Tuesday, May 21, 2024
Homeराजनीतिबंगाल चुनावी हिंसा में मारे गए BJP कार्यकर्ताओं के परिवार होंगे PM मोदी के...

बंगाल चुनावी हिंसा में मारे गए BJP कार्यकर्ताओं के परिवार होंगे PM मोदी के शपथ ग्रहण समारोह के ख़ास अतिथि

पार्टी अपने कार्यकर्ताओं व उनकी परिवारों को यह सन्देश देना चाहती है कि उन्हें डरने की ज़रूरत नहीं है, भाजपा का शीर्ष नेतृत्व उनके सुख-दुःख में साथ खड़ा है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के शपथ ग्रहण का आधिकारिक समय गुरुवार (मई 30, 2019) को शाम 7 बजे तय किया गया है। राष्ट्रपति भवन के जयपुर गेट के पास आयोजित इस कार्यक्रम में 7000 लोगों के शिरकत करने की बात कही जा रही है। पश्चिम बंगाल में 2021 में विधानसभा चुनाव होने हैं और भाजपा ने इस बीच एक ऐसा निर्णय लिया है, जिससे पार्टी के कार्यकर्ताओं में अच्छा सन्देश जा रहा है। दरअसल, भाजपा ने बंगाल में चुनावों के दौरान हुई हिंसा में मारे गए कार्यकर्ताओं के परिवारों को भी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का न्यौता दिया है।पश्चिम बंगाल में पिछले साल हुए पंचायत चुनाव और इस साल हुए लोकसभा चुनाव के दौरान कई भाजपा कार्यकर्ताओं की जानें गई हैं।

भाजपा ने उन कार्यकर्ताओं को सम्मान देने का निर्णय लेते हुए उनके परिवारों को मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित किया है। इन कार्यकर्ताओं के परिवारों को भाजपा पदाधिकारियों की देखरेख में ट्रेन से दिल्ली लाया जाएगा। ये पदाधिकारी दिल्ली में भी इन लोगों का ख्याल रखेंगे। जिन कार्यकर्ताओं के परिवारों को आमंत्रित किया गया है, उनमें से 46 ऐसे हैं, जो पिछले वर्ष हुए पंचायत चुनावों के दौरान हुई राजनीतिक हिंसा में मारे गए थे। इनमें 5 ताज़ा लोकसभा चुनाव के दौरान हुई हिंसा में मारे गए कार्यकर्ताओं के परिवार हैं। दिल्ली में इन परिवारों के ठहरने और खाने-पीने की व्यवस्था भी पार्टी ही कर रही है।

मारे गए कार्यकर्ताओं में से अधिकतर बैरकपुर, कृष्णानगर, नदिया, पुरुलिया, मालदा, बाँकुरा, मिदनापुर, झरगाम और वीरभूम के रहने वाले थे। इनमें से कुछ कार्यकर्ताओं के परिवारों ने दिल्ली भाजपा मुख्यालय आकर अपनी पूरी आपबीती सुनाई थी। उन्होंने बताया था कि कैसे वह अब भी डर के साए में जी रहे हैं। भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि इस क़दम से पार्टी अपने कार्यकर्ताओं व उनकी परिवारों को यह सन्देश देना चाहती है कि उन्हें डरने की ज़रूरत नहीं है, भाजपा का शीर्ष नेतृत्व उनके सुख-दुःख में साथ खड़ा है। भाजपा लगातार कहती आ रही है कि 2018 में हुए पंचायत चुनाव से लेकर अब तक बंगाल में उनके 68 कार्यकर्ता मारे जा चुके हैं।

पिछले वर्ष हुए पंचायत चुनाव में 20,000 सीटों पर तृणमूल के प्रत्याशी निर्विरोध जीत गए थे। इससे पहले 2014 के लोकसभा चुनाव में राज्य में भाजपा का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा था और पार्टी को मात्र 2 सीटें आई थीं। उस चुनाव में राज्य में भाजपा का वोट शेयर 17% था। लेकिन, 2019 लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 18 सीटें जीत कर सबको चौंका दिया है। इस वर्ष पार्टी का वोट शेयर भी बढ़ कर 40% के क़रीब पहुँच गया है। मृत कार्यकर्ताओं के परिवारों का इस समारोह में शामिल होना इसीलिए भी अहम है क्योंकि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी इसमें शामिल होने वाली हैं।

तृणमूल सुप्रीमो ने कहा कि उन्होंने अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात की है और वे सभी पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने वाले हैं। उन्होंने कहा कि चूँकि यह एक समारोह है, इसमें वह जाएँगी। बता दें कि चुनाव के दौरान ममता ने कहा था कि फ़ोनी तूफ़ान के लिए वह मोदी से इसीलिए नहीं मिलीं क्योंकि वह उन्हें प्रधानमंत्री नहीं मानतीं। पूरे चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और ममता बनर्जी के बीच बड़ी खींचतान देखने को मिली।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -