Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजफ़ारूख़ अब्दुल्ला ने राम मंदिर पर दिया बेहद भावनात्मक बयान- कहा इजाज़त मिलने पर...

फ़ारूख़ अब्दुल्ला ने राम मंदिर पर दिया बेहद भावनात्मक बयान- कहा इजाज़त मिलने पर खुद लगाऊँगा मंदिर की ईंट

एक तरफ जहां कुछ लोग राम मंदिर बनने पर विवाद खड़ा कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस पार्टी के नेता फ़ारूख़ अब्दुल्ला ने एक ऐसा बयान दिया है, जो भड़कते हुए रामभक्तों को सुकून देने वाला है।

जी हाँ, फारूक अब्दुल्लाह का कहना है कि राम मंदिर एक ऐसा मसला है, जिसे बातचीत करके सुलझाया जा सकता है। उनकी मानें तो राम मंदिर मसले को कोर्ट तक कभी जाना ही नहीं चाहिए था। फ़ारुख़ अब्दुल्ला के कथानुसार प्रभु राम सिर्फ हिंदुओं के नहीं हैं, बल्कि भगवान राम सभी के हैं।

अब्दुल्ला ने ये भी कहा कि भगवान राम से किसी को बैर नहीं है और न ही होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें इस मामले को सुलझाने की और मंदिर को बनाने की कोशिश करनी चाहिए। साथ ही फ़ारुख़ अब्दुल्ला ने इस बात को भी कहा कि जिस दिन भी राम मंदिर बनने के लिए तैयार होगा, उस दिन राम मंदिर की ईंट वो स्वयं रखेंगे।

फ़ारूख़ अब्दुल्ला ने बीते साल नवंबर में एएनआई को दिए इंटरव्यू में राम मंदिर पर एक और बयान दिया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि वो मंदिर के खिलाफ नहीं है, लेकिन राम मंदिर सिर्फ अयोध्या में ही क्यों बनाया जाए? भगवान राम पूरे विश्व के हैं, ऐसे में अयोध्या में ही मंदिर क्यों बनें?

फ़ारूख़ अब्दुल्ला का ये बयान उस समय आया है, जब सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोध्या मामले पर सुनाई की जाने वाली थी, लेकिन आज उसे 10 जनवरी 2019 तक के लिए टाल दिया गया। 10 जनवरी को इस मामले पर नई पीठ द्वारा सुनवाई की जाएगी। दरअसल, इस मामले पर पहले पूर्व चीफ़ जस्टिस दीपक मिश्रा की तीन अध्यक्षता वाली पीठ सुनवाई कर रही थी। जिसकी वजह से इस मसले पर दो सदस्यों की बेंच विस्तार से सुनवाई नहीं कर सकती है, इसलिए इस मुद्दे पर तीन या फिर उससे अधिक जजों की बेंच ही सुनवाई करेगी।

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट 30 सिंतबर 2010 को इलाहाबाद हाइकोर्ट में सुनाए गए फैसले के खिलाफ दायर की गई 14 अपीलों पर सुनवाई करेगा। इस मामले में राम मंदिर मामले पर वकील हरिनाथ राम और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावेड़कर ने रोज़ाना के आधार पर सुनवाई करने की भी मांग की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

बकरीद की ढील का दिखने लगा असर? केरल में 1 दिन में कोरोना संक्रमण के 22129 केस, 156 मौतें भी

पूरे देश भर में रिपोर्ट हुए कोविड केसों में 53 % मामले अकेले केरल से आए हैं। भारत में कुल मामले जहाँ 42, 917 रिपोर्ट हुए। वहीं राज्य में 1 दिन में 22129 केस आए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,634FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe