढकोसला नहीं बताता। भारतीय मीडिया स्वतंत्र है और सूत्रों पर बनी खबरें मानहानि नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,014FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe