Thursday, February 22, 2024
Homeदेश-समाजफ़ारूख़ अब्दुल्ला ने राम मंदिर पर दिया बेहद भावनात्मक बयान- कहा इजाज़त मिलने पर...

फ़ारूख़ अब्दुल्ला ने राम मंदिर पर दिया बेहद भावनात्मक बयान- कहा इजाज़त मिलने पर खुद लगाऊँगा मंदिर की ईंट

एक तरफ जहां कुछ लोग राम मंदिर बनने पर विवाद खड़ा कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस पार्टी के नेता फ़ारूख़ अब्दुल्ला ने एक ऐसा बयान दिया है, जो भड़कते हुए रामभक्तों को सुकून देने वाला है।

जी हाँ, फारूक अब्दुल्लाह का कहना है कि राम मंदिर एक ऐसा मसला है, जिसे बातचीत करके सुलझाया जा सकता है। उनकी मानें तो राम मंदिर मसले को कोर्ट तक कभी जाना ही नहीं चाहिए था। फ़ारुख़ अब्दुल्ला के कथानुसार प्रभु राम सिर्फ हिंदुओं के नहीं हैं, बल्कि भगवान राम सभी के हैं।

अब्दुल्ला ने ये भी कहा कि भगवान राम से किसी को बैर नहीं है और न ही होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें इस मामले को सुलझाने की और मंदिर को बनाने की कोशिश करनी चाहिए। साथ ही फ़ारुख़ अब्दुल्ला ने इस बात को भी कहा कि जिस दिन भी राम मंदिर बनने के लिए तैयार होगा, उस दिन राम मंदिर की ईंट वो स्वयं रखेंगे।

फ़ारूख़ अब्दुल्ला ने बीते साल नवंबर में एएनआई को दिए इंटरव्यू में राम मंदिर पर एक और बयान दिया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि वो मंदिर के खिलाफ नहीं है, लेकिन राम मंदिर सिर्फ अयोध्या में ही क्यों बनाया जाए? भगवान राम पूरे विश्व के हैं, ऐसे में अयोध्या में ही मंदिर क्यों बनें?

फ़ारूख़ अब्दुल्ला का ये बयान उस समय आया है, जब सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोध्या मामले पर सुनाई की जाने वाली थी, लेकिन आज उसे 10 जनवरी 2019 तक के लिए टाल दिया गया। 10 जनवरी को इस मामले पर नई पीठ द्वारा सुनवाई की जाएगी। दरअसल, इस मामले पर पहले पूर्व चीफ़ जस्टिस दीपक मिश्रा की तीन अध्यक्षता वाली पीठ सुनवाई कर रही थी। जिसकी वजह से इस मसले पर दो सदस्यों की बेंच विस्तार से सुनवाई नहीं कर सकती है, इसलिए इस मुद्दे पर तीन या फिर उससे अधिक जजों की बेंच ही सुनवाई करेगी।

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट 30 सिंतबर 2010 को इलाहाबाद हाइकोर्ट में सुनाए गए फैसले के खिलाफ दायर की गई 14 अपीलों पर सुनवाई करेगा। इस मामले में राम मंदिर मामले पर वकील हरिनाथ राम और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावेड़कर ने रोज़ाना के आधार पर सुनवाई करने की भी मांग की है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘108 अवैध मजारें जमींदोज, बाकी के लिए बुलडोजर तैयार’: गुजरात के गृह मंत्री ने याद दिलाया- कॉन्ग्रेस ने कैसे मंदिर से हटवाई थी मूर्तियाँ

गुजरात के गृह राज्य मंत्री हर्ष सांघवी ने कहा है कि उनके राज्य में अब तक 108 अवैध मजार जमींदोज कर गई हैं, बाकी अवैध इमारतों को गिराने के लिए भी बुलडोजर तैयार है।

आक्रांताओं की हिंसा से बचाने के लिए देवी-देवताओं, महिलाओं को घर में लाया गया… राम मंदिर से महिलाएँ फिर होंगी स्वतंत्र-सुरक्षित

श्री राम और राम राज्य इस बात पर प्रकाश डालते हैं कि हिंसा सनातन संस्कृति का हिस्सा नहीं थी। राम मंदिर से समाज में यह बात फिर से घर करेगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe